पटना: बंगाल हिंसा पर BJP ने दिया धरना, नितिन नवीन बोले- असहिष्णुता पर बोलने वाले अब कहां गए

Bihar News: बंगाल में चुनाव परिणाम के बाद जारी हिंसा को लेकर बीजेपी के धरने पर सियासी बवाल बढ़ गया है. विपक्ष ने बिहार को देखने की सलाह दी है.  

पटना: बंगाल हिंसा पर BJP ने दिया धरना, नितिन नवीन बोले- असहिष्णुता पर बोलने वाले अब कहां गए
मंत्री नितिन नवीन ने बंगाल हिंसा के खिलाफ प्रदर्शन किया

Patna: बंगाल में चुनावी हिंसा (West Bengal Violence) के खिलाफ बुधवार को बिहार में बीजेपी (Bihar BJP) के नेताओं ने अपने घरों पर सांकेतिक धरना दिया. लेकिन, इस धरना को लेकर बिहार में अलग ही सियासी बवाल देखने को मिला.

विपक्ष ने बीजेपी के धरने पर सवाल उठाए हैं. विपक्ष ने सत्ताधारी दल भाजपा से सवाल पूछा है कि बिहार में कोरोना की बुरी स्थिति है. पटना हाईकोर्ट की तल्ख टिप्पणी आ रही है, ऐसे में बीजेपी के नेताओं को चिकित्सा सुविधा को लेकर धरना देना चाहिए न कि पॉलिटिकल स्टंट करना चाहिए.

बंगाल मे चुनाव परिणाम के बाद बीजेपी कार्यकर्ताओं पर हो रहे हिंसा के खिलाफ बीजेपी नेता सांकेतिक धरने पर बैठे. बीजेपी नेता बिहार सरकार के मंत्री नितिन नवीन भी अपने आवास पर कार्यकर्ताओं के साथ धरने पर बैठे.

नितिन नवीन ने ममता बनर्जी को चेतावनी दी कि अगर बीजेपी कार्यकर्ताओं पर होने वाले हमले बंद नहीं हुए तो वहां सरकार चलने नहीं दी जाएगी. नितिन नवीन ने असहिष्णुता को लेकर सवाल उठाने वाले लोगों पर भी सवाल खड़े किये.

इतना ही नहीं राहुल गांधी से भी जवाब मांगा कि आखिर किस मुंह से राहुल गांधी बधाई दे रहे थे. चुनावी हिंसा पर राहुल गांधी को भी जवाब देना चाहिए था. कांग्रेस ने भी बीजेपी के धरना पर सवाल खड़े किये हैं. कार्यकारी अध्यक्ष डॉ समीर सिंह ने कहा कि है कि हिंसा को किसी भी रूप में सही नहीं कहा जा सकता. लेकिन, BJP नेताओं को धरना ही देना था तो बिहार के हालात पर धरना देना चाहिए था.

कांग्रेस नेता ने कहा कि यहां ऑक्सीजन की कमी से विधायक आईएएस अधिकारी मर रहे कोई देखने वाला नहीं है. ऐसे में बीजेपी को आंदोलन करना ही था तो ऑक्सीजन के मसले पर आंदोलन करना चाहिए. ईलाज के मसले पर आंदोलन करना चाहिए. आज ज्यादातर राज्यों में बीजेपी की ही सरकारी है. लेकिन, हर जगह की स्थिति आपके सामने है.

बीजेपी के धरना पर rjd विधायक अख्तरुल इस्लाम शाहीन ने भी हमला बोला है. आरजेडी के विधायक ने कहा कि देश मे लाखों लोग कोरोना से मर गए बीजेपी को इसकी परवाह नहीं है. हाईकोर्ट ने इलाज में लापरवाही को लेकर भाजपा-जदयू सरकार को दोषी ठहरा दिया. इसकी परवाह उन्हें नही है. बीजेपी वाले सिर्फ राजनीतिक रोटी सेंकने के लिए धरना दे रहे हैं. अपने राजनीतिक वजूद के लिए धरना दे रहे हैं.

ये भी पढ़ें- Lockdown में पटना के गरीबों के लिए मददगार बने 2 दोस्त, रोजाना 100 से अधिक लोगों का भर रहे हैं पेट

इधर बीजेपी ने धरने को लेकर विपक्ष के हमले को बेकार की कवायद बताया है. Bjp प्रवक्ता मृत्युंजय झा ने कहा है कि विपक्ष बीजेपी को सलाह न दे. भाजपा सही रास्ते अपना काम कर रही है. बंगाल में जो लोग हिंसा कर रहे हैं बिहार के कुछ राजनीतिक दल उनका सपोर्ट कर रहे हैं. उत्साह मना रहे, मोदी जी की आलोचना कर रहे हैं. 

वहीं जेडीयू नेता डॉ सुनील कुमार ने कहा कि बीजेपी का धरना भाजपा पार्टी का मामला है. इसपर किसी दल को क्या आपत्ति हो सकती है. लेकिन, इतना तय है कि बंगाल में जिस तरह की चुनावी हिंसा हो रही है वो लोकतांत्रिक व्यवस्था के खिलाफ है. चुनावी हिंसा को विपक्ष कोरोना से जोड़ दे रहा जो बिल्कुल सही नहीं है. दोनों मामले अलग हैं ये विपक्ष को समझना होगा.

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.