Breaking News

आज है माघ पूर्णिमा, जानें इस बार क्‍या है खास, इस शुभ मुहूर्त में करें स्नान-दान

Magha Purnima : संगम में डुबकी लगाने के बाद श्रद्धालु दान पुण्य के साथ-साथ जमकर माघ मेले का लुफ्त भी उठा रहे हैं. 

आज है माघ पूर्णिमा, जानें इस बार क्‍या है खास, इस शुभ मुहूर्त में करें स्नान-दान
फाइल फोटो...

प्रयागराज : प्रयागराज माघ मेले के पांचवें स्नान पर्व माघी पूर्णिमा का स्नान आज है. माघी पूर्णिमा (Magha Purnima) पर त्रिवेणी संगम में श्रद्धालु ब्रह्म मुहूर्त में सुबह से ही कड़ाके के ठंड में आस्था की डुबकी लगा रहे हैं. सुबह से ही स्नान घाटों पर लोगों का हुजूम उमड़ पड़ा है. श्रद्धालुओं के भारी भीड़ आस्था की डुबकी लगाने संगम पहुंच रही है.

संगम में डुबकी लगाने के बाद श्रद्धालु दान पुण्य के साथ-साथ जमकर माघ मेले का लुफ्त भी उठा रहे हैं. माघ नक्षत्र में श्रद्धालुओं को डुबकी लगाने के लिए 8 स्नान घाट बनाए गए हैं. जहां श्रद्धालु आस्था की डुबकी लगा रहें हैं. प्रशासन का अनुमान है कि माघी पूर्णिमा पर लगभग 25 लाख श्रद्धालु आस्था की डुबकी लगाने के लिए संगम में आ सकते हैं. 

आपको बता दें कि माघी पूर्णिमा की स्नान करने के बाद दान करने का विशेष महत्व है. श्रद्धालु माघी पूर्णिमा पर स्नान इसलिए भी संगम में करते हैं कि माघी पूर्णिमा पर स्नान से माघ मास में स्नान के बराबर पुण्य मिलता है. माघी पूर्णिमा स्नान के साथ ही ही संगम क़ी रेती पर तम्बुओं में रहकर एक माह तक चलने वाला कल्पवास भी खत्म हो रहा है. माघी पूर्णिमा स्नान पर्व को लेकर प्रशासन ने सुरक्षा के भी कड़े इंतजाम किए हैं. भारी सुरक्षा व्यवस्था के बीच श्रद्धालु संगम में आस्था की डुबकी लगा रहे हैं और अपने घर को डुबकी लगाने के बाद लौट रहे हैं.  

इस बार की पूर्णिमा की खास बातें क्या हैं?

- माघ नक्षत्र में चंद्रमा की उपस्थिति
- शुक्र अपनी उच्च राशि में विद्यमान रहेगा
- माघ की पूर्णिमा को स्नान करने से, माघ मास के व्रत का भी पूर्ण फल मिलेगा
- इस समय स्नान से पुण्य के अलावा अमृत तत्व भी मिल सकता है

किस प्रकार करें स्नान?

- नियम और तरीके से स्नान करें
- स्नान करने के बाद सूर्य को अर्घ्य दें
- साफ़ वस्त्र या सफेद वस्त्र धारण करें, फिर मंत्र जाप करें
- मंत्र जाप के पश्चात अपनी आवश्यकतानुसार दान करें
- चाहें तो इस दिन जल और फल ग्रहण करके उपवास रख सकते हैं