Zee Aadhyatm : शरद पूर्णिमा पर जानिए कैसे दूर होगी बीमारी और मिलेगा सौभाग्य

मान्यता है कि इस रात देवी लक्ष्मी (Mata Mahalaxmi) पृथ्वी पर भ्रमण के लिए आती हैं. इस रात को पूरे श्रद्धा और विश्वास के साथ भगवान की प्रार्थना और पूजन करता है, उसे विशेष फल की प्राप्ति होती है.

Zee Aadhyatm : शरद पूर्णिमा पर जानिए कैसे दूर होगी बीमारी और मिलेगा सौभाग्य
आरोग्य की प्राप्ति के लिए श्रद्धा और विश्वास के साथ परंपरा का पालन करना चाहिए...

नई दिल्ली : आज शरद पूर्णिमा (Sharad Purnima) है. इसे कोजागरी पूनम (Kojagari Poonam) भी कहा जाता है. आखिर ये दिन क्यों खास है, और क्या है इससे जुड़ी मान्यताएं आइए जानते हैं Zee आध्यात्म के इस अंक में. शरद पूर्णिमा की तिथि में चंद्रमा (Moon) संपूर्ण 16 कलाओं से युक्त होता है. इसलिए इस तिथि पर व्रत रखने से सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं. 

प्राचीन सनातन परंपरा और ज्ञान-विज्ञान
शरद पूर्णिमा की रात को आयुर्वेदिक दृष्टि से भी महत्त्वपूर्ण माना जाता है. इसलिए इस रात को चंद्रमा की रोशनी में खीर रखी जाती है. मान्यता है कि इस खीर को खाने से आरोग्य की प्राप्ति होती है. इसके साथ ही चर्म रोग, अस्थमा, दिल की बीमारियों, फेफड़ों की दिक्कतों और आंखों की तकलीफों में भी आराम मिलता है. 

देवी माता महालक्ष्मी का पृथ्वी भ्रमण
मान्यता है कि इस रात देवी लक्ष्मी (Mata Mahalaxmi) पृथ्वी पर भ्रमण के लिए आती हैं. इस रात को पूरे श्रद्धा और विश्वास के साथ भगवान की प्रार्थना और पूजन करता है, उसे विशेष फल की प्राप्ति होती है. 

भगवान कृष्ण ने इसी तिथि पर रचाया रास
शरद पूर्णिमा की रात्रि कितनी दिव्य है. इसका अंदाजा इसी बात से लगाइए कि भगवान कृष्ण (God Krishna)ने राधा और वृंदावन की गोपियों के साथ इसी तिथि पर रास रचाया था.

ये भी पढ़ें- राशिफल 30 अक्टूबर: शुक्रवार को कामयाबी हासिल करेंगे इस राशि के लोग

श्रद्धा के साथ व्रत से पूर्ण होती मनोकामना
यह रात्रि आयुर्वेद की दृष्टि से भी महत्त्वपूर्ण  
चंद्रमा की रोशनी में खीर रखी जाती है
देवी लक्ष्मी के धरती पर आने की मान्यता  
वृंदावन में भगवान ने रास लीला की थी

LIVE TV

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.