X

7 की उम्र में ही ठान लिया था बनेंगे एयरफोर्स का हिस्सा, बेंगलुरु हादसे में गई जान

बेंगलुरु में प्रतिष्ठित एयरो इंडिया शो के लिए अभ्यास करते वक्त दो विमानों के आपस में टकराने से हुए हादसे में हरियाणा में एक लाल खो दिया है. 

परिजनों से संपर्क बनाए हुए हैं अधिकारी

1/6
परिजनों से संपर्क बनाए हुए हैं अधिकारी

हादसे के बाद से लगातार एयरफोर्स के अधिकारी साहिल के परिजनों से संपर्क में है. साहिल केसाथी विंग कमांडर वि‍जय शेल्के और स्क्वाड्रन लीडर तेजेश्वर भी मंगलवार को बेंगलुरु में रिहर्सल के दौरान विमानों के आपस में टरकाने के बाद हुए हादसे में घायल हो गए थे. 

2009 में हुई थी शादी

2/6
2009 में हुई थी शादी

साहिल गांधी का जन्म 18 नवम्बर, 1982 को हिसार में हुआ था. उन्होंने हिसार स्थित चौधरी चरण सिंह हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय के कैम्पस स्कूल में 12वीं तक की पढ़ाई की. इसके बाद 2004 में साहिल ने एनडीए का एग्जाम क्लीयर कर लिया. फिलहाल गांधी कर्नाटक के विदर्भ में पोस्टेड थे. साल 2009 में साहिल की शादी हिमानी के साथ हुई, हिमानी अमेरिका में एक कंपनी में काम करती है. 

रिटायर हो चुके हैं पिता

3/6
रिटायर हो चुके हैं पिता

साहिल के बड़े भाई नितिन भी स्वीजरलैण्ड में कार्यरत है. साहिल का पांच साल का एक बेटा रियान भी है. विंग कमांडर साहिल गांधी के पिता मदन गांधी स्टेट बैंक ऑफ इंडिया से मैनेजर के पद से रिटायर्ड है और उनकी माता प्रोफेसर सुदेश गांधी हिसार के हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय के होम साइंस कॉलेज से कुछ समय पहले ही रिटायर हुई थी. इनका पैतृक आवास हिसार के पीएलए एरिया में है. फिलहाल सूचना पाकर साहिल की पत्नी, बेटा व भाई विदेश से भारत के लिए रवाना हो चुके है. उनके परिजनों ने बताया कि साहिल ने महज 7 साल की उम्र में ही एयरफोर्स में शामिल होने का सपना संजोया था.

 

कुछ ही सैकेंड में हो गया था हादसा

4/6
कुछ ही सैकेंड में हो गया था हादसा

सूर्य किरण डिस्प्ले टीम विमान बेंगलुरु में एयरो इंडिया शो के लिए अभ्यास कर रहे थे. इसी बीच अचानक जब दोनों विमान उतरने का प्रयास कर रहे थे, तभी एक विमान का पंख दूसरे विमान से टकरा गया. टक्कर होते ही दोनों विमान जमीन पर गिर पड़े. जमीन पर गिरते ही इनमें आग लग गई. हादसे का शिकार बने ये दोनों विमान हॉक वायुसेना की सूर्य किरण डिस्पले टीम के हिस्सा थे. 

 

लोग पहुंच रहे संवेदना जताने

5/6
लोग पहुंच रहे संवेदना जताने

हादसे की सूचना मिलने के बाद साहिल के घर में सांत्वना देने वालों का तांता लग रहा है. देर रात को भी आवाजाही जारी थी. स्थानीय विधायक कमल गुप्ता ने भी परिवार को सीएम मनोहर लाल की तरफ से सांत्वना प्रकट करते हुए ढांढस बंधाया. 

 

साहिल की बहादुरी को भुलाया नहीं जा सकता

6/6
साहिल की बहादुरी को भुलाया नहीं जा सकता

हिसार के मेयर गौतम सरदाना ने कहा कि ‘हादसे ने हिसार के एक बेटे को हमारे से हमेशा के लिए छीन लिया है, इस दु:ख की घड़ी में पूरा हिसार परिवार के साथ है. साहिल के जज्बें और बहादुरी को भुलाया नहीं जा सकता. 

photo-gallery