Blogs

सिद्धांत पर सत्ता हावी ! सिद्धांत पर सत्ता हावी !

लोकतंत्र की अऩिवार्य आवश्यकता है राजनीति और राजनीति की अनिवार्य जरूरत है विचारधारा...अलग अलग विचारधाराओं का संयोग ही एक स्वस्थ लोकतन्त्र की बुनियाद बनता है...शायद इसीलिए लोकतन्त्र में विपक्ष की भूमिका खासी अहम मानी गई है... साथ ही एक हकीकत ये भी है कि कई बार सत्ता की जरूरतें विचारधारा पर हावी हो जाती है....और कोई भी राजनीतिक दल विपक्ष में रहते हुए जिन मुद्दों के सहारे राजनीति करता है सत्ता में आते ही उन्हें तिलांजलि दे देता है क्योंकि इससे उनके राजनीतिक हित जुड़े होते हैं... खुद को राष्ट्रवाद का सबसे बड़ा झंडाबरदार बताने वाली बीजेपी की हालत भी कुछ ऐसी ही है... जिसकी विपक्ष के तौर पर विचारधारा और सत्ता में रहते हुए सामने आ रही विचारधारा दोनों में खासा फर्क है...बांग्लादेश से जमीन अदला-बदली के मुद्दे पर बीजेपी का यू टर्न इसकी ताजा मिसाल है...



© 1998-2015 Zee Media Corporation Ltd (An Essel Group Company), All rights reserved.