close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

Dussehra 2019: इस शुभ मुहूर्त पर होगा रावण दहन, श्रीराम के बाण से मिलेगी दशानन को मुक्ति

दशहरा का धार्मिक महत्‍व तो है ही लेकिन यह त्‍योहार आज भी बेहद प्रासंगिक है. यह पर्व बुराई पर अच्‍छाई का प्रतीक है. यह त्यौहार भगवान श्री राम की कहानी तो कहता ही है, जिन्होंने लंका में 9 दिनों तक लगातार चले युद्ध के पश्चात अंहकारी रावण को मार गिराया.

Dussehra 2019: इस शुभ मुहूर्त पर होगा रावण दहन, श्रीराम के बाण से मिलेगी दशानन को मुक्ति

नई दिल्ली: देशभर में आज (08 अक्टूबर) असत्य पर सत्य की जीत का पर्व दशहरा (Dussehra) मनाया जा रहा है. भारत देश में इस पर्व को बड़ी ही धूमधाम से मनाया जाता है. दशहरा या विजयदशमी भी दीवाली और होली की ही तरह हिंदुओं का प्रमुख त्‍योहार है. मान्यता है कि इस दिन भगवान राम (Lord Rama) ने लंका नरेश रावण का वध किया था, वहीं देवी दुर्गा (Goddess Durga) ने भी इस दिन महिषासुर का वध किया था, जिसके चलते इस दिन का महत्व और भी बढ़ जाता है. नवरात्रि (Navratri) के नौ दिनों के बाद 10वें दिन नौ शक्तियों के विजय के उत्‍सव के रूप में विजयदशमी मनाई जाती है.

दशहरा का शुभ मुहूर्त
दशमी तिथि आरंभ- 7 अक्टूबर, दोपहर 12:39
अपराह्न पूजा समय- 8 अक्टूबर, दोपहर 13:17 से 15:36
विजय मुहूर्त- 8 अक्टूबर, दोपहर 01 बजकर 42 मिनट से लेकर 02 बजकर 29 मिनट तक 
दशमी तिथि समाप्त- 8 अक्तूबर, दोपहर 14:50 मिनट

देखें LIVE TV

रावण दहन मुहूर्त
इस बार रावण दहन 8 अक्टूबर को 16 बजकर 20 मिनट से 19 बजकर 20 मिनट के बीच किया जाएगा.

नवरात्रि: बिहार-झारखंड में भी सिंदूर खेला की धूम, महिलाओं ने देवी दुर्गा से मांगा आशीर्वाद

दशहरा का महत्व
दशहरा का धार्मिक महत्‍व तो है ही लेकिन यह त्‍योहार आज भी बेहद प्रासंगिक है. यह पर्व बुराई पर अच्‍छाई का प्रतीक है. यह त्यौहार भगवान श्री राम की कहानी तो कहता ही है, जिन्होंने लंका में 9 दिनों तक लगातार चले युद्ध के पश्चात अंहकारी रावण को मार गिराया और माता सीता को उसकी कैद से मुक्त करवाया. 

चंडी दरबार जहां से नहीं जाता कोई खाली हाथ, सुरंग के जरिये राजा आता था पूजन के लिए

दशहरा का महत्व
दशहरा का धार्मिक महत्‍व तो है ही लेकिन यह त्‍योहार आज भी बेहद प्रासंगिक है. यह पर्व बुराई पर अच्‍छाई का प्रतीक है. यह त्यौहार भगवान श्री राम की कहानी तो कहता ही है, जिन्होंने लंका में 9 दिनों तक लगातार चले युद्ध के पश्चात अंहकारी रावण को मार गिराया और माता सीता को उसकी कैद से मुक्त करवाया.