close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

श्रीमद्भागवत गीता से प्रेरित है संविधान, मूल कॉपी में छपी है भगवान राम, कृष्ण की फोटो : रविशंकर प्रसाद

रविशंकर प्रसाद (Ravi Shankar Prasad) ने कहा, 'मैँ आपको दिखाता भारतीय संविधान की ऑरिजनल कॉपी, जिसमें भगवान राम, कृष्ण, भगवान महावीर और दूसरे महापुरुषों की फोटोज छपी हैँ. इसमें अकबर की भी फोटो है. रविशंकर प्रसाद (Ravi Shankar Prasad) ने दावा किया कि इससे साफ है कि संविधान निर्माताओं को भगवत गीता से प्रेरणा मिली थी.

श्रीमद्भागवत गीता से प्रेरित है संविधान, मूल कॉपी में छपी है भगवान राम, कृष्ण की फोटो : रविशंकर प्रसाद
रविशंकर प्रसाद ने कहा है कि सरदार पटेल नहीं होते तो ना जाने देश का क्या होता. फाइल तस्वीर

नई दिल्ली: केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद (Ravi Shankar Prasad) ने शुक्रवार को कहा कि मोदी सरकार ने अंग्रेजों के जमाने के कई कानून को खत्म किया है. तीन तलाक, महिलाओं की सुरक्षा, बेनामी संपत्ति अर्जित करने वालोँ के खिलाफ कानून बनाया है. देश में फास्ट ट्रैक कोर्ट का विस्तार किया जा रहा है. उन्होंने कहा कि मौजूदा सरकार आर्बिट्रेशन काउंसिल बनाएगी. दो अक्टूबर से टैक्स ऑफिसर आम लोगों को सीधा नोटिस नहीं भेज सकेंगे. उसे पूरी सरकारी नियम प्रक्रिया से ही नोटिस भेजने की इजाजत होगी. साथ ही नोटिस का पूरा रिकॉर्ड होगा.

रविशंकर प्रसाद (Ravi Shankar Prasad) ने कहा कि ऑल इंडिया ज्युडिशियल सर्विस बनाने की सरकार की मंशा है. आईएएस और आईपीएस की तर्ज पर ज्यूडिशियल अप्वाइंटमेंट कर सकेगा. मुस्लिम महिलाओं के लिए तीन तलाक की प्रथा बड़ा अन्याय था. ट्रिपल तलाक विरोधी कानून महिलाओं को समानता देता है.

हमने आर्टिकल 370 हटाया है. नेहरू गांधी को जम्मू कश्मीर की जिम्मेदारी दी गई थी, जिसे वह हैंडल नहीं कर सके. सरदार पटेल नहीं होते तो ना जाने देश का क्या होता. पाकिस्तान की दुनिया में कोई सुनवाई नहीं है. जबकि भारत की दुनिया भर में आवाज बढ़ी है. पीएम मोदी वर्ल्ड लीडर बनकर उभरे हैं. 

रविशंकर प्रसाद (Ravi Shankar Prasad) ने कहा, 'मैँ आपको दिखाता भारतीय संविधान की ऑरिजनल कॉपी, जिसमें भगवान राम, कृष्ण, भगवान महावीर और दूसरे महापुरुषों की फोटोज छपी हैँ. इसमें अकबर की भी फोटो है. रविशंकर प्रसाद (Ravi Shankar Prasad) ने दावा किया कि इससे साफ है कि संविधान निर्माताओं को भगवत गीता से प्रेरणा मिली थी.