सोशल मीडिया पर छाया ये ट्रैफिक पुलिसवाला, 'तारा रा-रा' गाकर बताता है ऐसे फॉलो करें नियम

सोशल मीडिया पर इन दिनों एक एएसआई का वीडियो काफी तेजी से वायरल हो रहा है. ये एएसआई चंडीगढ़ ट्रैफिक पुलिस में 2012 से सेवाएं दे रहें हैं और इनका नाम है भूपिंदर सिंह.

चंडीगढ़ः सोशल मीडिया पर इन दिनों एक एएसआई का वीडियो काफी तेजी से वायरल हो रहा है. ये एएसआई चंडीगढ़ ट्रैफिक पुलिस में 2012 से सेवाएं दे रहें हैं और इनका नाम है भूपिंदर सिंह. भूपेंद्र सिंह ने दलेर मेंहदी के गाने बोलो तारा रा रा गाने का नया वर्जन निकाला है और नो पार्किंग वाली जगह पर गाड़ी पार्क करने वालों को इस नए गाने के जरिए जागरूक किया जा रहा है. इस गाने का वीडियो जैसे ही वायरल हुआ भूपेंद्र सिंह स्टार बन गए. खुद दलेर मेहंदी ने भी उनकी तारीफ की. दलेर मेंहदी ने कहा कि उन्हें खुशी है कि चंडीगढ़ पुलिस उनके गाने की धुन पर लोगों को ट्रैफिक नियमों के प्रति जागरूक कर रही है उनके लिए ये फक्र की बात है. (यहां देखें वीडियो)

1/5

गानों के ज़रिए लोगों को मोटर व्हीकल एक्ट के नियमों की जानकारी

Information about the rules of the Motor Vehicle Act by people through songs

त्योहारों के दिनों में लगभग सभी शहरों में लोगों को ट्रैफिक की समस्या से जूझना पड़ता है. ऐसे में चंडीगढ़ ट्रैफिक पुलिस ने ट्रैफिक को कंट्रोल करने के लिए अनोखा तरीका अपनाया है. गानों के ज़रिए लोगों को मोटर व्हीकल एक्ट के नियमों के बारें में जागरूक किया जा रहा है. न सिर्फ रॉग पार्किग में गाड़ी खडें करने पर क्या परिणाम हो सकते हैं. उसकी जानकारी गाने के जरिए दी जा रही है.

2/5

भूपिंदर सिंह गानों का ही सहारा ले रहे हैं

Bhupinder Singh is taking recourse to songs

इसके साथ ही चालान के रेट कितने कितने बढ़ गए हैं और एक गलती के कारण कितनी जेब ढीली करनी पड़ सकती है, उसके बारें में पब्लिक को समझाने के लिए भी भूपिंदर सिंह गानों का ही सहारा ले रहे हैं. भूपिंदर सिंह अब तक नो पार्किंग, नए ट्रैफिक नियमों के चलते बड़े चालान रेट, लडकियों के लिए हेलमेट अनिवार्य, नो होर्न जैसे कई विषयों पर गाने लिख और गा चुकें हैं.

3/5

भूपिदंर सिंह 1987 से चंडीगढ़ पुलिस में अपनी सेवाएं दे रहें हैं

Bhupidar Singh has been serving the Chandigarh Police since 1987

बता दें वैसे तो भूपिदंर सिंह 1987 से चंडीगढ़ पुलिस में अपनी सेवाएं दे रहें हैं, लेकिन 2012 में वो चंडीगढ़ ट्रैफिक पुलिस में आ गए थे. भूपिंदर सिंह ने बताया कि वो अब तक 20 से ज्यादा गाने गा चुके हैं. सभी गाने उन्होंने ट्रैफिक नियमों से जुडें गाए हैं. उनका मानना है कि वह गीतों से लोगों में ट्रैफिक नियमों के प्रति जागरूकता ला रहे हैं. 

4/5

गीत के माध्यम से समझा रहे ट्रैफिक नियम

Traffic rules are explained through song

भूपिदंर सिंह ने कहा दूसरे राज्यों से आने वाले लोगों को चंडीगढ़ आने से पहले दिमाग में रहता है कि चंडीगढ़ पुलिस बहुत सख्त है और चालान काटती है,लेकिन गीत के माध्यम से हम उनके मन से डर निकालना चाहते हैं हमारा मकसद सिर्फ जागरूकता फैलाना है और गाने सीधे लोगों को दिलों-दिमाग पर छा जाते हैं इसलिए गानों के ज़रिए उनको जागरूक कर रहें है.

5/5

मनोरंजन के साथ मिलती है ट्रैफिक नियमों को फॉलो करने की सीख

Learning to follow traffic rules with entertainment

वैसे तो एएसआई भूपिंदर सिंह अब एक सेलीब्रिटी बन गए हैं, लेकिन वह अब भी गाने गाकर लोगों को जागरूक कर रहे हैं. ऐसे में जिस जगह भूपिंदर सिंह खड़े होते हैं उन्हें देखने के लिए लोगों की भीड़ इकट्ठी हो जाती है. लोग भी भूपिंदर सिंह के इस अंदाज को काफी सराह रहे हैं. उनका कहना है कि मनोरंजन भी हो जाता है और वो जागरूक भी होतें हैं. लोगों ने कहा कि चंडीगढ़ ट्रैफिक पुलिस हमेशा से सख्ती के लिए जानी जाती है, लेकिन ये ट्रैफिक पुलिस का दूसरा रूप है.