वैज्ञानिकों को मिली बड़ी कामयाबी, मंगल ग्रह के रहस्य खोज निकालेगा 'इनसाइट लैंडर'

रोजाना नई-नई खोज में लगे नासा के वैज्ञानिकों को नई कामयाबी हाथ लगी है.

ज़ी न्यूज़ डेस्क | Nov 27, 2018, 12:09 PM IST

मंगल ग्रह की सतह को खोदने के लिहाज से तैयार किया गया नासा का एक अंतरिक्ष यान 48.2 करोड़ किलोमीटर की यात्रा छह महीने में पूरी करने के बाद सोमवार को लाल ग्रह पर उतरा.

1/4

वैज्ञानिकों में दिखा उत्साह

NASA''s Jet Propulsion Laboratory in Pasadena

कैलिफोर्निया के पासाडेना में स्थित नासा की जेट प्रोपल्सन प्रयोगशाला के उड़ान नियंत्रकों की खुशी का ठिकाना नहीं रहा जब यह खबर आई. जब एक उड़ान नियंत्रक ने अंतरिक्ष यान के मंगल की सतह पर उतरने की घोषणा की तो उनके साथी उत्साहित होकर उछलने लगे और ताली बजाने लगे.

 

2/4

क्यों हैं यह विमान इतना खास

Why is this plane so special

नासा के मुताबिक इनसाइट नामक यह यान एक पैराशूट और ब्रेकिंग इंजन की मदद से रफ्तार को धीमा किये जाने के बाद उतरा. मंगल से पृथ्वी की दूरी लगभग 16 करोड़ किलोमीटर है और अंतरिक्षयान के बारे में रेडियो सिग्नल से मिल रही जानकारी यहां तक आने में आठ मिनट से ज्यादा का समय लग रहा है. 

 

3/4

1976 में की थी पहली कोशिश

The first attempt was made in 1976

1976 के बाद से नासा ने नौवीं बार मंगल पर पहुंचने का यह प्रयास किया. अमेरिका के पिछले प्रयास को छोड़कर बाकी सभी सफल रहे. पिछली बार नासा का अंतरिक्षयान क्यूरियोसिटी रोवर के साथ 2012 में मंगल पर उतरा था.

4/4

क्या है इंसाइट लैंडर?

What is Insight Lander?

बीबीसी की रिपोर्ट के मुताबिक, इंसाइट मंगल ग्रह के बारे में ऐसी जानकारियां दे सकता है, जिसे खोजने के लिए वैज्ञानिक की सालों से कोशिश कर रहे थे. अपने अभियान के दौरान यह यान मंगल पर एक साइज़्मोमीटर रखेगा जो इसके अंदर की हलचलें रिकॉर्ड कर सकेगा.