सत्ता के लिए PM मोदी का शरद पवार को 'ऑफर' सच या अफवाह?

शरद पवार (Sharad Pawar) ने एक मराठी टीवी चैनल से बातचीत में कहा, 'प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने कहा था कि मेरा राजनीतिक अनुभव उनके लिए सरकार चलाने में मददगार साबित होगा. उन्होंने कहा था कि राष्ट्रीयता के कुछ मुद्दों पर हमारी सोच एक जैसी है. इसके लिए उन्होंने प्रस्ताव भी दिया था.'

सत्ता के लिए PM मोदी का शरद पवार को 'ऑफर' सच या अफवाह?
पीएम मोदी के साथ हुई मीटिंग को लेकर एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने खुलासा किया है.

नई दिल्ली: राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) प्रमुख शरद पवार (Sharad Pawar) ने कहा है कि महाराष्ट्र में राजनीतिक अनिश्चितता के समय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने उनके सामने साथ आकर काम करने का प्रस्ताव रखा था, लेकिन उन्होंने बेहद विनम्रता से उसे मना कर दिया था. पवार का कहना है कि उन्होंने पीएम मोदी से कहा था कि उनके साथ काम करना संभव नहीं होगा.

शरद पवार (Sharad Pawar) ने एक मराठी टीवी चैनल से बातचीत में कहा, 'प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने कहा था कि मेरा राजनीतिक अनुभव उनके लिए सरकार चलाने में मददगार साबित होगा. उन्होंने कहा था कि राष्ट्रीयता के कुछ मुद्दों पर हमारी सोच एक जैसी है. इसके लिए उन्होंने प्रस्ताव भी दिया था.'

पवार ने ये भी दावा किया है कि पीएम मोदी ने पेशकश की थी कि महाराष्ट्र में बीजेपी के साथ सरकार बनाने के एवज में वह बेटी सुप्रिया सुले को कैबिनेट मंत्री का भी पद देने को तैयार हैं. पवार ने ये भी स्पष्ट किया कि मीडिया में जो खबरें चल रही हैं कि पीएम मोदी ने उन्हें राष्ट्रपति का पद ऑफर किया था, लेकिन यह सरासर निराधार है.

यहां आपको बता दें कि महाराष्ट्र में जारी राजनीतिक अनिश्चितता के वक्त एनसीपी प्रमुख शरद पवार (Sharad Pawar) ने किसानों के मुद्दे पर पीएम मोदी से मुलाकात की थी. इस मुलाकात के बाद मीडिया में कई तरह की खबरें चलने लगी थीं. एनसीपी नेता और शरद पवार (Sharad Pawar) के भतीजे अजित पवार ने बगावत करके बीजेपी के साथ मिलकर सरकार बना ली थी, लेकिन यह सरकार महज तीन दिन चल पाई. आखिरकार बीजेपी की सहयोगी रही शिवसेना ने गठबंधन से अलग जाकर एनसीपी और कांग्रेस के समर्थन से सरकार बनाई है.

शरद पवार (Sharad Pawar) के खुलासे पर कांग्रेस नेता पीएल पुनिया ने ZEE न्यूज से बातचीत में कहा है, 'बीजेपी किस सीमा तक सत्ता हथियाने के लिए जा सकती है, इसका खुलासा शरद पवार (Sharad Pawar) ने कर दिया है. जो खेल खेला था बीजेपी ने अजित पवार को उपमुख्यमंत्री बनाकर और अजित पावर ने खुद इस बात को स्वीकार किया है कि उनकी गलती थी कि वो बीजेपी के साथ में गए.

पुनिया के इस बयान पर बीजेपी सांसद रोडमल नागर ने कहा, 'प्रधानमंत्री कोई बात छिपाते नहीं जो बात करते हैं वह खुले आम करते हैं जनता के सामने करते हैं मुझे नहीं लगता इस तरह की कोई बात हुई होगी.

कांग्रेस नेता राज बब्बर ने कहा, 'हर आदमी की अपनी राजनीति होती है इस तरह की सरकार आज जो है उसके उसके प्रलोभन में ना आकर उन्होंने उन वैल्यूज को ज़िंदा किया है जो संवैधानिक वैल्यूज हैं.'

मालूम हो कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) और एनसीपी प्रमुख शरद पवार (Sharad Pawar) के आपसी रिश्ते काफी अच्छे माने जाते हैं. पीएम मोदी सार्वजनिक भाषणों के साथ संसद तक में शरद पवार (Sharad Pawar) और एनसीपी की तारीफ कर चुके हैं. इसे पूरे प्रकरण पर शरद पवार (Sharad Pawar) की बेटी और एनसीपी सांसद सुप्रिया सूले का कहना है कि दो बड़े नेताओं के बीच क्या बातचीत हुई इसपर वह कुछ भी नहीं कहना चाहती हैं. हालांकि उन्होंने ये भी कहा कि महाराष्ट्र के नेता दूसरे दलों के राजनेताओं से आपसी रिश्ते कभी भी खराब नहीं करते हैं. उन्होंने कहा कि पीएम मोदी की ओर से जो भी प्रस्ताव रखे गए थे उसे शरद पवार (Sharad Pawar) ने बेहद विनम्रता से मना कर दिया, क्योंकि बीजेपी के साथ मिलकर काम करना आसान नहीं था.

ये भी देखें-: