गुरुद्वारे में भी कोरोना का असर, श्रद्धालुओं की संख्या में आई भारी गिरावट

सिखों के दसवें गुरु श्री गुरु गोविंद सिंह की समाधि-स्थल सचखंड गुरुद्वारा में प्रतिदिन 9 से 10 हजार भक्त मत्था टेकने आते थे. लेकिन कोरोना के डर के चलते ये संख्या घटकर मात्र एक हजार रह गई है. 

गुरुद्वारे में भी कोरोना का असर, श्रद्धालुओं की संख्या में आई भारी गिरावट

नांदेड: कोरोना वायरस (Coronavirus) के संक्रमण के डर से नांदेड के हजूर साहिब सचखंड गुरुद्वारा में भक्तों की संख्या में भारी गिरावट आई है. सिखों के दसवें गुरु श्री गुरु गोविंद सिंह की समाधि स्थल सचखंड गुरुद्वारा में प्रतिदिन 9 से 10 हजार भक्त मत्था टेकने आते थे. लेकिन कोरोना के डर के चलते ये संख्या घटकर मात्र एक हजार रह गई है. 

नांदेड जिला प्रशासन ने कोरोना से बचने के लिए गुरुद्वारा बोर्ड को दर्शन के लिए आने वाले हर विदेशी नागरिक की सुचना प्रशासन करे देने के आदेश जारी किए हैं. जिला कलेक्टर विपिन इटनकर ने गुरूद्वारे में श्रद्धालुओं से भीड़ ना करने की अपील की है. उन्होंने कहा कि जरूरत पड़ने पर पाबंदियां भी लगाई जा सकती है. हालांकि भक्तों की एंट्री बैन पर अभी तक कोई फैसला नहीं हुआ है.

वहीं गुरुद्वारा बोर्ड के सहायक अधीक्षक ठान सिंह बुंगई ने कहा कि कोरोना के संक्रमण से बचने के लिए सभी प्रकार के कदम उठाये गए हैं. जो भी बाहर देश से श्रद्धालु आ रहे है उनके बारे में जिला प्रशासन और हेल्थ डिपार्टमेंट को जानकारी दी जा रही है. भाविकों की संख्या कम हुई है और आने वाले भाविकों को एहतियात बरतने को कहा गया है. लुधियाना से दर्शन के लिए आए राजन भाटिया बताते है कि कोरोना वायरस से हर तरफ डर माहौल पसरा हुआ है. लेकिन यहां आने के बाद डर जैसा कुछ महसूस नहीं हुआ. गुरुद्वारा बोर्ड ने यहां बहुत अच्छे इंतजाम किए हैं. 

ये भी पढें:- महाराष्ट्र: कोरोना के कहर में इन भगवान के दरबारों में भी NO ENTRY