close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

सियासी हंगामे के बाद राबड़ी देवी के आवास पर फिर बहाल हुई सुरक्षा

बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी के आवास पर सुरक्षा को लेकर चल रही सियासत पर अब शायद विराम लग जाएगा. दरअसल पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी के सरकारी आवार 10 सर्कुलर रोड पर फिर से सुरक्षा बहाल हो गई है. खबरों के अनुसार सोमवार (16 अप्रैल) को डीजीपी एसके द्विवेदी के पहल के बाद यह संभव हो सका.

सियासी हंगामे के बाद राबड़ी देवी के आवास पर फिर बहाल हुई सुरक्षा
राबड़ी देवी के सरकारी आवास पर फिर से सुरक्षा बहाल हो गई है.

पटनाः बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी के आवास पर सुरक्षा को लेकर चल रही सियासत पर अब शायद विराम लग जाएगा. दरअसल पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी के सरकारी आवार 10 सर्कुलर रोड पर फिर से सुरक्षा बहाल हो गई है. खबरों के अनुसार सोमवार (16 अप्रैल) को डीजीपी एसके द्विवेदी के पहल के बाद यह संभव हो सका. उन्होंने राबड़ी देवी से इस मामले में बातचीत की, जिसके बाद राबड़ी देवी फिर से आवास पर सुरक्षा बहाल करने के लिए मान गई. हालांकि उनकी मांग को पूरा किया गया है. जिसमें कहा गया था कि सुरक्षाकर्मियों की तैनाती उनके नाम पर की जाए. इसलिए सुरक्षाकर्मियों की तैनाती पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी के नाम पर की गई है. इसके अलावा सभी सुरक्षाकर्मी जिसमें हाउस गार्ड्स, सिक्यूरिटी गार्ड्स और कारकेड की गाड़ियां भी फिर से वापस आ गए हैं. गौरतलब है कि राबड़ी देवी के सरकारी आवास से सुरक्षाकर्मियों को हटाया गया था. जिसके बाद से पूरे बिहार में इस मामले पर खुब राजनीतिक हंगामा मचने लगा था. 

मुजफ्फरपुरः एसएसपी विवेक कुमार के आवास पर स्पेशल विजिलेंस टीम का छापा

हालांकि जिस वक्त सुरक्षा हटायी गई थी उस वक्त मुख्यमंत्री नीतीश कुमार बिहार से बाहर थे. लेकिन वापस आने के बाद जैसे उन्होंने इस बात की संज्ञान ली. तुरंत सुरक्षा फिर से बहाल करने का निर्देश दिया था. लेकिन राबड़ी देवी और तेजस्वी यादव ने सुरक्षा वापस लेने से इनकार कर दिया था. अब हंगामें के पांचवें दिन सुरक्षा लेने के लिए राबड़ी देवी मान गई है.

बिहार MLC चुनावः एनडीए के 6 उम्मीदवारों ने भरा नामांकन, सभी 11 उम्मदीवारों के निर्विरोध चुने जाने की उम्मीद

इससे पहले राबड़ी देवी जिद पर अड़ी थी कि उन्हें सरकार से इस बात का जवाब चाहिए कि उनके आवास से किन परिस्थितियों में सुरक्षाकर्मियों को हटाया गया है. इसके लिए सीएम नीतीश कुमार को पत्र लिखा गया था. जिसमें यह भी कहा गया था कि अगर उनके परिवार के साथ कोई अप्रिय घटना घटेगी तो उसके जिम्मेदार मुख्यमंत्री और गृह विभाग होंगे. हालांकि इस बारे में जानकारी नहीं मिली है कि मुख्यमंत्री के तरफ से उन्हें जवाब मिला है या नहीं. लेकिन डीजीपी एसके द्विवेदी के बातचीत के बाद सुरक्षा बहाल किया गया है.