close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

वृक्षारोपण के लिए ड्रोन के जरिए खाली पड़ी जमीन पर फेंके जा रहे बीज, देखें PICS

सीडीओ आशीष भटगई और डीएफओ कोको रोसे ने ड्रोन डिवाइस का ट्रायल किया. सीडीओ ने कहा कि ड्रोन के लिए नागरिक उड्डयन विभाग से अनुमति ली गई है. 

ज़ी न्यूज़ डेस्क | Aug 13, 2019, 15:09 PM IST

टिहरी: उत्तराखंड में इन दिनों हरेला पर्व मनाया जा रहा है. इस पर्व को मनाने का मकसद वृक्षारोपण करना है. इसी के तहत राज्य के सभी जिलों को लक्ष्य दिया गया है. इस कायक्रम में वन विभाग सहित अन्य विभाग और स्वंय सेवी संस्थाओं द्वारा भी बड़े स्तर पर वृक्षारोपण कार्य किया जा रहा है. वृक्षविहीन भूभाग पर किस तरह से पेड़ उगाएं जाएं इसके लिए विभिन्न स्तर पर प्रयास किये जा रहे हैं, लेकिन टिहरी जिले में एक अभिनव प्रयोग किया गया है. 

1/5

ड्रोन से खाली जमीन पर फेंके गए बीज

Drone, plantation, Uttrakhand

इस प्रयोग में ड्रोन द्वारा बीज खाली पड़ी जमीन पर फेंके गए. जंगलविहीन स्थानों पर वृक्षारोपण करने के उद्देश्य से पहली बार ड्रोन की मदद से बीज बरसाने का प्रयोग सफल भी रहा. उत्तराखंड में पहली बार ड्रोन में डिवाइस लगाकर बीजों का प्रक्षेपण किया जा रहा है. 

2/5

मानव की पहुंच से दूर स्थानों पर फेंके गए बीज

Drone, plantation, Uttrakhand

यह तकनीकि उन जगहों के लिए उपयोगी साबित होगी जो मानव पंहुच से दूर हैं. टिहरी वन विभाग और संकल्प तरू फाउंडेशन की यह पहल आगामी समय में मील का पत्थर साबित हो सकती है. 

3/5

सीडीओ आशीष भटगई और डीएफओ कोको रोसे ने ड्रोन डिवाइस का ट्रायल किया

Drone, plantation, Uttrakhand

सीडीओ आशीष भटगई और डीएफओ कोको रोसे ने ड्रोन डिवाइस का ट्रायल किया. सीडीओ ने कहा कि ड्रोन के लिए नागरिक उड्डयन विभाग से अनुमति ली गई है. वन विभाग जिन जिन स्थानों पर यह तकनीकि प्रयोग करना चाहता है उसके लिए प्रशासन से अनुमति लेनी होगी. उन्होने कहा कि मानव पंहुच से दूर स्थानों पर ड्रोन की मदद से बीजारोपण किया जाएगा. 

 

4/5

ड्रोन की वेटलिफ्टिंग क्षमता 700 ग्राम है

Drone, plantation, Uttrakhand

संकल्प तरू के इनोवेशन स्पेशलिस्ट उमेश चैधरी ने बताया कि इस ड्रोन की वेटलिफ्टिंग क्षमता 700 ग्राम है. 300 मीटर हाइट से यह बीज डाल सकता है और 3 कीलोमीटर का ऐरियल डिस्टेंस है. उन्होने कहा कि जंगल विहीन स्थानों पर हरा भरा जंगल विससित किया जा सकता है. 

5/5

ड्रोन से पीपल और पदम के बीज जमीन पर फेंके गए

Drone, plantation, Uttrakhand

इस मौके पर डीएफओ कोको रोसे ने बताया कि ड्रोन से पीपल और पदम के बीज जमीन पर फेंके गए हैं. यह प्रयोग सफल रहा तो वन विभाग वृक्षविहीन भूभाग को चयनित कर इस तकनीकि का प्रयोग करेगा. उन्होने कहा कि यह प्रयोग राज्य में पहली बार किया जा रहा है. संकल्प तरू फाउंडेशन के ऑपरेशन हेड रविभान सिंह ने बताया कि उनका संगठन टिहरी के धामड़ी, खमोली, बड़वाल, बरवाल, चोपड़िया आदि गांवों में वृक्षारोपण कर रहा है. उन्होंने बताया कि देशभर में फाउंडेशन गो ग्रीन के तहत वृक्षारोपण कार्यक्रम चलाता है. कहा कि राजस्थान के रेतीले मरूस्थलों में फाउंडेशन ने पांच स्थानों पर जंगल उगाए हैं.

 

रिपोर्ट बाय- मुकेश पंवार