सिर्फ कल ही है एकमात्र मौका, चूक गए तो फिर एक साल करना होगा आपको इंतजार
X

सिर्फ कल ही है एकमात्र मौका, चूक गए तो फिर एक साल करना होगा आपको इंतजार

शादी में देरी हो रही हो या दांपत्‍य में मुश्किलें आ रही हों. इन समस्‍याओं से निजात पाने के लिए विवाह पंचमी का दिन बहुत खास होता है. 

सिर्फ कल ही है एकमात्र मौका, चूक गए तो फिर एक साल करना होगा आपको इंतजार

नई दिल्‍ली: साल के कुछ दिनों को बहुत खास माना गया है. इनमें से कुछ दिन विवाह से जुड़े मामलों के लिए बेहद खास हैं. ऐसा ही एक दिन है विवाह पंचमी. विवाह पंचमी के दिन भगवान श्रीराम और माता सीता का विवाह हुआ था. इसलिए अगहन महीने के शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि को विवाह पंचमी कहा जाता है. इस दिन कुछ खास पूजा-उपाय करने से बहुत लाभ मिलता है और शादी से जुड़ी मनोकामनाएं पूरी होती हैं. 

...लेकिन शादी करना है अशुभ 

भगवार राम और माता सीता के विवाहोत्सव के इस दिन को वैसे तो बहुत शुभ माना जाता है लेकिन कई जगहों पर इसे विवाह करने के लिए बेहद अशुभ माना गया है. इसके पीछे वजह है माता सीता का दुखद वैवाहिक जीवन. भगवान के साथ विवाह होने के बाद भी सीता जी को अपने दांपत्‍य जीवन में कई दुख उठाने पड़े थे इसलिए लोग इस दिन अपनी बेटियों का विवाह करने से बचते हैं. 

यह भी पढ़ें: रहने के लिए भूलकर भी न चुनें ऐसी जगह, अच्‍छी-भली जिंदगी भी हो जाती है तबाह

जल्‍दी शादी करने के लिए कारगर हैं ये उपाय 

वहीं इस दिन को अविवाहितों के लिए बहुत खास माना गया है. यदि अविवाहितों की शादी में देरी हो रही हो या जो लोग शादी के बाद सुखद दांपत्‍य जीवन का आनंद लेना चाहते हों, उन्‍हें इस दिन कुछ खास उपाय कर लेना चाहिए. इस साल विवाह पंचमी कल यानी कि 8 नवंबर को है. 

- विवाह पंचमी के दिन भगवान राम और सीता का विवाह रचाएं. ऐसा करना बहुत ही शुभ फलदायी साबित होता है. इसके लिए सुबह स्नान करके श्रीराम विवाह का संकल्प लें. फिर भगवान राम और माता सीता के विवाह की फोटो या मूर्ति की स्थापना करें. उनका तिलक करके भगवान राम को पीले वस्त्र और माता सीता को लाल वस्त्र अर्पित करें. उनका गठबंधन करके आरती करें. मिठाई का भोग लगाएं. आखिर में गांठ लगे वस्त्र को अपने पास रख लें. मान्‍यता है कि ऐसा करने से शादी से जुड़ी सारी मनोकामनाएं पूरी हो जाती हैं. 

- यदि शादी करने में बार-बार कोई रुकावट आ रही हो तो विवाह पंचमी के दिन पूरे भक्ति-भाव से राम-सीता की पूजा करें. जल्‍द ही शादी हो जाएगी.

- इस दिन राम-सीता के विवाह प्रसंग का पाठ करना भी बहुत अच्‍छा होता है. इसके अलावा रामचरितमानस का पाठ करने से पारिवारिक जीवन में खुशियां आती हैं. इसके अलावा ऊं जानकी वल्लभाय नमः मंत्र का जाप करना भी हर मुराद पूरी कर देता है. 

(Disclaimer: यहां दी गई जानकारी सामान्य मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है. ZEE NEWS इसकी पुष्टि नहीं करता है.)

Trending news