close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

सचिन पायलट ने खेत में गुजारी रात, सुनी समस्याएं, जाना हाल, देखें तस्वीरें...

राजस्थान में कांग्रेस की सियासत में मचे घमासान के बीच कुछ सुखद तस्वीरें भी नजर आई है.

सुशांत पारीक | Jun 10, 2019, 21:00 PM IST

राजस्थान में कांग्रेस की सियासत में मचे घमासान के बीच कुछ सुखद तस्वीरें भी नजर आई है. राजस्थान के उपमुख्यमंत्री और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सचिन पायलट के रात्रि चौपाल की सचिन पायलट दो दिवसीय प्रदेश के दौरे पर हैं. 2 दिनों में सचिन पायलट ने 3 जिलों के दौरे का जन समस्याएं सुनी है. लेकिन सबसे ज्यादा चर्चा रही है उनकी जालौर जिले के कसोला गांव में किसान के खेत में रात्रि विश्राम किया. इस दौरान उन्होंने किसानों का हाल जाना और समस्याओं को सुलझाने के लिए चर्चा की.

1/6

पायलट ने जाना भीषण गर्मी में किसानों के जीवन का संकट

sachin pilot, rajasthan

उनका खेत में रात्रि विश्राम का मकसद ये था कि वो किसानों के बीच में रहकर उनकी समस्याओं को जान सके. साथ ही ये पता लगा सके कि एक किसान 50 डिग्री तापमान पर कैसे अपनी जिंदगी जीता है.

2/6

आम लोगों की तरह रहे झोपड़ी में

sachin pilot, rajasthan

सचिन पायलट एक आम नागरिक की तरह न केवल खेत में रुके बल्कि उनके साथ खाना भी खाया खुले आसमान में चौपाल भी लगाई और क्षेत्र के किसानों की समस्याएं भी सुनी.

 

3/6

किसान की खेत में किया आराम

sachin pilot, rajasthan

उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट रविवार देर शाम जालोर जिले के कासेला गांव पहुंचे. यहां के किसान जयकिशन के खेत पर रात्रि विश्राम किया.

4/6

खाया सांगरी की सब्जी, छाछ की राबड़ी और बाजरे की रोटी

sachin pilot, rajasthan

पायलट को खेत पर ही केर, सांगरी की सब्जी, छाछ की राबड़ी व बाजरे की रोटी खिलाई गई. अफसरों, नेताओं के लिए भी खेत पर ही ठहरने की सुविधा की गई.

5/6

किसानों के हितैषी पायलट 2 साल भी रुके हैं खेतों में

sachin pilot, rajasthan

पायलट ने 2 साल पहले भी वह काछेला गांव के किसान जयकिशन के यहां रात्रि विश्राम किया था. पायलट जब विपक्ष में थे जब भी यहां आये थे और आज प्रदेश के उपमुख्यमंत्री है तब भी यहां आये हैं.

6/6

जमीन से जुड़े होने का दावा

sachin pilot, rajasthan

इस रात्रि की चौपाल के माध्यम से पायलट ने ये संदेश देने की कोशश की है वो जमीन से जुड़े नेता हैं और किसानों से उनका सीधा जुड़ाव हैं.