close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

इस गांव में लड़कियां करती हैं रामलीला का मंचन, 35 सालों से निभा रही हैं परंपरा

इस रामलीला मंडली में इस बार सगी बहनें राम और रावण की भूमिका में हैं. राम के किरदार में दिव्या यादव और रावण के किरदार में संस्कृति यादव हैं. 

इस गांव में लड़कियां करती हैं रामलीला का मंचन, 35 सालों से निभा रही हैं परंपरा
इस रामलीला में सारे किरदार लड़कियां निभाती हैं. फोटो Facebook

नई दिल्ली: शारदीय नवरात्र से देश भर में रामलीला का मंचन भी शुरू हो जाता है. इस दौरान कई शहरों और गावों में होने वाली रामलीला के बारे में कई यूनिक बातें होती हैं. ऐसी ही एक रामलीला छत्तीसगढ़ के बालोद गांव में भी होती है जिसके बारे में हर तरफ बात हो रही है. इस रामलीला का मंचन पिछले 35 साल से किया जा रहा है और इसकी खास बात ये है कि इसमें सारे किरदार लड़कियों द्वारा निभाए और प्रस्तुत किए जाते हैं. 

बालोद के टेकापार गांव में आयोजित इस रामलीला को देखने के लिए बड़ी संख्या में लोग पहुंचते हैं. लड़कियों की टोली के द्वारा होने वाली इस रामलीला का पहले दिन ही आधे से ज्यादा मंचन किया जा चुका है. अब लोगों को रावण वध का इंतजार है.

बस्तरः 75 दिनों तक चलने वाले दशहरा मेला का हुआ आगाज, 600 सालों से चली आ रही है यह अनोखी प्रथा

लड़कियों की टोली करती है मंचन 
इस रामलीला मंडली में इस बार सगी बहनें राम और रावण की भूमिका में हैं. राम के किरदार में दिव्या यादव और रावण के किरदार में संस्कृति यादव हैं. इसके साथ ही नेहा जोशी हनुमान, की भूमिका में नजर आ रही हैं. वही दो सगी बहन प्रियंका भारती सीता और राजनंदनी भारती सुग्रीव बनी हैं. इसके साथ विभिन्न पात्रों में प्रियंका यादव लक्ष्मण, हस्तिना रात्रि कुंभकरण, पूजा साहू मेघनाथ, सावित्री साहू अंगद, सीमा यादव बाली जैसे प्रमुख भूमिकाओं में हैं. इन सभी लड़कियों की पूरे देश में जमकर सराहना हो रही है.