close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

PHOTOS: केदारनाथ के कपाट भैयादूज को और बद्रीनाथ के कपाट 17 नवंबर को होंगे बंद

भगवान बद्रीनाथ के कपाट भी 17 नवम्बर को शाम 5 बजकर 13 मिनट पर भक्तों के लिए बन्द हो जाएंगे.

मनमोहन भट्ट | Oct 08, 2019, 14:16 PM IST

देहरादून: भगवान केदारनाथ के कपाट 29 अक्टूबर को भाई दूज को सुबह 8 बज कर 30 मिनट पर शीतकाल के लिये बंद किये जायेंगे. भगवान बद्रीनाथ के कपाट भी 17 नवम्बर को शाम 5 बजकर 13 मिनट पर भक्तों के लिए बन्द हो जाएंगे. दशहरे के मौके पर कपाट बंद किए जाने की तिथि विधि विधान से घोषित की गई. इस साल बद्रीनाथ और केदारनाथ यात्रा में रिकॉर्ड श्रद्धालु पहुंचे थे. सर्दियां शुरू होते भगवान बद्रीनाथ केदारनाथ के कपाट शीतकाल के लिए बंद कर दिए जाते हैं. ऐसी मान्यता है कि भक्तों के लिए कपाट बन्द होने के बाद शीतकाल में देवता भगवान की पूजा करते हैं. शीतकाल में भगवान बद्रीनाथ की उत्सव मूर्ति जोशीमठ में और भगवान केदारनाथ की ऊखीमठ में रखी जाती है. भगवान की पूजा अगले छह महीने तक इन्हीं जगहों पर होगी. 

1/5

श्रद्धालु बद्रीनाथ-केदारनाथ की यात्रा पर

Kedarnath Temple 2019

उत्तराखंड में चार धाम यात्रा पर आने वाले श्रद्धालुओं में सबसे ज्यादा श्रद्धालु बद्रीनाथ-केदारनाथ की यात्रा पर ही आते हैं. इस बार यात्रा कई मायनों में खास रही. कपाट खुलते ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी केदारनाथ धाम पहुंचे और यहां उन्होंने ध्यान गुफा में साधना की. इस ध्यान गुफा में आकर साधना करने के लिए इसके बाद कई लोग पहुंचे. 

2/5

उत्तराखंड में चार धाम यात्रा

Kedarnath Temple 2019

चार धाम यात्रा ने इस साल पुराने सारे रिकॉर्ड तोड़ डाले. केदारनाथ धाम में अब तक साढ़े नौ लाख भक्तों ने दर्शन किए जबकि बद्रीनाथ में ये आंकड़ा 11 लाख पार पहुंच गया है. 

3/5

केदारनाथ धाम में अब तक साढ़े नौ लाख भक्तों ने दर्शन किए

Kedarnath Temple 2019

पहली बार है जब इतनी बढ़ी संख्या में भक्त यात्रा के लिए आए. यही नहीं गंगोत्री में 5 लाख से ज्यादा यात्री अब तक दर्शन कर चुके हैं जबकि यमुनोत्री में भी साढ़े चार लाख लोग दर्शनों के लिए पहुंच चुके हैं. 

 

4/5

गंगोत्री में 5 लाख से ज्यादा यात्री अब तक दर्शन कर चुके हैं

Kedarnath Temple 2019

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत कहते हैं कि प्रधानंमत्री नरेंद्र मोदी के कपाट खुलते ही यात्रा पर आने से देश और दुनिया में सुरक्षित यात्रा का संदेश जाता है. इसलिए इस बार रिकॉर्ड तोड़ श्रद्धालु यहां दर्शनों के लिए पहुंचे. 

5/5

यात्रा और भी सुखद और सुरक्षित होगी

Kedarnath Temple 2019

हालांकि कई जगह अभी भी लैंडस्लाइड होने से कई बार यात्रा प्रभावित होती है, लेकिन ऑल वेदर रोड का काम पूरा होने के बाद यात्रा और भी सुखद और सुरक्षित होगी.