गुरू आचरेकर को याद करते हुए बोले सचिन, माता-पिता की तरह हैं कोच

भारत में क्रिकेट के भगवान कहे जाने वाल सचिन तेंदुलकर ने एक किताब के विमोचन समारोह में अपने गुरू रमाकांत आचरेकर को याद किया 

Feb 09, 2018, 11:47 AM IST

भारत में क्रिकेट के भगवान कहे जाने वाल सचिन तेंदुलकर ने एक किताब के विमोचन समारोह में अपने गुरू रमाकांत आचरेकर को याद किया 

1/6

Coaches like Parents

Coaches like Parents

अपने करियर में कोच रमाकांत आचरेकर के योगदान को याद करते हुए महान क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर ने आज कहा कि कोच और गुरू माता-पिता की तरह होते हैं.

2/6

During Book launching

During Book launching

तेंदुलकर ने यहां एक किताब के विमोचन समारोह के दौरान कहा, ‘‘कोच, गुरू हमारे माता-पिता की तरह हैं क्योंकि हम उनके साथ इतना समय बिताते हैं, हम उनसे इतनी सारी चीजें सीखते हैं.’’ (फोटो साभार : IANS)

3/6

Even when there is a doctor

Even when there is a doctor

यह दिग्गज बल्लेबाज बच्चों के स्वास्थ पर माता-पिता के लिए किताब ‘इवन व्हेन दियर इज ए डाक्टर’ का विमोचन कर रहे थे जिसे डाक्टर यशवंत अमदेकर, डाक्टर राजेश चोखानी और कृष्णन शिवरामकृष्णन ने लिखा है. (फोटो साभार : IANS)

4/6

Achrekar very caring

Achrekar very caring

तेंदुलकर ने कहा, ‘‘(आचरेकर) सर कभी कभी सख्त थे, बेहद सख्त और साथ ही ख्याल भी रखते थे और प्यार करते थे. सर ने मुझे कभी नहीं कहा कि अच्छा खेले लेकिन मुझे पता है कि जब सर मुझे भेल पूरी या पानी पूरी खिलाने ले जाते थे तो वह खुश होते थे, मैंने मैदान पर कुछ अच्छा किया था.’’ 

5/6

Sachin recalls old anecdote

Sachin recalls old anecdote

तेंदुलकर को मध्य मुंबई के दादर के शिवाजी पार्क में आचरेकर कोचिंग देते थे.उन्होंने बचपन की एक घटना याद की जिसने उन्हें स्वतंत्रता का इस्तेमाल जिम्मेदारी से करना सिखाया. तेंदुलकर ने कहा, ‘‘मैं 13 बरस के आस पास था जब मुझे एक महीने के राष्ट्रीय शिविर के लिए इंदौर जाना था और उस समय मोबाइल उपलब्ध नहीं थे.’’ उन्होंने कहा, ‘‘मैं एक महीने के लिए जा रहा था और मेरी मां चिंतित थी. मेरे पिता उन्हें कह रहे थे कि यह हमारे बीच सबसे तेज और चतुर है, उसे पता है, वह परिपक्व बच्चा है. मुझे काफी अच्छा लगा लेकिन इस स्वतंत्रता के साथ मेरे दिमाग में कहीं ना कहीं यह बात थी कि स्वतंत्रता जिम्मेदारी के साथ आती है और मुझे अपनी स्वतंत्रता का गलत इस्तेमाल नहीं करना चाहिए.’’ 

6/6

Sachin with his wife Anjali

Sachin with his wife Anjali

तेंदुलकर ने इस दौरान अपने बच्चों सारा और अर्जुन की अच्छी परवरिश का श्रेय अपनी पत्नी अंजलि को दिया. डाक्टर अमदेकर की छात्र रही अंजलि भी इस मौके पर मौजूद थी. (फोटो साभार : IANS)