close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

भारत के 3 दिग्गज भी थे टीम इंडिया के मुख्य कोच की दौड़ में, रवि शास्त्री ने इसलिए मारी बाजी

भारतीय टीम के मुख्य कोच की दौड़ में रवि शास्त्री का पलड़ा भारी रहा.

ज़ी न्यूज़ डेस्क | Aug 16, 2019, 19:20 PM IST

नई दिल्ली: कपिल देव, अंशुमन गायकवाड़ और शांता रंगास्वामी की तीन सदस्यीय क्रिकेट सलाहकार समिति (CAC) ने रवि शास्त्री (Ravi Shastri) को भारतीय पुरुष टीम के मुख्य कोच पद पर बरकरार रखा है. शास्त्री के साथ कोच पद की दौड़ में न्यूजीलैंड के पूर्व कोच माइक हेसन, श्रीलंका के पूर्व कोच टॉम मूडी, वेस्टइंडीज और अफगानिस्तान के पूर्व कोच फिल सिमंस समेत भारत के पूर्व फील्डिंग कोच रोबिन सिंह और भारत के पूर्व मैनेजर लालचंद राजपूत भी शामिल रहे, लेकिन इन सब में शास्त्री का पलड़ा भारी रहा. शास्त्री का नया कार्यकाल टी-20 विश्व कप-2021 तक होगा. वह इस समय टीम के साथ विंडीज दौरे पर हैं और उन्होंने वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से सीएसी के समक्ष इंटरव्यू दिया. शास्त्री ने इस रेस में आस्ट्रेलिया के टॉम मूडी और न्यूजीलैंड के माइक हेसन को पीछे किया है. भारत के इन तीनों उम्मीदवारों की खासियत...

1/10

रवि शास्त्री; कामयाबी और विवादों से नाता

रवि शास्त्री (Ravi Shastri) भारतीय क्रिकेट का वह नाम है, जिसके साथ कामयाबी और विवाद दोनों ही जुड़े रहे हैं. वे करीब दो साल से टीम इंडिया के कोच भी हैं. उनका कार्यकाल खत्म हो चुका था. वेस्टइंडीज दौरे के लिए उनके कार्यकाल में 45 दिन का विस्तार किया गया था. 

2/10

रवि शास्त्री (Ravi Shastri) ने 1980-90 के दशक में 80 टेस्ट और 150 वनडे मैच खेले हैं. वे 2014 में भारतीय टीम के साथ टीम डायरेक्टर के रूप में जुड़े.

3/10

2016 की शुरुआत में डंकन फ्लेचर के हेड कोच कार्यकाल के बाद रवि शास्त्री कुछ समय के लिए भारत के मुख्य कोच बनाए गए. 2016 में उन्हें कोच पद से हटाकर अनिल कुंबले को यह जिम्मेदारी दी गई.

4/10

कुंबले को एक साल बाद ही कोच पद से हटा दिया गया. फिर रवि शास्त्री कोच बने. कप्तान विराट कोहली कह चुके हैं कि यदि शास्त्री कोच बने रहते हैं तो उन्हें खुशी होगी. एमएस धोनी के साथ भी उनकी अंडरस्टैंडिंग अच्छी रही थी.

5/10

लालचंद राजपूत, भारत को टी20 चैंपियन बनाने वाला मैनेजर

दाएं हाथ के बल्लेबाज लालचंद राजपूत (Lalchand Rajput) ने भारत के लिए 2 टेस्ट और 4 वनडे मैच खेले हैं. फर्स्ट क्लास क्रिकेट में लालचंद राजपूत का बेहतरीन प्रदर्शन रहा है. इन्होंने 110 फर्स्ट क्लास मुकाबलों में 49.3 की औसत से 7988 रन बनाए हैं.

6/10

इंटरनेश्नल क्रिकेट से संन्यास के बाद लालचंद राजपूत ने कई प्रशासनिक और कोचिंग पद संभाले हैं. उन्होंने मुंबई क्रिकेट एसोसिएशन के संयुक्त मानद सचिव के रूप में काम किया है. वे अंडर -19 भारतीय क्रिकेट टीम के कोच के रूप में कुछ सफल काम भी कर चुके हैं.

7/10

2007 में, उन्हें दक्षिण अफ्रीका में ICC वर्ल्ड T20 के से पहले भारतीय क्रिकेट टीम का प्रबंधक नियुक्त किया गया था. भारत द्वारा टूर्नामेंट जीतने के बाद, 2007-08 में ऑस्ट्रेलियाई दौरे तक राजपूत प्रबंधक के रूप में बने रहे. राजपूत पहले आईपीएल सीज़न के लिए मुंबई इंडियंस के कोच भी थे. इस समय लालचंद राजपूत इंडिया ए के कोच हैं. 

8/10

रॉबिन सिंह, फील्डिंग कोच से हेड कोच की ओर...

 रॉबिन सिंह (Robin Singh) ने भारतीय टीम के साथ ऑलराउंडर के रूप में क्रिकेट खेला है. रॉबिन सिंह ने भारत की तरफ से 136 वनडे मैच खेले हैं. जिसमें इनका योगदान बल्ले और गेंद दोनों से अच्छा रहा है.

9/10

रॉबिन ने 113 पारी में  26 की औसत से 2336 रन बनाए हैं और 66 विकेट झटके हैं. 2001 में इंटरनेशनल क्रिकेट से संन्यास के बाद रॉबिन सिंह हॉन्गकॉन्ग के मुख्च कोच बन गए. 2007 से 2009 के कार्यकाल में रॉबिन सिंह भारतीय टीम के फील्डिंग कोच रहे.

10/10

(फोटो साभार: Reuters)

2008 में रॉबिन सिंह आईपीएल की डेक्कन चार्जेर्स टीम के मुख्य कोच बने. 2010 में मुंबई इंडियंस टीम ने इस खिलाड़ी को साइन कर लिया.