राजकोट में 'बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ' की अनोखी पहल, बेटियों के नाम पर होंगे 9,000 कक्षाओं के नाम

राजकोट जिले की जिला पंचायत ने बेटियों की जन्म दर बढ़ाने के लिए यह महत्वपूर्ण निर्णय लिया है.

निर्मल त्रिवेदी | Jan 29, 2019, 16:26 PM IST

राजकोटः बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान सिर्फ नारे में ही नहीं रह जायें इसके लिए राजकोट जिला विकास अधिकारी द्वारा एक नया प्रयोग किया गया है. राजकोट जिले की 900 से ज्यादा प्राथमिक स्कूलों में लगभग 9 हजार से ज्यादा स्कुल की कक्षाओं का नाम अब बेटियों के नाम पर रखने का निर्णय लिया गया है. इतना ही नहीं स्कुल की अध्यापिकाएं जिसके भी घर बेटी पैदा होगी ऐसे परिवार के घर जाकर बेटी के जन्म का जश्न मनाएगी और उस जन्मी हुई बेटी के नाम से स्कूल के वर्ग खंड (क्लास रूम )का नाम रखा जायेगा. राजकोट जिले की जिला पंचायत ने बेटियों की जन्म दर बढ़ाने के लिए यह महत्वपूर्ण निर्णय लिया है.

1/5

स्कूल का समय पूरा होने पर होगा जश्न

School teacher will celebrate the birth of girl child

जिला विकास अधिकारी ने बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान के तहत एक परिपत्र सार्वजनिक किया गया है, जिसमे राजकोट जिले में जन्म लेने वाली बेटियों के जन्म लेते के बाद गांव की अध्यापिकाएं स्कूल समय पूरा होने के बाद जिस घर में भी बेटी जन्म लेगी उस घर जाकर बेटी के जन्म लेने पर जश्न मनाएगी. वहीं परिवार में जन्मी हुई बेटी का जो भी नाम रखेगा उसके नाम के आधार पर राजकोट जिला पंचायत का शिक्षा विभाग उस गांव की प्राथमिक स्कुल के क्लास रूम नाम उस बेटी के नाम पर रखेगा.

2/5

सरकारी पत्र भेजकर उस पर अमल करने की दी गई सूचना

Information issued by sending government letters

जिला विक्स अधिकारी के अनुसार बेटियों की जन्म दर में वृद्धि हो इस हेतु से यह महत्वपूर्ण निर्णय लिया गया है. और इसके लिए राजकोट की सभी सरकारी स्कूलों को यह परिपत्र भेजकर उस पर अमल करने की सूचना दे  दी गयी है. राजकोट जिला पंचायत  शिक्षा विभाग के अंडर 900 से ज्यादा सरकारी स्कूल्स आती है.

3/5

बेटी के नाम पर रखा जाएगा क्लास का नाम

The name of the class will be named after the daughter

जिसमें लगभग 9000 जितने क्लास रूम का नाम बेटियों के नाम पर रखने का निर्णय लिया गया है. इस कार्य के लिए सभी राजकोट जिले के  गांवो  की सभी अध्यापिकाओं को यह जिम्मेदारी सौंपी गई है. जिसके तहत जिस घर में भी बेटी पैदा होगी उस घर में यह अध्यापिकाएं जाकर उस बेटी के परिवार के साथ सेलेब्रेट करेंगी और उसके बाद परिवार बेटी का जो भी नाम रखेगा वही नाम गांव की स्कूल के क्लास रूम का रखा जायेगा.

4/5

राजकोट जिला पंचायत ने लिया फैसला

Rajkot District Panchayat take the decision

यह निर्णय पहली बार गुजरात में राजकोट जिला पंचायत द्वारा लिया गया है. जिसके लिए कोई समय सिमा निर्धारित नहीं की गयी है ,अगर स्कुल के क्लास रूम्स का नाम बेटियों के नाम से पूरा हो जाता है तो उसके बाद सरकारी ऑफिसों को बेटियों के नाम से रखने की मंजूरी लेकर बेटियों के नाम से रखने का प्रावधान किया जा रहा है.

 

5/5

बेटियों के जन्म पर मना जश्न

Celebrating the birth of daughters

सरकार द्वारा बेटियों की जन्म दर में कमी आने की रिपोर्ट सामने आयी है. तब राजकोट जिला पंचायत द्वारा बेटियों की जन्म दर में वृद्धि करने का यह अनोखा प्रयास और प्रयोग किया जा रहा है. उल्लेखनीय है की इस निर्णय के पहले ही दिन राजकोट जिले के हाथसणी और लालावदर में तीन जगहों पर नवजात बेटियों का जन्म हुआ जिस पर जिला पंचायत द्वारा जश्न मनाया गया.