Kumbh Sankranti 2021: आज कुंभ संक्रांति पर जरूर करें सूर्य चालीसा का पाठ, जानें कुंभ राशिवालों पर होगा कैसा असर

आज सूर्य अपना राशि परिवर्तन कर रहे हैं और मकर से कुंभ राशि में प्रवेश कर रहे हैं और इस दिन को कुंभ संक्रांति कहा जाता है. इस दिन सूर्य देव की पूजा और नदियों में स्नान का विशेष महत्व है.

Kumbh Sankranti 2021: आज कुंभ संक्रांति पर जरूर करें सूर्य चालीसा का पाठ, जानें कुंभ राशिवालों पर होगा कैसा असर
कुंभ संक्रांति 2021

नई दिल्ली: सूर्य के राशि परिवर्तन को ही संक्रांति कहा जाता है. 1 महीने पहले जब सूर्य मकर राशि में आए थे तब मकर संक्रांति (Makar Sankranti) का त्योहार मनाया गया था और अब कुंभ संक्रांति का (Kumbh Sankranti). ज्योतिषीय गणना के मुताबिक 12 फरवरी शुक्रवार को माघ मास की शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा तिथि को सूर्य का राशि परिवर्तन (Surya Rashi Parivartan) हो रहा है. सूर्य मकर राशि से निकलकर कुंभ राशि में प्रवेश कर रहे हैं और इसलिए इसे कुंभ संक्रांति के नाम से जाना जाता है. आज ही के दिन से माघ मास की गुप्त नवरात्रि भी शुरू हो रही है. 14 मार्च तक सूर्य कुंभ राशि (Aquarius) में ही रहेंगे और उसके बाद मीन राशि (Pisces) में गोचर करेंगे.

कुंभ संक्रांति पर करें सूर्य देव की पूजा

ज्योतिष शास्त्रों (Jyotish) की मानें तो सूर्य (Sun God) को ग्रहों का देवता और आत्मा का कारक माना जाता है. लिहाजा सूर्य के कुंभ राशि में प्रवेश यानी कुंभ संक्रांति के अवसर पर पवित्र नदियों या कुंड में स्नान करना बेहद शुभ माना जाता है. कुंभ संक्रांति के दिन सूर्य देव को अर्घ्य देने के साथ ही उनकी विधि-विधान से पूजा करने का भी विशेष महत्व है. पूजा के बाद सूर्य आरती और स्तुति करना भी शुभ माना जाता है. इसके अलावा सूर्य चालीसा (Surya Chalisa) का पाठ करना भी फलदायी माना जाता है, इससे सूर्यदेव की कृपा बनी रहती है और व्यक्ति सभी कष्टों से मुक्त हो जाता है.

ये भी पढ़ें- सूर्य के राशि परिवर्तन का सभी 12 राशियों पर होगा कैसा असर, किसकी खुलेगी किस्मत

कुंभ संक्रांति का शुभ मुहूर्त

सूर्य का कुंभ राशि में गोचर- 12 फरवरी रात 9.03 पर
कुंभ संक्रांति का पुण्य काल- 12 फरवरी दोपहर 12.35 से लेकर शाम 6.09 तक
अवधि- 5 घंटे 34 मिनट
कुंभ संक्रांति का महा पुण्य काल- शाम 4.18 से शाम 6.09 तक
पुण्य काल की अवधि- 1 घंटा 51 मिनट
कुंभ संक्रांति का समापन- रात 9.27 पर

ये भी पढ़ें- फिटकरी के उपाय कर्ज से दिलाएंगे मुक्ति, वास्तु दोष भी होगा दूर

कुंभ राशिवालों पर सूर्य के गोचर का असर

ग्रहों के देवता सूर्य कुंभ राशि में प्रवेश करने वाले हैं इसलिए सूर्य का गोचर यानी राशि परिवर्तन कुंभ राशिवालों के लिए महत्वपूर्ण होने जा रहा है. सूर्य कुंभ राशि में शुभ और अशुभ दोनों तरह के फल प्रदान करने वाले हैं. इस दौरान सुख-सुविधाओं में बढ़ोतरी होगी, दान-पुण्य के कार्य में हिस्सा लेंगे, सामाजिक कार्यों से प्रतिष्ठा बढ़ेगी और आप जरूरतमंदों की मदद भी करेंगे. परिवारवालों के साथ संबंध बेहतर होंगे और लव लाइफ में भी नयापन आएगा. हालांकि कुछ मामलों में विशेष सावधानी बरतने की जरूरत है. धन के मामले में समझदारी और सावधानी से काम लें तो लाभ होगा. आत्मविश्वास में वृद्धि होगी और जीवनसाथी का सहयोग मिलेगा. 

धर्म से जुड़े अन्य लेख पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.