• 542/542 लक्ष्य 272
  • बीजेपी+

    348बीजेपी+

  • कांग्रेस+

    91कांग्रेस+

  • अन्य

    103अन्य

उत्तराखंड ट्रांसफार्मर घोटाले में आया नया मोड़, अब IIT रूड़की के खिलाफ होगी विजिलेंस जांच

उत्तराखडं में ट्रांसफार्मर खरीद में गड़बड़ी का मामला प्रधानमंत्री ऑफिस (PMO ) और CVC यानी सेंट्रल विजिलेंस कमीशन तक पहुंच गया है.

मनमोहन भट्ट | May 16, 2019, 10:06 AM IST

उत्तराखंड पॉवर ट्रांसमिशन कारपोरेशन में आए ट्रांसफार्मर्स में गड़बड़ी पर विभाग के साथ-साथ,  IIT रूड़की को भी जांच सौप दी गई थी.

1/4

IIT रूड़की के खिलाफ विजिलेंस जांच

Vigilance investigation against IIT Roorkee

अब इस मामले में IIT रूड़की के खिलाफ विजिलेंस जांच शुरू होने जा रही है. यानी उत्तराखंड सरकार ने जिस IIT रूड़की को घोटाले की जांच का जिम्मा सौंपा अब उसी की सेंट्रल विजिलेंस से जांच होने जा रही है. इस बीच इस प्रकरण के कारण निलंबित हुए अधिकारियों को न सिर्फ बहाल कर दिया बल्कि मुख्य अभियंता को निदेशक बनाने की तैयारी भी शुरू हो गई है. 

2/4

डेढ़ सौ करोड़ रुपये के ट्रांसफार्मर की सप्लाई

Supply of transformers of one and a half million rupees

उत्तराखंड पॉवर ट्रांसमिशन कारपोरेशन (PTCUL ) में करीब डेढ़ सौ करोड़ रुपए के 29 ट्रांसफार्मर की सप्लाई एक निजी कम्पनी ने की. लेकिन कई ट्रांसफार्मर के ठीक से काम न करने के बाद इसकी विभागीय जांच कराई गई. 

3/4

4 बड़े अधिकारियों को किया गया निलंबित

4 big officials suspended

जांच में मुख्य अभियंता सहित 4 बड़े अधिकारीयों को निलंबित किया गया. मामले की निष्पक्ष जांच के लिए मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत ने बाहरी एजेंसियों से भी जांच कराने के आदेश दिए. IIT रूड़की और CPRI यानी सेंट्रल पावर रिसर्च इंस्टिट्यूट, बंगलुरु को जांच का जिम्मा सौंपा गया. सभी की रिपोर्ट आने के बाद 4 बड़े अधियकारियों पर कार्रवाई की सिफारिश की गई. इन सभी से विभाग ने स्पष्टीकरण मांगा जा रहा है. इनमें मुख्य अभियंता अनिल यादव को सिर्फ इसलिए निदेशक के तौर पर अभी तक प्रोमोशन नहीं मिला क्योंकि ट्रांसफार्मस के ठीक से काम न करने में जिन 4 अधिकारीयों की जिम्मेदारी तय की गई यादव उनमे से एक हैं. 

 

4/4

चिट्ठी लिखकर मामले की जांच की मांग

Write a letter and ask for the inquiry

इस बीच ट्रांसफार्मर सप्लाई करने वाली कम्पनी ने PMO और CVC को चिट्ठी लिखकर मामले की जांच की मांग कर दी. उत्तराखंड पावर ट्रांसमिशन कारपोरेशन के प्रबंध निदेशक संदीप सिंघल का कहना है कि "ट्रांसफार्मर सप्लाई करने वाली कम्पनी ने PMO और CVC   में और  जो शिकायत भेजी थी उसे PMO और CVC  ने रजिस्टर कर लिया है". सिंघल ने ये भी कहा कि "विभागीय जांच के अलावा IIT रूड़की और CPRI की जांच रिपोर्ट के आधार पर चीफ  इंजीनियर , सुपरिटेंडिंग इंजीनियर , एग्जीक्यूटिव इंजीनियर और अस्सिटेंट इंजीनियर से स्पष्टीकरण मांगा गया है. सुपरिटेंडिंग इंजीनियर को इस मामले में चार्जशीट दी जा रही है."