close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

कभी था अस्थमा, अब दुनिया के 7 पहाड़ों पर तिरंगा फहराकर रचा इतिहास

कभी अस्थमा से पीड़ित रहे और 100 मीटर भागने में भी हांफ जाने वाले सत्यरूप सिद्धांत ने दुनिया के सातों महाद्वीपों में सात पहाड़ों पर तिरंगा फहराने वाले पहले भारतीय बन गए हैं.

Jul 08, 2018, 12:17 PM IST

कभी अस्थमा से पीड़ित रहे और 100 मीटर भागने में भी हांफ जाने वाले सत्यरूप सिद्धांत ने दुनिया के सातों महाद्वीपों में सात पहाड़ों पर तिरंगा फहराने वाले पहले भारतीय बन गए हैं.

1/6

Satyarup Siddhanta

Satyarup Siddhanta

कभी अस्थमा से पीड़ित रहे और 100 मीटर भागने में भी हांफ जाने वाले सत्यरूप सिद्धांत ने दुनिया के सातों महाद्वीपों में सात पहाड़ों पर तिरंगा फहराने वाले पहले भारतीय बन गए हैं. सत्यरूप यह उपलब्धि हासिल करने वाले पांचवें पर्वतारोही हैं. उन्होंने दक्षिणी ध्रुव के आखिरी हिस्से में 111 किलोमीटर की चढ़ाई महज छह दिनों में की थी. वह अंटार्कटिका में बांसुरी से राष्ट्रीय गीत की धुन बजाने वाले पहले भारतीय हैं. 

2/6

Satyarup Siddhanta

Satyarup Siddhanta

सत्यरूप ने कहा, "मैं बड़े सपने देखने में विश्वास रखता हूं और उन्हें पूरा करने में अपनी ओर से कोई कमी नहीं छोड़ता. चाहे कितने भी विपरीत हालात हो, मैं अपने सपनों का पीछा हर हाल में करता हूं." 

3/6

Satyarup Siddhanta

Satyarup Siddhanta

सत्यरूप का मिशन एडवेंचर स्पोटर्स के क्षेत्र में क्रांति लाने के साथ-साथ जलवायु परिवर्तन के प्रति जागरूकता उत्पन्न करना भी है. उन्होंने न सिर्फ माउंट एवरेस्ट, बल्कि दुनिया के सात महाद्वीपों के सात सबसे ऊंचे पर्वतों पर तिरंगा फहराया.

 

4/6

Satyarup Siddhanta

Satyarup Siddhanta

सत्यरूप अब हर महाद्वीप में ज्वालामुखी पर्वतों पर चढ़ाई करने के आखिरी राउंड में है. जनवरी 2019 में 35 साल 9 महीने की उम्र में वह हर महाद्वीप में मौजूद सात ज्वालामुखी पर्वतों और सात पहाड़ों पर तिरंगा फतह हासिल करने वाले वह सबसे कम उम्र के पर्वतारोही बन जाएंगे.

 

5/6

Satyarup Siddhanta

Satyarup Siddhanta

इससे पहले नवंबर 2015 में बांग्लादेश के वासिया नजरीन ने इस शिखर पर चढ़ाई की थी. (सभी तस्वीरें  : satyarup siddhanta/Facebook)

6/6

Satyarup Siddhanta

Satyarup Siddhanta

सत्यरूप ने 2017 में अंटार्कटिका में माउंट विन्सन मैसिफ पर चढ़ाई की थी. दुनिया के छह महाद्वीपों को सबसे ऊंची चोटी को फतह कर चुके सत्यरूप अपना ग्रैंडस्लैम खिताब पूरी करने के लिए अंटार्कटिका और चिली के दो महीने के अभियान पर पिछले साल 30 नवंबर को रवाना हुए थे.