PHOTOS: 20 साल पहले इस एक्‍ट्रेस की वजह से शुरू हुआ था सबरीमाला विवाद

महि‍लाओं की एंट्री पर प्रतिबंध लगाने की वजह से विवादों में रहा सबरीमाला मंदिर को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने अपना फैसला सुना दिया है.

वंदना यादव | Sep 28, 2018, 17:53 PM IST

महि‍लाओं की एंट्री पर प्रतिबंध लगाने की वजह से विवादों में रहा सबरीमाला मंदिर को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने अपना फैसला सुना दिया है. सुप्रीम कोर्ट की पांच सदस्‍यों की संविधान पीठ ने 4-1 के बहुमत से फैसला देते हुए 10-50 साल की महिलाओं को भी मंदिर में प्रवेश की अनुमति दे दी. पिछले कई सालों से खबरों में रहे इस मंदिर के बारे में सभी लोग जानते हैं लेकिन क्‍या आप जानते हैं कि महिलाओं के मंदिर में प्रवेश को लेकर कब विवाद उठा और इसका केस हुआ. 

1/7

सबरीमाला मंदिर को लेकर सुप्रीम कोर्ट का फैसला

Kannad actress Jayamala's

साल 2006 में सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश को लेकर कन्नड़ अभिनेत्री जयमाला ने खुलासाकर इस विवाद को खबरों में ला दिया था. इस साल सबरीमाला के प्रमुख ज्योतिष परप्पनगडी उन्नीकृष्णन ने कहा था कि अयप्पा अपनी ताकत खो रहे हैं. उसके बाद उन्नीकृष्णन ने यह भी दावा किया था कि भगवान इसलिए नाराज हैं क्योंकि मंदिर में किसी युवा महिला ने प्रवेश किया है.

2/7

कन्नड़ अभिनेत्री जयमाला

Jayamala's controversy Supreme Court Verdict

ज्‍योतिष के बयान के बाद कन्नड़ अभिनेता प्रभाकर की पत्नी और एक्‍ट्रेस जयमाला ने अपने बयान में कहा कि उन्होंने भगवान अयप्पा की मूर्ति को छुआ है और वह ही इसके लिए जिम्मेदार है.

3/7

केरल में बवाल मच गया था

Supreme Court Verdict

कन्‍नड़ एक्‍ट्रेस ने अपने कन्फेशन में बताया था कि 1987 में वह अपने पति के साथ वह मंदिर में दर्शन करने गई थीं. मंदिर में भीड़ के वजह से आ रहे धक्कों ने उन्‍हें गर्भगृह में पहुंच दिया था जहां पर वह भगवान अयप्पा के चरणों में गिर गईं और वहां मौजूद पुजारी ने उन्हें फूल दिए थे. उनके इस दावे के बाद पूरे केरल में बवाल मच गया था.

4/7

पुलिस ने जयमाला के खिलाफ चार्जशीट दाखिल की

Sabarimala Temple case

इसके बाद 14 दिसंबर 2010 को पठानीमिट्ठा जिले के रन्नी में ज्यूडिशियल मजिस्ट्रेट की कोर्ट में केरल पुलिस ने जयमाला के खिलाफ चार्जशीट दाखिल की. पुलिस ने जयमाला पर जानबूझकर तीर्थस्‍थल के नियमों का उल्‍लंघन करते हुए लोगों की धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने का आरोप लगाया था. लेकिन केरल हाईकोर्ट ने पुलिस की चार्जशीट को खारिज कर दिया था और जयमाला ये लड़ाई जीत गई थीं.

5/7

जयमाला पर लगे थे आरोप

Sabarimala case Verdict

जयमाला के इस बयान के बाद लोगों ने उन पर साजिश के तहत इस बात को कहने के आरोप लगाए थे लेकिन जयमाला ने इन सब बातों से इनकार किया था. 

6/7

मंदिर में प्रवेश के लिए मन शुद्ध होना चाहिए

Jayamala's bold claim that stoked controversy

कई साल पहले जयमाला ने एक इंटरव्यू में कहा था कि महिलाएं अपने पीरियड्स साइकल को दवा लेकर आगे बढ़ा सकती है और मंदिरों को ऐसे नियम बनाने का कोई हक नहीं है. किसी भी मंदिर में प्रवेश के लिए मन शुद्ध होना चाहिए.

7/7

सुप्रीम कोर्ट की पांच सदस्‍यीय पीठ ने लिया फैसला

Kerala's Sabarimala Aiyyappa temple

28 सितंबर को आए सुप्रीम कोर्ट की पांच सदस्‍यीय पीठ ने 4:1 से यह फैसला सुनाया है. कोर्ट ने अपने फैसले में कहा कि भगवान अयप्‍पा हिंदू थे, उनके भक्‍तों का अलग धर्म न बनाएं. भगवान से रिश्‍ते दैहिक नियमों से नहीं तय हो सकते. सभी भक्‍तों को मंदिर में जाने और पूजा करने का अधिकार है. न्‍यायालय ने कहा, जब पुरुष मंदिर में जा सकते हैं तो औरतें भी पूजा करने जा सकती हैं. महिलाओं को मंदिर में पूजा करने से रोकना महिलाओं की गरिमा का अपमान है.