दिग्विजय सिंह बोले- आज महात्मा गांधी जिंदा होते, तो वह भी शाहीन बाग में धरने पर बैठे होते

पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने एक बार फिर CAA और NRC को लेकर मोदी सरकार पर निशाना साधा है.

दिग्विजय सिंह बोले- आज महात्मा गांधी जिंदा होते, तो वह भी शाहीन बाग में धरने पर बैठे होते
दिग्विजय सिंह ने सीएए और एनआरसी के विरोध में किए जा रहे प्रदर्शन का समर्थन किया. (फाइल फोटो)

भोपाल: कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह (Digvijaya Singh) ने शनिवार को कहा कि अगर आज महात्मा गांधी होते तो वह भी शाहीन बाग में नागरिकता संशोधन अधिनियम (CAA) के खिलाफ भूख हड़ताल पर बैठे होते. भोपाल में एक किताब के विमोचन में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ने यह बात कही. नागरिकता संशोधन कानून और प्रस्तावित नेशनल रजिस्टर ऑफ सिटीजन (एनआरसी) के खिलाफ एक महीने से अधिक समय से नई दिल्ली के शाहीन बाग में विरोध प्रदर्शन किया जा रहा है.

कश्मीर से अनुच्छेद 370 को हटाने पर राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह ने कहा, मुझे विश्वास है कि अगर आज गांधीजी जीवित होते, तो उन्होंने आज दिल्ली के लाल किला से श्रीनगर के लाल चौक तक पदयात्रा की शुरुआत की होती. धारा 370 के उन्मूलन के बाद घाटी में रहने वाले लोगों के बीच जो अविश्वास पनपा है, उसे दूर करना उनके लिए सबसे बड़ी जिम्मेदारी होती.

मालूम हो कि केंद्र सरकार ने पिछले साल अगस्त में अनुच्छेद 370 निरस्त कर दिया था, जिसने जम्मू और कश्मीर के तत्कालीन राज्य को विशेष दर्जा दिया था.

कैलाश विजयवर्गीय पर किया कटाक्ष
कांग्रेस नेता ने बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय के पोहा वाले बयान पर भी निशाना साधा. दिग्विजय सिंह ने कहा, ''लोगों के काम और कपड़ों से पहचान करने में कैलाश विजयवर्गीय, प्रधानमंत्री से एक कदम आगे हैं. प्रधानमंत्री मोदी ने कहा था कि वह इंसान के कपड़े देखकर बता सकते हैं कि वह हिंदू है या मुस्लिम. उसी तरह कैलाश भी पोहा खाने के तरीके को देखकर किसी व्यक्ति की नागरिकता की पहचान कर सकते हैं.