छलक उठा 'पहचान संकट' से जूझते सीएम अखिलेश का दर्द

Last Updated: Wednesday, June 10, 2015 - 17:23
छलक उठा 'पहचान संकट' से जूझते सीएम अखिलेश का दर्द
File Photo

विनोद मिश्रा
देश के सबसे कम उम्र और सबसे बड़े प्रदेश के सीएम अखिलेश यादव को इस बात का मलाल है कि उनके ही प्रदेश के गांवों में रहने वाले लोग उन्हें नहीं पहचानते। युवा मुख्यमंत्री अखिलेश ने कहा कि गांव के लोग तो मुझे पहचानते तक नहीं हैं। मुख्यमंत्री कहते हैं कि कई मौके पर उन्हें इस कड़वी हकीकत का सामना करना पड़ा है। आखिर इस रहस्योद्घाटन के पीछे सीएम का चिंतन क्या है यह समझने की जरुरत है।

-क्या गांव के लोग इतने भोले हैं कि वे अपने सीएम तक को नहीं पहचानते?
-क्या सीएम अखिलेश अपना दर्द बताना चाहते हैं कि वो जिनके लिए इतना कर रहे है वे उन्हें जानते तक नहीं?
-या फिर सीएम अखिलेश यह बताना चाह रहे हैं कि समाजवादी सरकार का असली मुखिया मुलायम सिंह यादव हैं, वे सिर्फ नेताजी के आदेश पालक हैं?
 
राज्य की विपक्षी पार्टियां जब सीएम अखिलेश पर यह तंज करती है कि उत्तर प्रदेश में साढ़े चार मुख्यमंत्री है तो अखिलेश के हिस्से में आधा ही आता है। क्या इस स्थिति के लिए स्वयं नेताजी, प्रोफेसर रामगोपाल, शिवपाल यादव और आजम खान जिम्मेदार हैं? यकीनी तौर पर इससे इनकार नहीं किया जा सकता। लेकिन सवाल, पहचान की संकट नहीं जिसे अखिलेश बताना चाह रहे हैं, यहां सवाल उनकी सरकार के इकबाल को लेकर है। दिल्ली के ग्रामीण इलाके में अपनी चुनावी यात्रा के दौरान हरकिशन लाल भगत ने एक बार अपनी लोकप्रियता की जांच करनी चाही। पानी भरी मटकी लिए आती कुछ महिलाओं को उन्होंने रोका और विनम्रता से कहा मैं भगत, वोट मांगने आया हूं। महिलाओं ने तीखा सवाल किया। क़े भगत? नहीं जानती किसी भगत को। दिल्ली के चर्चित और मशहूर कांग्रेसी नेता हर किशन लाल भगत मायूस जरूर हुए लेकिन हार नहीं मानी। महिलाओं को पुनः रोकते हुए कहा अरे! कांग्रेस वाला हरकिशन लाला भगत। एक बुजुर्ग महिला आगे बढ़ कर सामने आई और भगत से पूछा इंदिरा की पार्टी से हो! भगत ने सर हिलाया। महिलाओं ने आश्वस्त किया कि वोट उन्हें ही मिलेगा। पहचान की इसी संकट के कारण लालकृष्ण आडवाणी ने पार्टी अध्यक्ष का पद अटल जी को सौंप दिया था। जनता पार्टी के विघटन के बाद जनसंघ से बनी बीजेपी के सामने बड़ा सवाल अध्यक्ष पद का था। दक्षिण भारत के दौरे पर गए आडवाणी को किसी ने पूछा आप वाजपेयी की पार्टी से हैं। आडवाणी को अटल जी की लोकप्रियता समझते देर नहीं लगी थी।

18 करोड़ की आबादी वाला उत्तर प्रदेश केंद्र की सत्ता की कुंजी अपने पास रखता है। ऐसे में अगर प्रदेश के मुख्यमंत्री को पहचान की संकट आन पड़ी है तो माना जाना चाहिए कि प्रदेश की जनता का कुछ भी भला नहीं होने वाला है। एनडीए के दौर में आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चन्द्र बाबू नायडू ने सरकार के समर्थन की भरपूर कीमत वसूली लेकिन पिछले दस वर्षों में यूपीए को समर्थन देने वाली उत्तर प्रदेश की सरकारों ने सिर्फ अपने व्यक्तिगत मुकदमों का ही निपटारा किया। प्रदेश को कुछ नहीं मिला जो मिला वो भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ गया। सीएम अखिलेश अभी तक व्यक्तिगत मुकदमे से दूर हैं, व्यक्तिगत छवि भी सपा और बसपा के नेताओं से अलग है फिर भी अभी तक अखिलेश लोकभाषा की कहानी में शामिल नहीं हुए है तो माना जाएगा कि उनके व्यक्तित्व में ऐसा कुछ नहीं है जो लोग उन्हें लोककथा के रूप में पेश कर सके। हर दौर में राजा और शासक की अपनी अलग छवि और व्यक्तित्व ही इतिहास बना है वरना उनका नाम क्रोनोलॉजी के रूप में ही दर्ज होता है।

आज देश के प्रधानमंत्री, गृह मंत्री, रक्षा मंत्री और न जाने दर्जनों संघीय मंत्री उत्तर प्रदेश से हैं और प्रदेश के मुख्यमंत्री पहचान संकट से जूझ रहे हैं तो यह भी माना जाएगा कि अखिलेश पीएम मोदी फोबिया से ग्रस्त हैं। यूपी में अपने बदौलत नरेंद्र मोदी ने 73 लोकसभा सीटें जीती तो माना गया कि मोदी इस दौर में सबसे ज्यादा लोकप्रिय नेता हैं। 2012 में समाजवादी पार्टी जब पूर्ण बहुमत से सत्ता में आई तो लोगों ने इसका श्रेय अखिलेश को ही दिया था। अगर आम अवाम ने 2012 में अपना खेवनहार मान कर अखिलेश को एक उम्मीद से सत्ता पर काबिज किया था वही अवाम उन्हें 2017 में कुर्सी से उतार भी सकती है, लेकिन ऐसा इशारा अवाम ने अभी नहीं दिया है। सारे उपचुनाव अखिलेश ने जीते हैं फिर उन्हें जनता से कौन दूर कर रहा है? अखिलेश बार-बार अपनी घटती लोकप्रियता के लिए मीडिया को जिम्मेदार ठहराते हैं। वे दावा करते हैं कि उन्होंने सबसे ज्यादा काम किया है लेकिन प्रचार नहीं हुआ है। लेकिन उन्होंने शायद पहली बार स्वीकार किया है कि लोग उन्हें नहीं पहचानते।

वह कैसी पहचान चाहते हैं? इसका खुलासा सीएम अखिलेश ने अभी तक नहीं किया है, अगर सीएम अखिलेश नौकरशाह के हाथ में सत्ता सौंप कर अपनी पहचान कायम रखना चाहते हैं तो शायद वे बड़ी भूल कर रहे हैं। अगर वो सिर्फ मोदी को दिन-रात निंदा कर अपनी पहचान चाहते हैं तो यह कभी संभव नहीं हुआ है। गाली देने वाला पीड़ित ही समझा जाता है। अगर वे वाकई अपनी पहचान चाहते हैं तो नेताजी और चाचाओं के खड़ाऊ ढोने के बजाय अपनी अलग पहचान बनाए जो नौकरशाह के कंधों पर लदी न दिखे। वक्त ने अखिलेश को मौका दिया है यह अब उन्हें तय करना है कि आने वाली पीढ़ी उन्हें मुलायम सिंह के बेटे के रूप में याद करती है या फिर अखिलेश के रूप में।
(लेखक ज़ी संगम में एडीटर {एसाइन्‍मेंट} हैं।)

एक्सक्लूसिव



comments powered by Disqus

© 1998-2015 Zee Media Corporation Ltd (An Essel Group Company), All rights reserved.