13 साल छोटी बॉक्सर को हरा कर छठी बार विश्व चैंपियन बनीं मैरी कॉम, छलक पड़े आंसू

 मुकाबला जीतने के बाद मैरी कॉम काफी भावुक हो गयीं और खुशी की वजह से उनके आंसू थम नहीं रहे थे. 

 मुकाबला जीतने के बाद मैरी कॉम काफी भावुक हो गयीं और खुशी की वजह से उनके आंसू थम नहीं रहे थे. उन्होंने इस पदक को देश को समर्पित किया. 

1/6

‘मैग्नीफिशेंट मेरी’ ने क्यूबा के महान पुरूष मुक्केबाज फेलिक्स सेवोन की बराबरी कर ली

मैरी कॉम, Mary Kom, Hanna Okhota, Gold Medal

भारत की दिग्गज खिलाड़ी एमसी मैरी कॉम (48 किग्रा) ने अपने अनुभव के बूते शनिवार को यहां केडी जाधव हाल में दसवीं महिला विश्व मुक्केबाजी चैम्पियनशिप के फाइनल में यूक्रेन की युवा हाना ओखोटा को 5-0 से पस्त कर रिकार्ड छठा स्वर्ण पदक अपनी झोली में डाला. ‘मैग्नीफिशेंट मेरी’ ने इस तरह क्यूबा के महान पुरूष मुक्केबाज फेलिक्स सेवोन की बराबरी कर ली जो विश्व चैम्पियनशिप में छह खिताब जीत चुके हैं. 

2/6

मुकाबला जीतने के बाद मैरी कॉम काफी भावुक हो गयीं

मैरीकॉम

इससे पहले वह आयरलैंड की केटी टेलर के साथ बराबरी पर थी जो पांच बार विश्व चैम्पियन रह चुकी हैं. मैरी कॉम ने खचाखच भरे स्टेडियम में घरेलू दर्शकों के सामने दूसरा स्वर्ण पदक हासिल किया. यह उनका विश्व चैम्पियनशिप में सातवां पदक है, इससे पहले वह पांच स्वर्ण और एक रजत जीत चुकी थी. मुकाबला जीतने के बाद मैरी कॉम काफी भावुक हो गयीं और खुशी की वजह से उनके आंसू थम नहीं रहे थे. उन्होंने इस पदक को देश को समर्पित किया. 

3/6

मैरी कॉम ने अपने से 13 साल छोटी हाना को 5 – 0 से पराजित किया

Hanna Okhota, Gold Medal, AIBA Women's World Boxing Championships, मैरीकॉम

लंदन ओलंपिक की कांस्य पदकधारी मैरी कॉम को निश्चित रूप से अपार अनुभव का फायदा मिला. उन्होंने कोच की रणनीति के अनुसार खेलते हुए लाइट फ्लाईवेट फाइनल में अपने से 13 साल छोटी हाना को 5 – 0 से पराजित किया जो युवा यूरोपीय चैम्पियनशिप की कांस्य पदक विजेता है. मैरी कॉम ने हाल में सितंबर में पोलैंड में हुई सिलेसियान मुक्केबाजी चैम्पियनशिप के सेमीफाइनल में यूक्रेन की इस मुक्केबाज को हराकर फाइनल में प्रवेश कर स्वर्ण पदक हासिल किया था.  

4/6

स्टेडियम में बैठा हर व्यक्ति मैरी कॉम का उत्साह बढ़ा रहा था.

मैरी कॉम, Mary Kom, Hanna Okhota

मणिपुर की इस मुक्केबाज ने अपने सटीक और ताकतवर मुक्कों की बदौलत पांचों जज से 30-27, 29-28, 29-28, 30-27, 30-27 अंक हासिल किये. स्टेडियम में बैठा हर व्यक्ति इस दौरान पैंतीस वर्षीय मैरी कॉम का उत्साह बढ़ा रहा था. मुकाबले के पहले राउंड में मेरीकाम ने दायें हाथ से सीधा तेज पंच लगाकर शुरूआत की. इसके बाद उन्होंने विपक्षी खिलाड़ी को जरा भी मौका नहीं दिया और बीच बीच में तेजी से मुक्के जड़ते हुए पांचों जज से पूरे अंक हासिल किये.  इस दौरान दोनों एक दूसरे के ऊपर गिर भी गयी थी. 

5/6

मैरी कॉम ने शानदार पंच से विपक्षी का हौसला पस्त किया

मैरी कॉम, Mary Kom, Hanna Okhota, Gold Medal, AIBA Women's World Boxing

दूसरे राउंड में कोच की सलाह के बाद हाना ने आक्रामक होने की पूरी कोशिश की, पर पांच बार की विश्व चैम्पियन के सामने उनकी एक नहीं चली. हालांकि इसमें यूक्रेन की मुक्केबाज ने दायें हाथ से लगाये गये शानदार मुक्कों से कुछ बेहतरीन अंक जुटाये लेकिन वह मेरीकाम से आगे नहीं निकल सकीं. मैरी कॉम ने अपनी चिर परिचित शैली में खेलते हुए जानदार पंच से विपक्षी का हौसला पस्त करना जारी रखा. जो तीसरे राउंड में भी जारी रहा. 

6/6

भारतीय मुक्केबाज का जलवा कायम रहा

मैरी कॉम, Mary Kom, Hanna Okhota

इसमें भी भारतीय मुक्केबाज का जलवा कायम रहा, उन्होंने दबदबा जारी रखते हुए तेजी से कई पंच विपक्षी मुक्केबाज के मुंह पर जमा दिये.  ऐसा दिख रहा था कि विपक्षी मुक्केबाज उनके सामने निरूत्तर थी.  उसने कई बार जोरदार मुक्कों से वापसी का प्रयास किया, लेकिन अनुभवी मेरीकाम के पास उनकी हर चाल का जवाब था. (फोटो साभार -PTI Photo/Ravi Choudhary)