स्टेफनी राइस को बहुत प्यार है भारत से, खोलना चाहती हैं स्विमिंग एकेडमी

ऑस्ट्रेलिया की महान तैराक स्टेफनी राइस का कहना है कि वे भारत में तैराकी अकादमी स्थापित करना चाहती है.

विकास शर्मा | Nov 03, 2018, 15:09 PM IST

भुवनेश्वर: ऑस्ट्रेलिया की महान तैराक स्टेफनी राइस ने शुक्रवार को कहा कि वह भारत में एक अकादमी खोलना चाहती है ताकि उसके खेल में भारत से भविष्य के ओलंपिक पदक विजेता निकल सकें. राइस ने कहा, ‘‘मैं भारत में अकादमी खोलना चाहती हूं. मेरे पास ऐसा करने के कई मौके आए लेकिन सही समय और बुनियादी ढांचा नहीं मिल सका. बीजिंग ओलंपिक में तीन गोल्ड जीत चुकीं राइस इन दिनों पीकेएल में कॉमेंट्री कर रही हैं. 

1/8

बीजिंग ओलंपिक में जीते थे तीन गोल्ड मेडल

Won 3 gold medals 2008 Olympic

स्टेफनी राइस ने बीजिंग ओलंपिक में 20 बरस की उम्र में ऑस्ट्रेलिया के लिए तीन गोल्ड मेडल जीते थे. इसके छह साल बाद उसने खेल को अलविदा कह दिया था. फिलहाल राइस एक मेंटॉर और एत्रपेन्योर हैं ओर निजी प्रशिक्षण का  कार्य भी करती हैं. वे फिटनेस और वेल्नेस के लिए प्रमोशन भी कर चुकी हैं.(सभी फोटो स्टेफनी के इंस्टाग्राम अकाउंट से)

2/8

भारत से बहुत लगाव

attached to India

मुझे भारत से बहुत लगाव है और मैने तैराकी अकादमी शुरू करने के लिए कई लोगों से बात की है.’’ उसने कहा, ‘‘भारत को ओलंपिक में अच्छा प्रदर्शन करना है तो तैराकी जैसे खेल में पदक जीतने होंगे.’’ 

3/8

खेल संस्कृति का अभाव है भारत में

Lacking Sports culture in India

राइस ने कहा, ‘‘भारत क्रिकेट और हाकी में बहुत अच्छा प्रदर्शन कर रहा है. मुझे नहीं लगता कि यहां खेल संस्कृति का अभाव है. भारत में प्रतिभा की कमी नहीं है और बुनियादी ढांचा भी अच्छा है. आपको अच्छे कोचों और सहयोगी स्टाफ की जरूरत है और उन्हें कम से कम चार साल दिए जाने चाहिए.’’ 

4/8

2024 की तैयारी अभी से करनी होगी

Have to start preparations for 2024 now

राइस ने कहा, ‘‘भारत को 2024 ओलंपिक में अच्छा प्रदर्शन करना है तो तैयारी अभी से शुरू करनी होगी.’’ भारत का ओलंपिक में रिकॉर्ड अच्छा नहीं है. 

5/8

भारत में कॉमेंट्री करने की तैयारी

Preparing for Commentary

राइस कुछ दिन पहले ही कहा था कि वे प्रो कब्बडी लीग में कॉमेंट्री करने जा रही हैं. इसके अलावा राइस रियो ओलंपिक में भी उस कॉमेंट्री टीम का हिस्सा थी जिसने भारत के प्रदर्शन का विश्लेषण किया था. तीस वर्षीय राइल ने बताया कि वे पहले भी भारत में टेलीविजन के लिए काम कर चुकी हैं इस लिए पीकेएल के लिए कॉमेंट्री का हिस्सा बनने में कोई दिक्कत नहीं आ रही है.

6/8

कबड्डी की बारीकियां समझ रहीं हैं

Knowing details of Kabaddi

राइस ने कहा, “हालाकि मैं इससे पहले कबड्डी के बारे में नहीं जानती थी, मुझे शुरू से आगाज करना था. भारतीय नामों का उच्चारण करना मुश्किल होता है, लेकिन मैं अब सीखते हुए एंजॉय कर रही हूं

7/8

2006 से चर्चा में रहीं राइस

Noticed since 2006

स्टेफनी राइस पहली बार 2006 मेलबॉर्न कॉमनवेल्थ गेम्स से चर्चा में आईं. उन्होंने 200 मीटर और 400 मीटर में 2 गोल्ड मेडल जीतकर वे सबकी नजर में आ गईं थी.  इसके बाद स्टेफनी ने 2008 बीजिंग ओलंपिक में कुल 3 गोल्ड मेडल जीत कर इतिहास रच दिया. इसके लिए उन्हें साल 2009 में मेडल ऑफ द ऑर्डर ऑफ ऑस्ट्रेलिया का सम्मान भी मिला. स्टेफनी ने 2009 से 2011 के बीच वर्ल्ड चैंपियनशिप में कुल 7 मेडल अपने नाम किए. इनमें 2 सिल्वर और 5 ब्रॉन्ज मेडल शामिल थे. राइस पैन पैसिफिक चैंपियनशिप में भी वह 2 मेडल अपने नाम कर चुकी हैं.

8/8

2014 में लिया था संन्यास

Retired form swimming in 2014

लंदन ओलंपिक से पहले उन्हें अपने कंधे की सर्जरी करानी पड़ी थी. वे लंदन ओलंपिक में कोई मेडल नहीं जीत सकीं थी. राइस ने अप्रैल 2014 में संन्यास की घोषणा कर दी थी. अपने करियर के दौरान खेल से अधिक ग्लैमर की वजह से चर्चा में रही. एक के बाद लगातार तीन ओलिंपिक गोल्ड मेडल जीतने के बाद उन्हें लेडी फेल्प्स तक कहा जाने लगा था.