Assembly Elections 2018: चुनावी माहौल में ये तीन बड़े नेता जो ट्विटर पर छा गए..

Assembly Election Results: पांचों राज्यों के नतीजे आ चुके हैं. छत्तीसगढ़, राजस्थान और मध्य प्रदेश में कांग्रेस सरकार बनाने जा रही है. तेलंगाना में TRS और मिजोरम में MNF को बहुमत मिला है.

Assembly Elections 2018: चुनावी माहौल में ये तीन बड़े नेता जो ट्विटर पर छा गए..
AIMIM प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी. (फाइल फोटो)

हैदराबाद: चुनाव का शोरगुल पूरी तरह खत्म हो चुका है. अब सरकार बनाने की जद्दोजहद शुरू हो गई है. चुनाव के दौरान प्रचार के लिए सोशल मीडिया का जमकर इस्तेमाल किया गया. खासकर ट्विटर के जरिेए राजनीतिक पार्टियों और राजनेताओं ने तुरंत अपनी बात जनता से सामने रखी. सोशल मीडिया पर कौन सबसे ज्यादा एक्टिव रहे इसको लेकर एक सर्वे में AIMIM प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी टॉप पर आएं हैं. तेलंगाना की बात करें तो केटी रामा राव, असदुद्दीन ओवैसी, TPCC नेता उत्तम कुमार रेड्डी और बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष डॉ के लक्ष्मण ट्विटर पर टॉप मेंशन किए गए हैं.

राष्ट्रीय स्तर पर देखें तो 1 अक्टूबर से 11 दिसंबर के बीच हुए सर्वे में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ट्विटर पर सबसे ज्यादा मेंशन किए गए हैं. जबकि, 2018 विधानसभा चुनाव में खड़े प्रत्याशियों में राजस्थान की पूर्व सीएम वसुंधरा राजे और तेलंगाना के चंद्रशेखर राव ट्विटर पर सबसे ज्यादा मेंशन किए गए हैं.

तेलंगाना: ओवैसी की पार्टी को 2.7 फीसदी वोट और 7 विधायक, BJP को 7 फीसदी वोट और 1 विधायक

#AssemblyElections2018 को लेकर ट्विटर की तरफ से जारी डेटा के मुताबिक, राजस्थान कांग्रेस और मध्य प्रदेश कांग्रेस का ट्विटर हैंडल तेलंगाना कांग्रेस से ज्यादा एक्टिव था. उसी तरह बीजेपी मध्य प्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ का ट्विटर हैंडल तेलंगाना के मुकाबले ज्यादा एक्टिव था.

1 अक्टूबर के बाद #AssemblyElections2018 के नाम पर 66 लाख ट्वीट किए गए. ट्विटर के जरिए क्षेत्रीय स्तर के मुद्दों को भी प्रमुखता से उठाया गया और इसका असर भी देखने को मिला है. पिछले 9 हफ्ते में चुनाव प्रचार के दौरान रूरल इकोनॉमी सबसे ज्यादा चर्चा का विषय रहा है.

हैदराबाद सिटी में औवैसी की बादशाहत कायम, AIMIM के 7 प्रत्याशी जीते

रूरल इकोनॉमी के अलावा लोगों ने जाति और धर्म की राजनीति पर बात की. EVM से छेड़छाड़ , वंशवाद की राजनीति और भ्रष्टाचार जैसे विषय लोगों के चर्चा के विषय रहे हैं. नेताओं और पार्टियों ने जो घोषणाएं की है वो भी चर्चा के विषय रहे हैं.