Breaking News
  • जम्मू कश्मीर के कुलगाम में एनकाउंटर, सुरक्षाबलों ने 2 आतंकियों को ढेर किया

रामायण को कहा ‘कम्युनल’ तो अरुण गोविल ने दिया मुंहतोड़ जवाब!

रामायण का पहला एपिसोड 28 मार्च 2020 को दोबारा सुबह 9 बजे दूरदर्शन चैनल पर प्रसारित किया जाएगा. जबकि इसका दूसरा एपिसोड रात 9 बजे प्रसारित होगा. 

रामायण को कहा ‘कम्युनल’ तो अरुण गोविल ने दिया मुंहतोड़ जवाब!

नई दिल्ली: लॉकडाउन (Lock Down) में संयम का पाठ पढ़ाने के लिए सरकार ने रामायण (Ramayan) को फिर से प्रसारित करने का फैसला किया है. पूरे देश में इस वक्त लोग प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 21 दिनों के लॉकडाउन के नियमों का पालन कर रहे हैं. ऐसे में लोगों की मांग पर दूरदर्शन पर कल से फिर रामायण सीरियल का प्रसारण करने का फैसला किया है. रामायण का पहला एपिसोड कल सुबह 9 बजे ऑनएयर किया जाएगा. लेकिन 'कोरोना काल' में रामायण पर 'महाभारत' शुरु हो गई है. कांग्रेस नेता जोतिमणि रामायण के प्रसारण पर सवाल उठाए है. ऐसे में सवाल उठता है जिस रामायण ने लक्ष्मण रेखा का पालन करना सिखाया, 'कोरोना काल' में रामायण पर 'महाभारत' क्यों? भारत के आदर्श माने जाने वाले राम पर घमासान आखिर क्यों? 

रामायण को COMMUNAL कहने वाले बयान पर अरुण गोविल ने मुंहतोड़ जवाब देते हुए कहा कि जिन्होंने रामायण को सही तरह से समझा है उन्हें पता है कि रामायण में जो कुछ कहा गया है वो हर धर्म में लागू होता है. ऐसे में अगर कोई इस पर सवाल उठाता है तो वो ऐसा बोलकर खुद को ही नीचा दिखा रहा है. उन्होंने कहा कि इन चीजों को धर्म से नहीं जोड़ना चाहिए. ये बात धर्म की नहीं है वो पूरे विश्व की बात है. गोविल ने बताया कि इस लॉकडाउन के समय में हमें रामायण में श्रीराम के किरदार को देखते हुए उनकी तरह मर्यादा में रहना है.

सरकार के फैसलें के मायने:-
सरकार ने कोरोना काल में लिए इस फैसले के कई खास मायने हैं. पिछले कुछ दिन से दरअसल सोशल मीडिया पर इस तरह के मैसेज भी चल रहे थे की पुराना जमाना लौट आया है. सड़कों पर ट्रैफिक नहीं है. लोग घरों पर ही हैं और इसी बीच ये फैसला हो गया की टीवी पर रामायण लौट रही है. लोग भी अपने बच्चों को उस समय का दर्पण दिखा सकेंगे. 

गौरतलब है कि जब 33 साल पहले रामायाण टीवी पर आया करती थी तब किसी प्रधानमंत्री ने टीवी पर आकर ये नहीं कहा था की घर में ही रहना, लेकिन पूरा देश टीवी से चिपका रहता था. आज कल के छोटे बच्चे भले ही ना जानते हों की जब आप रामायण देखते थे तो वो क्या दौर हुआ करता था. वो क्या माहौल हुआ करता था. क्योंकि आपने उस माहौल को जिया है. रविवार की सुबह सड़कों पर कर्फ्यू जैसा माहौल हो जाया करता था. जब रामायण खत्म होती थी उसके बाद ही कोई टीवी के सामने से हिलता था. लेकिन आज सड़कों पर नहीं निकलने की मजबूरी के बीच रामायण फिर प्रसारित होने जा रही है.

कंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा था कि वो त्रेता युग था और ये कोरोना काल है, लेकिन रामायण की लक्ष्मण रेखा आज भी हम सभी को प्रेरणा दे रही है. याद कीजिए प्रधानमंत्री मोदी ने राष्ट्र के नाम अपने संबोधन में भी लक्ष्मण रेखा का जिक्र किया था. क्योंकि आज वक्त की जरूरत कह रही है की कोरोना को हराने के लिए घर पर रहना ही जरूरी है.

लोगों में हर्ष का माहौल:-
लोगों ने बातचीत में बताया कि सरकार के इस फैसले से बीते हुए दिन की यादें फिर से ताजा हो जाएंगी. हमारे बच्चों को भी देखने और सीखने को मिलेगा. उन्हें भी पता चलेगा कि लव-कुश के बीच कैसा भाईचारा होता है. वहीं मुंबई में रहने वाली कल्पना ने कहा कि रामायण शुरु हो रहा है, इतनी खुशी है कि हम हमारे बच्चों को कहानी ना बताकर हम उनको टीवी पर सीधा दिखा सकते हैं. उन्होंने कहा कि उम्मीद यही है की रामायण के दोबारा प्रसारण से घरों में बंद देशवासियों को सिर्फ वही किरदार देखकर ही अच्छा महसूस नहीं होगा बल्कि कोरोना के इस बुरे दौर में संयम और संतुलित भाषा में तुलसीदास की रचना का ज्ञान भी मिलेगा. 

रामायण के प्रसारण का इतिहास:-
रामायण को पहली बाद दूरदर्शन पर प्रसारित करने कर निर्णय सन 1987 में लिया गया था. जिसके बाद 25 जनवरी 1987 को इसका पहला एपिसोड का प्रसारण किया गया था. सम्पूर्ण रामायण को 78 धारावाहिक एपिसोड के माध्यम के दर्शकरों के सामने प्रस्तुत किया गया था. इसका आखिरी एपिसोड 31 जुलाई 1988 में दर्शकों के लिए प्रस्तुत किया गया था. लोगों के बीच इसकी लोकप्रियता और विशेष डिमांड को देख सरकार ने 27 मार्च 2020 में इसे दोबारा प्रसारित करने का निर्णय लिया है. इसका पहला एपिसोड 28 मार्च सुबह 9 बजे दूरदर्शन चैनल पर प्रसारित किया जाएगा. जबकि इसका दूसरा एपिसोड रात 9 बजे प्रसारित होगा. 

लाइव टीवी देखें:-