आपके पैसों से करोड़ों की कमाई कर रही है SBI, छोटी सी गलती से लगती है 157 रुपये की चपत

यहां हम आपको एक-एक कर देश के सभी प्रमुख समाचार पत्रों की बड़ी खबर से रू-ब-रू करवाएंगे.

Jun 10, 2018, 09:40 AM IST

नई दिल्ली: यहां हम आपको एक-एक कर देश के सभी प्रमुख समाचार पत्रों की बड़ी खबर से रू-ब-रू करवाएंगे. रविवार के अखबारों की बात करें तो सभी अखबारों मोदी की चीन यात्रा की खबर को प्रमुखता के साथ प्रकाशित किया है.

1/5

Top news of hindi and english newspaper

दैनिक भास्कर: दैनिक भास्कर के रविवार के अंक में पहले पन्ने पर प्रकाशित एक खबर में दावा किया गया है कि स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (एसबीआई) ने पिछले 40 महीनों में 38 करोड़ 80 लाख रुपए सिर्फ चेक पर हस्ताक्षर का मिलान न होने के एवज में ग्राहकों के खाते से काट लिए हैं. खबर के मुताबिक इस तरह एसबीआई सालाना औसतन 12 करोड़ रुपए कमाई कर रहा है. खबर में बताया गया है कि वित्त वर्ष 2017-18 में सिर्फ हस्ताक्षर नहीं मिलने की वजह से खाताधारकों के खाते से 11.9 करोड़ रुपए काटे गए हैं. खबर में इस बात का भी दावा किया गया है कि सिर्फ स्टेट बैंक में ही हर दिन दो हजार से ज्यादा चेक रिटर्न हो रहे हैं. जबकि इन सभी खाताधारकों के खाते में काटे गए चेक के एवज में पर्याप्त राशि थी. खबर में बताया गया है कि एक आरटीआई के जवाब में बैंक ने माना कि कोई भी चेक रिटर्न हो तो बैंक 150 रुपए चार्ज करता है और इस पर जीएसटी भी लगाता है. यानी हर रिटर्न चेक का खमियाजा खातेदार को 157 रुपए में भुगतना पड़ता है, भले ही उसके खाते में चेक को ऑनर करने की रकम मौजूद हो.

2/5

Top news of hindi and english newspaper

दैनिक जागरण: दैनिक जागरण के रविवार के अंक में पहले पन्ने पर प्रकाशित एक खबर में बताया गया है कि रमजान के दौरान आतंकियों के खिलाफ ऑपरेशन बंद करने का दांव सफल रहा. खबर में यह भी बताया गया है कि पहली बार कश्मीर की सड़कों पर न सिर्फ आम लोगों ने केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह का जोरदार स्वागत किया, बल्कि नई परंपरा शुरू करते हुए मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती की इफ्तार पार्टी से पहले राष्ट्रगान बजाया गया और सबने खड़े होकर इसका सम्मान किया. खबर में दावा किया गया है कि पाकिस्तान परस्त हुर्रियत भी पहली बार राजनाथ सिंह के दौरे के वक्त बंद का आह्वान करने की हिम्मत नहीं जुटा पाई. खबर में राजनाथ सिंह के कश्मीर दौरे पर नजर रखने वाले उच्च पदस्थ आधिकारिक सूत्रों के हवाले से बताया गया है कि इसके पहले गृह मंत्री समेत किसी भी बड़े नेता के कश्मीर दौरे के समय सड़कें खाली होती थीं. हुर्रियत के बंद के आह्वान के कारण दुकानें बंद होती थीं और वे चुने हुए प्रतिनिधियों व अधिकारियों के साथ बातचीत कर लौट आते थे, लेकिन इस बार फिजा बदली-बदली नजर आई.

3/5

Top news of hindi and english newspaper

हिन्दुस्तान: हिन्दुस्तान अखबार के रविवार के अंक में पहले पन्ने पर खुलासा किया गया है कि पंजाब के कुख्यात लॉरेंस बिश्नोई गिरोह का शूटर संपत नेहरा अभिनेता सलमान खान को मारना चाहता था. खबर में बताया गया है कि उसने मुंबई जाकर उनके घर की रेकी भी की थी. खबर में दावा किया गया है कि हरियाणा एसटीएफ की नेहरा से शनिवार को पूछताछ में यह खुलासा हुआ है. खबर में एसटीएफ के डीआईजी बी. सतीश बालन के हवाले से बताया गया है कि जोधपुर जेल में बंद लॉरेंस बिश्नोई ने गत 4 जनवरी को जोधपुर कोर्ट में पेशी के दौरान सलमान को मारने की धमकी दी थी. इसके बाद संपत नेहरा सक्रिय हुआ था. मई के पहले हफ्ते में वह मुंबई पहुंचा. उसने सलमान के घर गैलेक्सी अपार्टमेंट की रेकी के दौरान उनके आने-जाने का समय और सुरक्षा के बारे में जानकारी भी ली थी. खबर में बताया गया है कि हरियाणा एसटीएफ ने 6 जून को संपत नेहरा को गिरफ्तार किया था.

4/5

Top news of hindi and english newspaper

अमर उजाला: अमर उजाला के रविवार के अंक में पहले पन्ने पर प्रकाशित एक खबर में बताया गया है कि दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने एक बार फिर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उपराज्यपाल अनिल बैजल पर गंभीर आरोप लगाए हैं. खबर के मुताबिक केजरीवाल ने शनिवार को आरोप लगाया कि सीबीआई और भ्रष्टाचार निरोधक शाखा (एसीबी) उन्हें फंसाना चाहती है. इसके लिए वे दिल्ली जल बोर्ड में फाइलें खंगाल रही हैं, क्योंकि जल मंत्रालय उनके पास है और दिल्ली जल बोर्ड उसके अधीन है. खबर में बताया गया है कि इस संबंध में उन्होंने एक के बाद एक कई ट्वीट किए. खबर में आगे बताया गया है कि केजरीवाल ने ट्वीट किया कि प्रधानमंत्री, उपराज्यपाल और भाजपा के पास कोई विशेष जानकारी हो या किसी विशेष मामले में जांच करनी हो तो करें, लेकिन दिल्ली सरकार के सभी विभागों को बंद कर लोगों को परेशान न करें.

5/5

Top news of hindi and english newspaper

नवभारत टाइम्स: नवभारत टाइम्स के रविवार के अंक में पहले पन्ने पर प्रकाशित एख खबर में बताया गया है कि एक कैब ने सामने से एक बाइक पर टक्कर मार दी थी. बाइक सवार दो में से एक की हालत गंभीर थी. भीड़ ने गंभीर हालत वाले को अस्पताल में भर्ती कराने का दबाव बनाया. खबर के मुताबिक हंगामा देख कैबवाला घायल को अस्पताल ले जाने की बात कहकर निकल गया. लेकिन उसने घायल को सुनसान पहाड़ी इलाके में फेंक दिया. रातभर तड़पने के बाद घायल ने दम तोड़ दिया. खबर में पुलिस के हवाले से बताया गया है कि घटना सूरजकुंड इलाके के लक्कड़पुर रोड में शुक्रवार को घटी. लक्कड़पुर के वीरचंद्र जोशी और इरशाद बाइक से ध्रुव डेरा जा रहे थे. तभी सामने से कैब ने टक्कर मारी तो हादसे में इरशाद ज्यादा घायल हो गया. वीरचंद्र को मामूली चोट आई. भीड़ के प्रेशर में कैब ड्राइवर घायल इरशाद को अस्पताल ले जाने की बात कहकर चला गया. वीरचंद्र ने नजदीकी अस्पताल में मामूली चोटों का इलाज कराया और फिर इरशाद की खोज शुरू की, लेकिन उसका पता नहीं चला. शनिवार सुबह पुलिस को सूचना दी गई. पुलिस ने इरशाद के मोबाइल को सर्विलांस में डाला और सिद्धदाता आश्रम के पीछे वाली अरावली की पहाड़ियों से इरशाद को खोज निकाला. लेकिन तब तक वह दम तोड़ चुका था.