इस बार एशियाई खेलों के एथलेटिक्स में इन खिलड़ियों से है देश को पदक की उम्मीद

572 खिलाड़ियों के दल में भारत को इस बार कई खेलों में पदकों की उम्मीदें हैं. 

विकास शर्मा | Aug 16, 2018, 18:24 PM IST

इंडोनेशिया के जकार्ता में 18वें एशियाई खेलों का शनिवार 8 अगस्त से आगाज होने जा रहा है. इस बार इन खेलों में भारत के कुल 572 खिलाड़ी इन खेलों में हिस्सा ले रहे हैं जो 36 खेलों में देश को पदक दिलाने का प्रयास करेंगे. खिलाड़ियों को मिलाकर भारतीय दल के सदस्यों की संख्या 800 होगी. पिछली बार इंच्योन में खेले गए पिछले एशियाई खेलों में भारत ने 57 पदक अपने नाम किए थे जिसमें से 11 स्वर्ण, नौ रजत और 37 कांस्य पदक शामिल हैं. इस बार भारत की उम्मीदें भारत्तोलन, कुश्ती, मुक्केबाजी, निशानेबाजी, एथलेटिक्स, बैडमिंटन, कबड्डी और हॉकी से ज्यादा हैं. 

 

1/10

भारतीय एथलेटिक्स लसे भारत को काफी उम्मीदें हैं

Indian Athletics

इस बार एशियाई खेलों में भारत के अधिक पदकों की जीतने की उम्मीदों की कई वजहें हैं. इस बार 36 खेलों में अपना दावा कर रहे कई खिलाड़ी इस बार बेहतरीन फॉर्म में हैं. इस बार कॉमनवेल्थ खेलों में कई खेलों में भारत का बढ़िया प्रदर्शन रहा था जिससे एशियाई खेलों में भारत के पदक जीतने की उम्मीदें काफी बढ़ गई हैं. इस बार भारत की उम्मीदें भारत्तोलन, कुश्ती, मुक्केबाजी, निशानेबाजी, एथलेटिक्स, बैडमिंटन, कबड्डी और हॉकी से ज्यादा हैं. इसके अलावा आर्चरी और टेबल टेनिस में भी भारत को काफी उम्मीदें हैं. इनमें कुछ खास खिलाड़ी हैं जो पदक जीतने के प्रबल दावेदार हैं. 

2/10

नीरज चोपड़ा ने हाल ही में अंरराष्ट्रीय स्तर पर बेहतरीन प्रदर्शन किया है

Neeraj chopra

नीरज चोपड़ा के इस बार जेवलीन थ्रो में पदक लाने की पूरी उम्मीदें हैं. इसकी वजह यह है कि नीरज इस समय दुनिया के शीर्ष जेवलीन थ्रोअर में से एक हैं और गोल्डकोस्ट कॉमनवेल्थ खेलों में भी स्वर्ण पदक जीत चुके हैं. (फोटो :Reuters)

3/10

दुती चंद भारत की सबसे तेज महिला धावक हैं

Duti Chand

दुती चंद ओडीशा की एथलीट हैं और इस समय भारत की सबसे तेज धावक मानी जाती हैं. वे 100 मीटर और 200 मीटर दौड़ में गोल्ड की प्रबल दावेदार हैं. दुती चंद ने 100 मीटर स्पर्धा में कुछ महीने पहले ही अपना ही राष्ट्रीय रिकॉर्ड तोड़ा था. 

4/10

मोहम्म अनस याहिया खान ने अपना राष्ट्रीय रिकॉर्ड बेहतर किया

Mohammed Anas Yahiya

मोहम्मद अनस याहिया ने कॉमनवेल्थ खेलों में मिल्खा सिंह के बाद पहले ऐसे धावक होने का गौरव हासिल किया था जिन्होंने पुरुषों की 400 मीटर दौड़ में फाइनल में जगह बनाई थी.  अनस फाइनल में जरूर चौथे स्थान पर रहे लेकिन उन्होंने अपने ही रिकॉर्ड में सुधार कर नया राष्ट्रीय रिकॉर्ड भी बनाया था. याहिया अब एशियाड में पदक के प्रबल दावेदार माने जा रहे हैं.

 

5/10

हिमा दास स्वर्ण पदक की प्रबल दावेदार हैं

 Hima Das

हिमा दास ने हाल ही में आईएएफ वर्ल्ड अंडर-20 चैम्पियनशिप की महिलाओं की 400 मीटर स्पर्धा में स्वर्ण जीत कर इतिहास रच दिया था.  हिमा ने राटिना स्टेडियम में खेले गए फाइनल में 51.46 सेकेंड का समय निकालते हुए जीत हासिल की. वे इस चैम्पियनशिप में सभी आयु वर्गों में स्वर्ण जीतने वाली भारत की पहली महिला बनी थीं, हिमा से देश को पदक की पूरी उम्मीदें हैं. (फोटो :PTI)

6/10

सीमा पुनीय डिसकस थ्रो

Seema Punia

सीमा पुनिया डिसकस थ्रो में भारत के लिए पदक जीतने की प्रबल दावेदार हैं. पुनिया ने कॉमनवेल्थ खेलों में रजत पदक जीता था. 

7/10

भारतीय महिला रिले टीम में हिमा दास की मौजूदगी अहम होगी

Indian Realy team

भारतीय महिला रिले टीम भी इस बार पदक को लेकर काफी आशांविंत है. पिछली बार इंचियोन में स्वर्ण पदक जीतने के साथ टीम ने लगातार तीन बार एशियाई खेलों में स्वर्ण पदक जीता है. इस टीम में हिमा दास के भी शामिल होने से भारतीय टीम की ताकत काफी बढ़ गई है. 

8/10

खुशबीर कौर 20किमी पैदल चाल

Khushbir kaur

खुशबीर कौर को इस बार एशियाई खेलों में पैदल चाल में पदक की उम्मीद है. खुशबीर 2014 के इंचियोन खेलों में 20 किमी पैदल चाल स्पर्धा में रजत पदक जीत चुकी हैं. इस बार भी खुशबीर कौर से देश का पदक की पूरी उम्मीद है. 

9/10

अरोकिया राजीव - 400 मीटर

Akoria Rajiv

अरोकिया राजीव ने हाली ही में 58वी राष्ट्रीय एथेलटिक्स में 400 मीटर की दौड़ में 45.78 सेकेंड्स का रिकॉर्ड बनाया था. वे इस रिकॉर्ड के साथ 2014 इंचियोन में कांस्य पदक जीत लेते. राजीव इस बार देश के लिए पदक लाने की उम्मीद कर रहे हैं. 

10/10

नवीन कुमार डागर- स्टीपलचेज

Naveen Kumar Dagar

3000 स्टीपलचेज में नवीन कुमार दागर ने 2014 एशियाई खेलों में कांस्य पदक जीता था इस बार उन्होंने अपने तब के प्रदर्शन में काफी सुधार किया है.  वे पदक के प्रबल दावेदार हैं.