close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

जयंती विशेष: इंसान के जीवन ने नकारात्मक विचारों को खत्म कर देते हैं भगवान महावीर के सिद्धांत

जैन समुदाय का सबसे बड़ा पर्व महावीर जंयती आज देशभर में धूमधाम से मनाजा रहा है. 

आशु दास | Apr 17, 2019, 10:04 AM IST

हिन्दु पंचाग के मुताबिक चैत्र मास के 13वें दिन भगवान महावीर ने जन्म लिया और तब से ही इस दिन को महावीर जयंती के रूप में मनाया जता है. कहा जाता है कि भगवान महावीर का जन्म बिहार के कुंडलपुर के राज परिवार में हुआ था. बचपन में उनके पति ने उनका नाम 'वर्धमान' रखा था. 

1/5

30 साल के उम्र में ली थी दीक्षा

At the age of thirty was the initiation

मान्यता है कि उन्होंने 30 साल की उम्र में घर छोड़कर दीक्षा ली थी. दीक्षा लेने के बाद उन्होंने 12 साल तपस्या की थी. देश भर में आज उनकी जयंती धूमधाम से मनाई जा रही है.

2/5

अहिंसा और सत्य की राह पर चलना सिखाया

Taught to walk on the path of non-violence and truth

जैन समुदाय के लोगों का मानना है कि भगवान महावीर ने अपने भक्तों को अहिंसा, सत्य के मार्ग पर चलने का संदेश दिया है. भगवान महावीर अपने भक्तों को बह्चर्य और अपरिग्रह के व्रतों का पालन करने के लिए कहते हैं. तो महावीर जयंती के मौके पर जानते हैं उनके अनमोल विचार, जो मनुष्य को जीवन की राह पर बिना किसी अटकलों के चलने का संदेश देते हैं.

3/5

खुद की गलतियां हैं दुख की वजह

Own mistakes are the cause of sadness

मनुष्य के दुखी होने की वजह खुद की गलतियां ही हैं जो मनुष्य अपनी गलतियों पर काबू पा सकता है वही मनुष्य सच्चे सुख की प्राप्ति भी कर सकता है.

4/5

आत्मा का कोई साथी नहीं

No partner of soul

आत्मा अकेले आती है, अकेले चली जाती है, न कोई उसका साथ देता है न कोई उसका मित्र बनता है.

5/5

भला करके भूल जाओ

Forget it

आपने कभी किसी का भला किया हो तो उसे भूल जाओ और कभी किसी ने आपका बुरा किया हो तो उसे भूल जाओ.