Remedies for Mercury : जानें बुध का महाउपाय जिसे करते ही चमकने लगता है भाग्य

बुधवार को विशेष रूप से गणपति का और लक्ष्मी जी का वार भी माना गया है. ऐसे में इस दिन देवाधिदेव गणेश और मां लक्ष्मी की पूजा साधना भी विशेष लाभदायी मानी गई है.

Remedies for Mercury : जानें बुध का महाउपाय जिसे करते ही चमकने लगता है भाग्य

सनातन परंपरा में सप्ताह का प्रत्येक दिन किसी न किसी देवता या ग्रह से जुड़ हुआ है. ज्योतिषों के अनुसार बुधवार का दिन बुध ग्रह से संबंधित है. बुध बुद्धि के कारक माने जाते हैं. बुध सौरमंडल का सबसे छोटा ग्रह है. सूर्य से निकटता के कारण इनका प्रकाश प्रखर है. ग्रहों की परिषद में बुध को युवराज कहा गया है. बुधवार को विशेष रूप से गणपति का और लक्ष्मी जी का वार भी माना गया है. ऐसे में इस दिन देवाधिदेव गणेश और मां लक्ष्मी की पूजा साधना भी विशेष लाभदायी मानी गई है.

कैसे करें बुधवार का व्रत?
बुधवार का व्रत शुक्लपक्ष के बुधवार या फिर विशाखा नक्षत्र वाले बुधवार से प्रारंभ करना चाहिए. इसके बाद लगातार सात बुधवार तक पूरे विधि-विधान से व्रत रखना चाहिए. आप चाहें तो 21 या 45 व्रत का भी संकल्प ले सकते हैं. व्रत के दिन स्नान के पश्चात हरे रंग के कपड़े पहन कर श्री गणेश जी का ध्यान करें और उसके पश्चात ​बुध देव की पूजा करें. प्रसाद में मूंग का हलवा, मूंग की पंजीरी या मूंग के लड्डू चढ़ाएं. बुधवार के व्रत में दिन भर में केवल एक बार भोजन करना चाहिए. ऐसे में व्रत के दिन शाम के समय एक बार फिर से पूजन के पश्चात हरी वस्तु से बनी चीजों का सेवन करना चाहिए. भोजन में नमक और घी का प्रयोग न करें. व्रत के अंतिम दिन किसी दिव्यांग को मूंग की बनी मिठाई दें.

बुधवार के व्रत का फल?
बुधवार के व्रत से जीवन से जुड़ी तमाम बाधाएं दूर होती हैं. विशेष रूप से रुका हुआ प्रमोशन शीघ्र होता है. माता लक्ष्मी की कृपा से व्रती को धनधान्य की प्राप्ति होती है.

दान?
बुधदेव की कृपा पाने के लिए बुधवार के दिन हरे रंग के वस्त्र, फल-फूल, कांसा, घी, खांड आदि का दान करना चाहिए. किन्नरों को हरे रंग के वस्त्र और श्रृंगार का सामान दान में दें. साथ में अपने सामर्थ्य केअनुसार कुछ दान अवश्य दें. बुध का दान सूर्योदय के बाद दो घंटे के भीतर करना अत्यंत शुभ होता है.
व्यवहारिक दान – बुधवार के दिन बहनों, बुआ, बेटी, आदि का सम्मान करने से बुध देवता प्रसन्न रहते हैं तथा सुबुद्धि देते हैं.

बुध का तांत्रिक मंत्र?
बुधवार के दिन बुध ग्रह के तांत्रिक मंत्र ॐ ब्रां ब्रीं ब्रौं स: सः बुधाय नमः का 9000 ( नौ हजार ) बार जाप करें. यदि यह संभव न हो तो इस मंत्र की तीन या 17 माला जाप करें.

बुध का प्रार्थना मंत्र?
उत्पात रूपी जगतां चंद्रपुत्रो महाद्युतिः।
सूर्य प्रिय करो विद्वान पीडां दहतु में बुधः।।

क्या करें?
किसी कार्य विशेष में सफलता पाने के लिए बुधवार के दिन पैदा हुए लड़के से काम कराने पर सफलता की संभावना बढ़ जाती है.

क्या न करें?
बुधवार के दिन लड़की की मां को सिर नहीं धोना चाहिए.

बुध को प्रसन्न करने के महाउपाय?
यदि कुंडली में बुध ग्रह शुभ फल नहीं दे रहा हो और कार्यों में अड़चनें आ रही हों तो बुधवार के दिन निम्न उपाय को करने पर लाभ होता है.
हरे रंग के वस्त्र धारण करें.
चांदी या कांसे के गोल टुकड़े को अपने साथ रखें.
गाय को हरा चारा खिलाएं.
हरे कपड़े में हरी मूंग बांधकर श्री गंगाजी या बहते जल में प्रवाहित करें.
किन्नर को हरे वस्त्र दान करें.
बुधवार का व्रत करें.
श्री गणेश जी को लड्डू का भोग लगाएं एवं दूर्वा चढ़ाएं.
हरे रंग की बोतल में मनीप्लांट का पौधा लगाएं. ध्यान रहे मनीप्लांट का पौधा किसी के गमले से तोड़कर न लगाएं, बल्कि नर्सरी से उसकी कीमत अदा करके ही लगाएं.

ये भी देखें-