close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

भारत के युवाओं पर है ISI की नजर, हनी ट्रैप के जरिए करवा रही है जासूसी

यहां हम आपको एक-एक कर देश के सभी प्रमुख समाचार पत्रों की बड़ी खबर से रू-ब-रू करवाएंगे.

ज़ी न्यूज़ डेस्क | Sep 23, 2018, 08:38 AM IST

नई दिल्ली: यहां हम आपको एक-एक कर देश के सभी प्रमुख समाचार पत्रों की बड़ी खबर से रू-ब-रू करवाएंगे. रविवार के अखबारों की बात करें तो सभी अखबारों ने राफेल सौदे पर फैले विवाद की खबर को प्रमुखता के साथ प्रकाशित किया है.

1/5

आईएसआई के हनी ट्रैप में यूपी-दिल्ली के 150 युवा

Top news of hindi and english newspaper

हिन्दुस्तान: हिन्दुस्तान अखबार के रविवार के अंक में पहले पन्ने पर प्रमुखता के साथ प्रकाशित एक खबर में दावा किया गया है कि पाक खुफिया एजेंसी आईएसआई ने सैन्य ठिकानों और उनसे जुड़ी जरूरी जानकारियां जुटाने के लिए फेक आईडी के जरिये यूपी व दिल्ली के करीब 150 युवाओं को अपने जाल में फंसा रखा है. खबर में जानकारी दी गई है कि महिलाओं के नाम की फेक आईडी से इन युवाओं को भ्रमित कर जासूसी करवाई जा रही है. इसके साथ ही उन लोगों को कुछ 'मेहनताना' भी दिया जा रहा है. खबर के मुताबिक आईएसआई इन युवाओं के जरिए छावनी इलाके की फोटो, टैंकर नंबर, बिल्डिंग की फोटो मंगवा रही हैं. खबर में बताया गया है कि आईजी असीम अरुण ने इसकी पुष्टि की और कहा कि बीएसएफ सिपाही अच्यूतानंद के जासूसी में पकड़े जाने के बाद ऐसे कई तथ्य सामने आए हैं.

2/5

सेनाध्यक्ष रावत बोले-पाक को भी दर्द देने की जरूरत

Top news of hindi and english newspaper

दैनिक जागरण: दैनिक जागरण के रविवार के अंक में पहले पन्ने पर प्रकाशित एक खबर में बताया गया है कि सेनाध्यक्ष जनरल बिपिन रावत ने कहा है कि पाकिस्तान को उसकी बर्बरता का उचित समय पर जवाब दिया जाएगा. हमारी सेना पाक की तरह बर्बरता नहीं करेगी, लेकिन जवाब अवश्य देगी, क्योंकि उसे भी दर्द देने की जरूरत है. खबर के मुताबिक जनरल रावत ने शनिवार को जयपुर में पत्रकारों से बातचीत में कहा कि पाक के खिलाफ हमने कई कार्रवाई की हैं, लेकिन बर्बरता कभी नहीं की. हमारी कार्रवाई आगे भी जारी रहेगी. गौरतलब है कि पिछले दिनों पाकिस्तानी सैनिकों ने बीएसएफ जवान के शव के साथ बर्बरता की थी. खबर में जिक्र है कि जनरल रावत जयपुर में हाइफा दिवस के सौ साल पूरे होने के उपलक्ष में आयोजित कार्यक्रम में शामिल होने आए थे.

3/5

लोन वापस न करना कारोबारी को पड़ा महंगा

Top news of hindi and english newspaper

अमर उजाला: अमर उजाला के रविवार के अंक में पहले पन्ने पर प्रकाशित एक खबर में बताया गया है कि लोन रिकवरी के नाम पर एक फाइनेंस कंपनी के चार कर्मचारियों ने गुंडई की. खबर के मुताबिक उन्होंने दिल्ली के एक टेंट कारोबारी को कार समेत अगवा कर लिया और करीब 10 किमी दूर एक फार्म हाउस में ले जाकर बंधक बना लिया. खबर में यह जानकारी भी दी गई है कि कारोबारी से उन्होंने 95 हजार रुपये और लैपटॉप भी लूट लिया. खबर में आगे बताया गया है कि कारोबारी की शिकायत पर सिहानी गेट थाना पुलिस ने तीन को नामजद कर चार लोगों के खिलाफ लूट, अपहरण व मारपीट की धाराओं में रिपोर्ट दर्ज कर ली है. खबर में इस बात का भी जिक्र किया गया है कि यह वारदात दिल्ली के गाजीपुर निवासी हरीश गुप्ता के साथ हुई जो टेंट, कैटरिंग और इवेंट आर्गनाइजर हैं.

4/5

बहादुर बच्चे ने बहन को अगवा होने से बचाया

Top news of hindi and english newspaper

नवभारत टाइम्स: नवभारत टाइम्स के रविवार के अंक में पहले पन्ने पर प्रमुखता के साथ प्रकाशित की गई एक खबर में दावा किया गया है कि 12 साल के छोटे भाई की बहादुरी ने बड़ी बहन को अगवा करने आए कार सवार बदमाशों के हौसले पस्त कर दिए. खबर के मुताबिक बच्चे ने न सिर्फ बदमाशों पर हमला किया, बल्कि शोर मचाकर भीड़ को जुटाया, जिससे बदमाश भाग खड़े हुए. खबर में जानकारी दी गई है कि घटना फरीदाबाद के पटेल नगर इलाके की है जहां गुरुवार दोपहर पूजा के लिए पास के पार्क में फूल लेने गई 14 साल की बड़ी बहन को कारसवार तीन युवकों ने उठाने की कोशिश की. खबर में दी गई जानकारी के मुताबिक एक आरोपी युवक कार में बैठा रहा, जबकि दो युवक लड़की को पकड़कर कार में खींचने लगे. बहन की आवाज सुनकर पार्क में क्रिकेट खेल रहा छोटा भाई पहुंचा और बदमाशों से भिड़ गया.

5/5

H-4 वीजा धारकों को डोनाल्ड ट्रंप ने दिया झटका

Top news of hindi and english newspaper

राजस्थान पत्रिका: राजस्थान पत्रिका के रविवार के अंक में पहले पन्ने पर प्रकाशित एक खबर में बताया गया है कि अमरीका में रह रहे प्रवासी भारतीयों के सामने एक बड़ी मुसीबत खड़ी होने वाली है. खबर में जानकारी दी गई है कि ट्रंप प्रशासन ने H-4 वीजा धारकों के वर्क परमिट को वापस लेने का फैसला किया है. खबर के मुताबिक ट्रंप प्रशासन ने फेडरल कोर्ट से कहा है कि सरकार H-4 वीजा धारकों के वर्क परमिट को रद्द करना चाहती है. और यह प्रक्रिया अगले तीन महीनों में पूरी कर ली जाएगी. खबर में इस बात का भी दावा किया गया है कि ट्रंप प्रशासन का ये फैसला अगर लागू होता तो इसका सबसे ज्यादा असर भारतीयों पर पड़ेगा. आपको बता दें कि एच4 वीजा एच-1बी वीजा धारकों के परिजन (पत्नी-पति और 21 साल से कम आयु के बच्चों) को दिया जाता है.