ब्लड बैंकिंग सिस्टम की बड़ी खामी उजागर, पिछले साल बर्बाद हुआ 7 लाख यूनिट से ज्यादा खून

यहां हम आपको एक-एक कर देश के सभी प्रमुख समाचार पत्रों की बड़ी खबर से रू-ब-रू करवाएंगे.

Aug 05, 2018, 09:36 AM IST

नई दिल्ली: यहां हम आपको एक-एक कर देश के सभी प्रमुख समाचार पत्रों की बड़ी खबर से रू-ब-रू करवाएंगे. रविवार के अखबारों की बात करें तो सभी अखबारों ने कश्मीर में मुठभेड़ की खबर को प्रमुखता के साथ प्रकाशित किया है.

1/5

Top news of hindi and english newspaper

दैनिक भास्कर: दैनिक भास्कर के रविवार के अंक में पहले पन्ने पर छपी एक खबर में बताया गया है कि देशभर में साल भर ब्लड डोनेशन के अंतर्गत लाखों लोग रक्तदान करते हैं. बावजूद इसके बड़ी संख्या में मरीजों की रक्त के अभाव में मौत हो जाती है. खबर के मुताबिक कहा जाता है कि ब्लड बैंक में रक्त की कमी है. लेकिन खबर में आगे दावा किया गया है कि सूचना का अधिकार अधिनियम के अंतर्गत मांगी गई एक जानकारी में इसके विपरीत जानकारी हासिल हुई है कि देशभर में पिछले वर्ष लाखों यूनिट रक्त बर्बाद हुआ है. खबर में बताया गया है कि यह जानकारी फाजिल्का निवासी आरटीआई मूवमेंट के संरक्षक राजेश ठकराल द्वारा मांगी गई थी. खबर के मुताबिक जवाब में नेशनल एड्स कंट्रोल ऑर्गेनाइजेशन ने बताया है कि वर्ष 2017 में 7 लाख 22 हजार 406 यूनिट रक्त और उसके उत्पाद बर्बाद हो गए. अगर इस रक्त की गिनती लीटरों में करें तो तकरीबन इससे 60 टैंकर भरे जा सकते हैं. आरटीआई में मिली जानकारी ने देश के ब्लड बैकिंग सिस्टम की गंभीर खामियों को उजागर किया है.

2/5

Top news of hindi and english newspaper

दैनिक जागरण: दैनिक जागरण के रविवार के अंक में पहले पन्ने पर छपी एक खबर में बताया गया है कि मध्य प्रदेश में ग्वालियर के नागेंद्र उर्फ लल्ला ने हाई कोर्ट के फैसले के इंतजार में 13 साल की जेल काट ली, लेकिन जब फैसला आया तो कोर्ट ने मारपीट की धारा में उसे दो साल की सजा के लिए ही दोषी माना. खबर के मुताबिक कोर्ट ने कहा कि अभियोजन के पास आरोपित के खिलाफ ऐसे साक्ष्य नहीं हैं जिससे उसे हत्या के लिए दोषी माना जा सके और वह 13 साल की सजा पहले ही काट चुका है, इसलिए उसे जेल से रिहा किया जाए. खबर में आगे बताया गया है कि गोविंद सिंह ने पांच मई 1999 को गोहद थाने में मामला दर्ज कराया था कि उनके भाई राममोहन सुबह पानी भरने जा रहे था तब लल्ला एवं उसके साथियों ने उन पर चाकू से हमला कर दिया था. जब गोविंद सिंह मौके पर पहुंचे तो लल्ला अपने साथियों के साथ चाकू से भाई राममोहन को गोद रहा था, जिससे उनकी मौके पर ही मौत हो गई थी. खबर के मुताबिक 23 जुलाई 2002 को न्यायालय ने लल्ला को हत्या के मामले में आजीवन कारावास और धारा 324 में दो साल की सजा सुनाई थी.

3/5

Top news of hindi and english newspaper

हिन्दुस्तान: हिन्दुस्तान अखबार के रविवार के अंक में पहले पन्ने पर प्रकाशित एक खबर में बताया गया है कि लोक सेवा आयोग की पीसीएस तथा सहायक वन संरक्षक एवं क्षेत्रीय वन अधिकारी (एसीएफ एण्ड आरएफओ) प्रारंभिक परीक्षा 2018 टल गई है. खबर के मुताबिक अब यह परीक्षा 19 अगस्त के बजाय 28 अक्तूबर को कराई जाएगी. इसी वजह से 28 अक्तूबर को पहले से प्रस्तावित राजकीय डिग्री कॉलेज स्क्रीनिंग परीक्षा 2017 को भी स्थगित कर दिया गया है. खबर में आगे बताया गया है कि आयोग ने अभी स्क्रीनिंग परीक्षा की तिथि नहीं घोषित की है. खबर के मुताबिक आयोग की परीक्षा नियंत्रक अंजू कटियार की ओर से जारी सूचना में परीक्षा टालने की वजह स्पष्ट नहीं की गई है बस अपरिहार्य कारणों से लिखा गया है. लेकिन आयोग सूत्रों का कहना है कि इसकी मुख्य वजह आवेदकों की संख्या में लगभग दो लाख की वृद्धि होना है. इस वजह से आयोग को करीब दस और जिलों में परीक्षा का इंतजाम करना या कुछ जिलों में परीक्षा केंद्र बढ़ाना होगा.

4/5

Top news of hindi and english newspaper

नवभारत टाइम्स: नवभारत टाइम्स के रविवार के अंक में पहले पन्ने पर प्रकाशित एक खबर में दावा किया गया है कि विरार-अलीबाग मल्टी मॉडल परियोजना की सभी मुश्किलें (पहले जमीन की और अब परियोजना की लागत के लिए रकम की भी) दूर हो गईं हैं. खबर के मुताबिक मल्टीमॉडल कॉरिडोर के लिए धन विश्व बैंक मुहैया कराएगा इससे परियोजना का रास्ता साफ हो गया है. खबर में जानकारी दी गई है कि 126 किलोमीटर लंबे इस कॉरिडोर के शुरू होने से विरार-अलीबाग के बीच की दूरी घट जाएगी. खबर में आगे मुंबई महानगर क्षेत्र विकास प्राधिकरण (एमएमआरडीए) के हवाले से यह भी बताया गया है कि दिसंबर तक परियोजना के निर्माण कार्य की निविदाएं मंगाई जाएंगी. खबर में यह भी बताया गया है कि विरार-अलीबाग को जोड़ने के लिए राज्य सरकार ने 16 लेन का मल्टीमॉडल कॉरिडोर बनाने का फैसला किया था.

5/5

Top news of hindi and english newspaper

अमर उजाला: अमर उजाला के रविवार के अंक में पहले पन्ने पर प्रकाशित एक खबर में बताया गया है कि एक महिला ने अपने पड़ोसी युवक की मदद से अपने पति के मोबाइल में एक जासूसी एप इंस्टॉल कर दिया था. खबर के मुताबिक एप की ममद से महिला को अपने पति के हर पल की खबर मिलती रहती थी लेकिन शक होने पर पति ने पुलिस में शिकायत कर दी जिसके बाद पड़ोसी युवक जेल पहुंच गया. खबर में पुलिस के हवाले से बताया गया है कि कोच्चि के एलामक्कारा निवासी 32 वर्षीय के एस. अजीत को उसके पड़ोसी की तरफ से दी गई शिकायत के आधार पर गिरफ्तार किया गया है. पुलिस के मुताबिक इस मामले में महिला को भी आरोपी बनाया जाएगा.