close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

शिरडी में शुरू हुई गुरू पूर्णिमा की तैयारी, मंदिरों की सजावट में अब तक लाखों खर्च

गुरू पुर्णिमा के अवसर पर बाबा के मंदिर, व्दारका माईं, चावड़ी धाम को फूलों से सजाया गया हैृ. मंदिरो को सजाने पर 5-6 लाख रूपए का खर्च आया है.

अमित त्रिपाठी | Jul 15, 2019, 15:28 PM IST

नई दिल्लीः महाराष्ट्र के शिरडी के साईं धाम में गुरू पुर्णिमा का त्यौहार धूम-धाम से मनाया जा रहा है. गूरु पुर्णिमा आज यानि सोमवार से शुरू होकर बुधवार रात बाबा की सेज आरती के बाद खत्म हो जाएगा. गुरू पुर्णिमा के अवसर पर बाबा के मंदिर, व्दारका माईं, चावड़ी धाम को फूलों से सजाया गया हैृ. मंदिरो को सजाने पर 5-6 लाख रूपए का खर्च आया है जिसे बाबा एक भक्त ने वहन किया है. ये भक्त अमेरिका का बताया जा रहा है.

1/5

बाबा के साईं चरित्र का अखंड़ पाठ किया जाएगा

Sai charit manas

गुरू पुर्णिमा के मौके पर बाबा की काकड़ आरती और मंगल स्नान के बाद बाबा की चरण  पादूका और पोथी को पूरे विधि-विधान के साथ व्दारका माई ले जाया जाएगा. फिर वहां पर बाबा के साईं चरित्र का अखंड़ पाठ किया जाएगा जो कल सुबह यानि मंगलवार को खत्म होगा.

2/5

इसके पहले दही-हांडी फोड़ने का कार्यक्रम होगा

Before this, there will be a dahi handi program will be organised

पाठ के खत्म होने के बाद पादूका और पोती को फिर से बाबा के मंदिर मे लाया जाएगा. इन तीनो दिनो में लाको की संख्या में बाबा के भक्त दर्शन के लिए आते है. गुरू पूर्णिमा का त्यौहार बुधवार की रात को सेज आरती के बाद खत्म माना जाएगा. इसके पहले दही-हांडी फोड़ने का कार्यक्रम होगा.

3/5

मंगलवार को सेज आरती के बाद मंदिर को बंद कर दिया जाएगा

On Tuesday, the temple will be closed after the Sage Arti

गूरुपुर्णिमा, दशहरा, दिपावली जैसे मौके पर बाबा का मंदिर मुख्य पूरे दिन-रात खुला रहता था, ये प्रथा काफी दिनों से चली आ रही ,थी लेकिन इस बार चंन्द्रग्रहण पड़ने के कारण कल यानि मंगलवार को सेज आरती के बाद मंदिर को बंद कर दिया जाएगा और सुबह फिर से काकड़ आरती के बाद मंदिर खुलेगा.

4/5

सोने के रूप में 18 लाख 45 चढ़ावा आया था

18 lakhs of gold had come as gold

इन तीन दिनों में लाखो की संख्या में बाबा के भक्त ना केवल उनके दर्शन करते हैं, बल्कि चढ़ावा भी खूब चढाते हैं. साल 2014 में 4 करोड़ 47 लाख नगद, सोने के रूप में 18 लाख 45 चढ़ावा आया था. साल 2015 में 3 करोड़ 8 लाख नगद और 311 ग्राम सोना और 7 किलो चांदी चढ़ा था.

5/5

साल 2018 में 6 करोड़ 66 लाख नगद का चढ़ावा चढ़ा था

In 2018, there was a donation of 66 million cash

साल 2016 में 3 करोड़ 50 लाख नगद, 325 ग्राम सोना, 500 ग्राम चांदी का चढ़ावा चढ़ा था. वहीं साल 2017 में 5 करोड़ 50 लाख नगद, सोना-चांदी चढावे के रूए में आई और साल 2018 में 6 करोड़ 66 लाख नगद, 438 ग्राम सोना और 9353 ग्राम चांदी चढ़ावे के रूप में आई.