close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

पालकी, ढोल-नगाड़ों के साथ मनाई जा रही है महावीर जयंती

महावीर जयंती को जैन धर्म का सबसे बड़ा त्यौहार कहा जाता है. आज भगवान महावीर की  2616 वीं जयंती है.

Mar 29, 2018, 14:08 PM IST

महावीर जयंती को जैन धर्म का सबसे बड़ा त्यौहार कहा जाता है. आज भगवान महावीर की  2616 वीं जयंती है.

1/5

Mahavir Jayanti 2018 people celebrate the festival of Lord Mahavir

Mahavir Jayanti 2018 people celebrate the festival of Lord Mahavir

देशभर में भगवान महावीर की जयंती धूमधाम से मनाई जा रही है. यह जैन समुदाय का सबसे बड़ा पर्व माना जाता है. कुछ स्थानों पर महावीर जंयती को महावीर स्‍वामी जन्‍म कल्‍याणक भी कहा जाता है.

2/5

Mahavir Jayanti 2018 people celebrate the festival of Lord Mahavir

Mahavir Jayanti 2018 people celebrate the festival of Lord Mahavir

हिन्दु पंचाग के मुताबिक चैत्र मास के 13वें दिन भगवान महावीर ने जन्म लिया और तब से ही इस दिन को महावीर जयंती के रूप में मनाया जता है. कहा जाता है कि भगवान महावीर का जन्म बिहार के कुंडलपुर के राज परिवार में हुआ था. बचपन में उनके पति ने उनका नाम 'वर्धमान' रखा था. 

3/5

Mahavir Jayanti 2018 people celebrate the festival of Lord Mahavir

Mahavir Jayanti 2018 people celebrate the festival of Lord Mahavir

मान्यता है कि उन्होंने 30 साल की उम्र में घर छोड़कर दीक्षा ली थी. दीक्षा लेने के बाद उन्होंने 12 साल तपस्या की थी. देश भर में आज उनकी जयंती धूमधाम से मनाई जा रही है. कोलकाता में जैन समुदाय के लोगों ने इक्ट्ठा होकर जुलूस निकाला. 

4/5

Mahavir Jayanti 2018 people celebrate the festival of Lord Mahavir

Mahavir Jayanti 2018 people celebrate the festival of Lord Mahavir

जैन समाज के 24वें तीर्थंकर भगवान महावीर की यह 2616 वीं जयंती है पर कोलकाता की सड़कों पर रथ पर महावीर की प्रतिमा का विराजमान कर जुलूस निकाला गया. इस जुलूस में शामिल सभी महिलाएं और पुरुष एक ही रंग के लिबाज पहने हुए नजर आए. 

 

5/5

Mahavir Jayanti 2018 people celebrate the festival of Lord Mahavir

Mahavir Jayanti 2018 people celebrate the festival of Lord Mahavir

जुलूस में शामिल कई लोग महावीर के संदेशों को बार-बार पढ़ रहे थे. साथ ही जो लोग महावीर के दर्शन कर रहे थे उन्हें एक पर्चा देकर भगवान की राह पर चलने की प्रेरणा दे रहे थे.