किचन से भी जुड़ा है आपकी किस्मत का कनेक्शन, बनवाते समय इन बातों का रखें विशेष ध्यान

आइए जानते हैं कि वास्तु के अनुसार किचन बनवाते समय या फिर खाना बनाते समय किन चीजों का विशेष ध्यान रखना चाहिए.

किचन से भी जुड़ा है आपकी किस्मत का कनेक्शन, बनवाते समय इन बातों का रखें विशेष ध्यान

नई दिल्ली: वास्तु का हमारे जीवन में काफी प्रभाव पड़ता है. वास्तु से जुड़ी दिशाएं आपके जीवन की दिशा को बदलने का काम करती हैं. जिस तरह से सही दिशा में किया गया काम आपको सफलता और तरक्की की ओर ले जाता है, उसी प्रकार वास्तु के अनुसार सही दिशा में बनाया मकान और उसके विभिन्न हिस्से आपकी सुख-समृद्धि का कारण बनते हैं. वहीं वास्तु के विपरीत यानी गलत दिशा या स्थान में बनी चीजें आपके तमाम तरह के कष्ट का कारण बनती हैं.

​किचन किसी भी मकान का एक प्रमुख हिस्सा होता है. जहां पर घर की गृहणी पूरे परिवार के लिए भोजन बनाती है. यदि आपका किचन वास्तु के अनुसार बना है तो निश्चित मानिए वहां पर बनाया गया भोजन पूरे परिवार को सुख, सौभाग्य और स्वस्थ जीवन प्रदान करेगा. तो आइए जानते हैं कि वास्तु के अनुसार किचन बनवाते समय या फिर खाना बनाते समय किन चीजों का विशेष ध्यान रखना चाहिए.

1. दक्षिण दिशा का रखें ख्याल
किसी भी मकान को बनवाते समय किचन हमेशा आग्नेय कोण यानी दक्षिण पूर्व दिशा में बनवाने का प्रयास करना चाहिए. ध्यान रहे भूलकर भी ईशान कोण यानी उत्तर-पूर्व दिशा में रसोई नहीं बनवानी चाहिए.

2. पूर्व दिशा की ओर मुंह करके बनाए खाना
किचन में खाना बनाने वाले का मुंह हमेशा पूर्व दिशा की ओर रहना चाहिए। साथ ही खाना बनाने वाले की पीठ दरवाजे की तरफ नहीं होना चाहिए. 

3.रसोई बनाते समय इस बात का अवश्य रखें ख्याल
किचन में ​जिस जगह पर खाना बनाने का चूल्हा रखें, उसके ऊपर बीम नहीं होना चाहिए. बीम के नीचे न तो भोजन बनाएं और न ही खाएं. भूलकर भी रसोई के बीचों-बीच चूल्हा रखने का स्थान न बनाएं.

4. चूल्हा धन और समृद्धि का प्रतीक माना जाता है 
गैस का चूल्हा धन और समृद्धि का प्रतीक माना जाता है. ऐसे में चूल्हे को हमेशा साफ रखें. किचन में चूल्हे के पास पानी रखने का स्थान नहीं बनाएं. यह गंभीर वास्तु दोष माना जाता है, जिसका प्रभाव घर की गृहणी पर पड़ता है.

5. सीढ़ियों के नीचे भूलकर भी ना बनाएं किचन
सीढ़ियों के नीचे रसोई घर होना एक बड़ा वास्तुदोष माना गया है. इसलिए भूलकर भी सीढ़ियों के नीचे किचन नहीं बनवाना चाहिए. 

6. शौचायल से दूरी का रखें ध्यान
कभी भी रसोईघर और शौचालय अगल-बगल नहीं बनवाने चाहिए. ध्यान रहे किचन और शौचालय की दीवार भी एकदूसरे से सटी नहीं होनी चाहिए.

7. टूटे बर्तानों के इस्तेमाल से बचें
रसोई घर मां अन्नपूर्णा का स्थान है. ऐसे में इस स्थान की पवित्रता बनाए रखते हुए इसे हमेशा साफ-सुथरा रखना चाहिए. रसोई घर में टूटे बर्तन या अनुपयोगी कूड़ा-कबाड़ जैसी चीजें न रखें. रसोई घर की आलमारियों में कभी भी दवाएं न रखें.

LIVE TV