close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

महाराष्ट्र: शिवसेना के नखरे से नाराज हैं अमित शाह, सरकार का रोडमैप तैयार करने मुंबई पहुंचेंगे नड्डा!

सूत्र बता रहे हैं कि मंगलवार देर रात या फिर बुधवार सुबह बीजेपी के कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा, भूपेन्द्र यादव और उनके साथ एक और परीविक्षक मुंबई पहुंच सकते हैं. बताया जा रहा है कि बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह का दौरा रद्द कर दिया गया है.

महाराष्ट्र: शिवसेना के नखरे से नाराज हैं अमित शाह, सरकार का रोडमैप तैयार करने मुंबई पहुंचेंगे नड्डा!
महाराष्ट्र में सरकार बनाने के लिए गतिविधि तेज हो गई है.

मुंबई: महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव (Maharashtra Assembly Elections 2019) का रिजल्ट आए हुए पांच दिन हो चुके हैं, लेकिन अब तक यहां सरकार बनाने का रास्ता साफ नहीं हो पाया है. गौर करने वाली बात यह है कि महराष्ट्र की जनता ने बीजेपी+शिवसेना (Shiv Sena) गठबंधन को सरकार बनाने का मौका दिया है, लेकिन मुख्यमंत्री की कुर्सी को लेकर दोनों दलों के बीच आपस में ही खींचतान चल रही है. मंगलवार को महाराष्ट्र में सरकार बनाने को लेकर राजनीतिक गतिविधि तेज हो गई है. सूत्र बता रहे हैं कि मंगलवार देर रात या फिर बुधवार सुबह बीजेपी के कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा, भूपेन्द्र यादव और उनके साथ एक और परीविक्षक मुंबई पहुंच सकते हैं. बताया जा रहा है कि बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह का दौरा रद्द कर दिया गया है.

सूत्रों का कहना है कि शिवसेना (Shiv Sena) की ओर से ढाई-ढाई साल के मुख्यमंत्री पद की शर्त रखने पर अमित शाह नाराज बताए जा रहे हैं. फिलहाल दोनों पार्टियों की तरफ से अपने पाले में निर्दलियो को खींचने की कोशिश लगातार जारी है. बताया जा रहा है कि आने वाली सरकार मे भागीदारी को लेकर शिवसेना (Shiv Sena) के बड़े नेताओ की मंगलवार दोपहर के बाद बैठक हो सकती है.

उधर, बीजेपी के बड़े नेता भी बैठक कर रहे हैं. बताया जा रहा है कि इस बैठक में पर्वक्षकों के सामने सरकार बनाने का रोड़मैप पेश किया जा सकता है. बीजेपी को अभी तक तीन निर्दलीय विधायकों का सामर्थन मिला है. जबकि शिवसेना (Shiv Sena) के समर्थन में 5 विधायक जुट चुके हैं, जिससे उनके पास विधायकों का आकड़ा 61 तक पहुंच चुका है.

शिवसेना (Shiv Sena) की मांगों पर उचित जवाब देगी भाजपा: राव
भाजपा (BJP) के राष्ट्रीय प्रवक्ता और राज्यसभा सांसद जीवीएल नरसिम्हा राव ने कहा है कि शिवसेना (Shiv Sena) की सभी मांगें पार्टी के संज्ञान में हैं, पार्टी इस पर उचित जवाब देगी. जीवीएल नरसिम्हा राव ने शिवसेना (Shiv Sena) की ओर से 50-50 फॉर्मूले और मुख्यमंत्री आदि पद को लेकर रखी गई शर्तों के बारे में आईएएनएस से कहा, "शिवसेना (Shiv Sena) की जो भी मांगें आधिकारिक स्तर से रखी गईं हैं, वो पार्टी के संज्ञान में हैं. संबंधित मांगों पर भाजपा (BJP) सही समय पर जो उचित कदम होगा, उठाएगी."

उन्होंने कहा कि विधानसभा चुनाव में महाराष्ट्र का जनादेश भाजपा (BJP) नेतृत्व वाली राजग सरकार के पक्ष में है. प्रतिद्वंदी कांग्रेस और राकांपा गठबंधन का सीटों के मामले में भाजपा (BJP)-शिवसेना (Shiv Sena) गठबंधन से कोई मुकाबला नहीं है. उन्होंने दावा किया कि जल्द ही महाराष्ट्र की जनता को भाजपा (BJP) नेतृत्व की सरकार मिलेगी.

ये भी देखें-:

महाराष्ट्र में 24 अक्टूबर को आए नतीजों में भाजपा (BJP) को 105, शिवसेना (Shiv Sena) को 56, कांग्रेस को 44, शरद पवार की राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) को 54 सीटें मिली हैं. 288 सदस्यीय विधानसभा में बहुमत के 145 के आंकड़े से ज्यादा 161 सीटें हासिल करने के बाद भी सरकार में पदों के बंटवारे को लेकर खींचतान के कारण अब तक भाजपा (BJP)-शिवसेना (Shiv Sena) की सरकार नहीं बन पाई है. 24 अक्टूबर को ही हरियाणा के भी नतीजे घोषित हुए थे और वहां रविवार (27 अक्टूबर) को ही जेजेपी के साथ गठबंधन कर भाजपा (BJP) नेतृत्व की सरकार बन चुकी है.

सोमवार को भाजपा (BJP) और शिवसेना (Shiv Sena) के नेताओं के अलग-अलग जाकर राज्यपाल से मिलने से भी संकेत मिले कि दोनों दलों में अब तक बात नहीं बन पाई है. भाजपा (BJP) ने 30 अक्टूबर को विधायक दल की बैठक बुलाई है, जिसमें मुख्यमंत्री पद के लिए फिर से देवेंद्र फडणवीस के नाम को हरी झंडी मिलनी है.

पार्टी सूत्र बता रहे हैं कि 30 अक्टूबर को ही भाजपा (BJP) अध्यक्ष अमित शाह मातोश्री जाकर उद्धव ठाकरे से भेंट भी कर सकते हैं. इस दौरान सरकार में अहम पदों और विभागों के बंटवारे को लेकर उलझे पेंच को वे सुलझा सकते हैं जिसके बाद दोनों दलों के नेता राज्यपाल से मिलकर सरकार बनाने का दावा कर सकते हैं.