साईं बाबा जन्म स्थान विवाद: शिरडी के प्रतिनिधि मंडल से आज मुलाकात करेंगे CM उद्धव

इस शिष्टमंडल में शिरडी के ग्रमसभा के सरपंच, कुछ गांव के लोग इलाके के बीजेपी विधायक राधाकृष्ण विखेपाटिल और शिवसेना से सांसद सदाशिव लोखंड़े शामिल हैं.

साईं बाबा जन्म स्थान विवाद: शिरडी के प्रतिनिधि मंडल से आज मुलाकात करेंगे CM उद्धव
फाइल फोटो

प्रशांत शर्मा, शिरडी: साईं बाबा (Sai Baba) जन्म स्थल विवाद को हल करने के लिए शिरडी (Shirdi) से 30-35 लोगों का एक शिष्टमंडल मुंबई के लिए रवाना हो चुका है. इस शिष्टमंडल में शिरडी के ग्रमसभा के सरपंच, कुछ गांव के लोग इलाके के बीजेपी विधायक राधाकृष्ण विखेपाटिल और शिवसेना से सांसद सदाशिव लोखंड़े शामिल हैं. इन लोगों ने उम्मीद जताई है कि सीएम से मिलने के बाद साईं बाबा के जन्म स्थान को लेकर विवाद खत्म हो जाएगा. उधर, रविवार को बंद के बाद आज शिरडी में सभी दुकाने खुल गई हैं. 

गौरतलब है कि साईं बाबा के जन्म स्थान को लेकर उस समय विवाद खड़ा हो गया जब सीएम उद्धव ठाकरे ने शिरडी से करीब 270 किलोमीटर दूर परभणी जिले के पाथरी में विकास के लिए 100 करोड़ रुपये देने की घोषणा की. पाथरी को साईं बाबा का जन्म स्थान बताया जा रहा है. इधर, शिरडी के लोगों को ये बात नागवार गुजरी और उन्होंने इसका विरोध शुरू कर दिया.

ये भी पढ़ें: पाथरी को साईं बाबा का जन्म स्थान बताने पर क्यों छिड़ा है विवाद, पढ़ें क्या है इसके पीछे का सच

कुछ श्रद्धालु पाथरी को साईं बाबा का जन्म स्थान मानते हैं और इसके लिए वे रिसर्च मैटेरियल होने का दावा भी करते हैं, जबकि शिरडी के लोगों का दावा है कि साईं बाबा का जन्म स्थान अज्ञात है. 

साईं स्मारक समिति पाथरी के कार्यकारी ट्रस्टी अतुल चौधरी ने कहा कि पाथरी ही साईं बाबा का जन्म स्थान है. उन्होंने कहा कि हमारे पास इससे जुड़े रिसर्च मैटेरियल हैं. जबकि शिरडी के लोगों का दावा है कि साईं बाबा का जन्मस्थान अज्ञात है. 

दूसरी तरफ पाथरी की साईं स्मारक समिति का कहना है कि हम शिरडी के लोगों को समझाने बुझाने की कोशिश कर रहे हैं. ताकि साईं बाबा के जन्म स्थान को लेकर कोई विवाद न हो. पाथरी की साईं स्मारक समिति का दावा है कि पाथरी साईं बाबा की जन्मभूमि है जबकि शिरडी साईं की कर्मभूमि है. पाथरी के लोगों ने शिरडी के लोगों से विवाद को और आगे नहीं बढ़ाने की अपील की है.