Breaking News
  • #ImmunityConclaveOnZee : केंद्रीय आयुष मंत्री श्रीपद नाइक ने कहा कि कोरोना की दवा पर शोध जारी है.
  • #ImmunityConclaveOnZee : श्रीपद नाइक ने कहा - 6-7 सप्ताह में शोध पूरा हो जाएगा.
  • #ImmunityConclaveOnZee : स्वामी रामदेव बोले, '8 बजे नाश्ता, 12 बजे दोपहर का खाना, शाम को 8 बजे तक खाना खा लें'
  • #ImmunityConclaveOnZee : स्वामी रामदेव बोले, 'भगवान ने हमें इंसान बनाकर दुनिया की सबसे बड़ी दौलत दी है'
  • #ImmunityConclaveOnZee : स्वामी रामदेव बोले, '6 घंटे की नींद जरूर पूरी करें और उससे ज्यादा सोएं भी नहीं'

Guru Purnima 2020 : कब है गुरु पूर्णिमा? जानें व्रत विधि और महत्व

गुरु पूर्णिमा (Guru purnima) एक अहम दिन होता है. गुरुओं को समर्पित इस पर्व को बहुत धूम-धाम से मनाया जाता है. इस दिन शिष्‍य अपने गुरुओं की पूजा करते हैं, उन्‍हें सम्‍मान देते हैं.

Guru Purnima 2020 : कब है गुरु पूर्णिमा? जानें व्रत विधि और महत्व
फाइल फोटो

नई दिल्‍ली: गुरु पूर्णिमा (Guru purnima) एक अहम दिन होता है. गुरुओं को समर्पित इस पर्व को हमारे देश में बहुत धूम-धाम से मनाया जाता है. इस दिन शिष्‍य अपने गुरुओं की पूजा करते हैं, उन्‍हें सम्‍मान देते हैं. पंचांग के अनुसार प्रत्येक वर्ष आषाढ़ मास की पूर्णिमा को गुरु पूर्णिमा के रूप में मनाने की परंपरा है. इसे आषाढ़ पूर्णिमा भी कहते हैं. कहा गया है कि बिना गुरु के ज्ञान नहीं मिलता. गुरु ही जिंदगी से अज्ञानता के अंधकार को मिटाकर उसे ज्ञान की रोशनी से जगमगा देते हैं. इस साल गुरु-शिष्‍य के रिश्‍ते का यह खास दिन 5 जुलाई को है. 

महर्षि वेद-व्‍यास का भी है जन्‍मदिन 
गुरु पूर्णिमा को व्‍यास पूर्णिमा के नाम से भी जाना जाता है क्‍योंकि इस दिन महाभारत के रचयिता महर्षि वेद व्यास जी का जन्मदिवस भी होता है. व्यास जी ने सभी 18 पुराणों की रचना की है. इतना ही नहीं व्यास जी को वेदों का विभाजन करने का भी श्रेय प्राप्त है. 

ये है गुरु पूर्णिमा तिथि का समय  
गुरु पूर्णिमा तिथि का प्रारंभ 4 जुलाई को सुबह 11:33 बजे से होगा और समापन 5 जुलाई को सुबह 10:13  बजे होगा. इस दिन गुरुओं की पूजा करके, उनके चरणों में पुष्‍प अर्पित किए जाते हैं. इस दिन घर के बड़े, बुजूर्गों के भी पैर छूकर आर्शीवाद लेना चाहिए क्‍योंकि उनसे भी हम अपने जीवन में कुछ न कुछ सीखते रहते हैं. 

चंद्र ग्रहण भी है इस दिन 
इस बार गुरु पूर्णिमा के दिन यानि 5 जुलाई को चंद्र ग्रहण (lunar eclipse 2020) भी लग रहा है. लिहाजा इस दिन शुभ मुहूर्त में ही पूजा आदि का कार्य पूर्ण करें.