close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

गुरु पूर्णिमा पर पड़ रहा है चंद्र ग्रहण, जानें क्या होगा इस संयोग का प्रभाव

अंतिम बार 12 जुलाई 1870 में चंद्रग्रहण और गुरू पूर्णिमा साथ-साथ पड़े थे. बता दें कि चंद्रग्रहण गुरू पूर्णिमा के पूजन में बाधक होगा.

गुरु पूर्णिमा पर पड़ रहा है चंद्र ग्रहण, जानें क्या होगा इस संयोग का प्रभाव
149 सालों बाद एक साथ पड़ रहा है चंद्र ग्रहण और गुरू पूर्णिमा

नई दिल्लीः 16 जुलाई को साल 2019 का दूसरा चंद्रग्रहण पड़ने जा रहा है, जो कि रात 1:31 से अगले दिन 17 जुलाई को सुबह 4:29 बजे तक रहेगा. मतलब यह चंद्रग्रहण 2:58 मिनट का रहेगा, लेकिन इस बार चंद्रग्रहण पर 149 सालों बाद एक अनोखा संयोग बन रहा है, जिसमें गुरु पूर्णिमा पर चंद्रग्रहण का असर देखने को मिलेगा. यही कारण है कि इस चंद्रग्रहण को दुर्लभ चंद्रग्रहण बताया जा रहा है. अंतिम बार 12 जुलाई 1870 में चंद्रग्रहण और गुरू पूर्णिमा साथ-साथ पड़े थे. बता दें कि चंद्रग्रहण गुरु पूर्णिमा के पूजन में बाधक होगा.

गुरू पूर्णिमा पूजन का समय
बता दें चंद्रग्रहण के चलते इस बार सभी मंदिरों के पट मंगलवार शाम 4 बजे तक बंद कर दिए जाएंगे, क्योंकि ग्रहण के 9 घंटे पहले से सूतक काल शुरू हो जाता है. ऐसे में इस बार गूरू पूजन शाम 4 बजे तक ही की जा सकेगी.

शिरडी में शुरू हुई गुरू पूर्णिमा की तैयारी, मंदिरों की सजावट में अब तक लाखों खर्च

चार धाम के कपाट भी रहेंगे बंद
चंद्रग्रहण के चलते चारों धामों में भी पूजा प्रभावित रहेगी. सूतक काल के चलते सभी चारों धामों के कपाट बंद रखे जाएंगे. जो कि दूसरे दिन सूतक काल खत्म होने के बाद खोले जाएंगें.

देवता से भी पहले दिया गया है गुरु को स्थान, जानिए क्या है गुरु पूर्णिमा का महत्व

गंगा आरती पर प्रभाव
बता दें सूतक के चलते दशाश्वमेध घाट पर होने वाली सांयकालीन गंगा आरती भी प्रभावित होगी, क्योंकि सूतक काल में किसी भी तरह के पूजा-पाठ की मनाही होती है, इसलिए गंगा आरती में परिवर्तन किया गया है और मंगलवार को आरती दोपहर के समय ही कर ली जाएगी.