नहीं मिला भूरा, किस्मत की लकीर पीट रही यूपी पुलिस

By Pritesh Gupta | Last Updated: Tuesday, January 13, 2015 - 19:26
नहीं मिला भूरा, किस्मत की लकीर पीट रही यूपी पुलिस

शामली/बागपतः करीब एक पखवाड़ा पहले फरार हुए अमित उर्फ भूरा ने पुलिस की नाक में दम कर रखा है। चार प्रदेशों की पुलिस भूरा के पीछे है, लेकिन भूरा को ढूंढना मुश्किल ही नहीं नामुमकिन होता जा रहा है। 12 लाख का यह इनामी बदमाश कहां है, यह किसी को नहीं पता है। 

पेशी पर ले जाते वक्त गायब हुआ था
15 दिसंबर को उत्तराखंड से बागपत कोर्ट में पेशी के लिए जाते वक्त पुलिस के शिकंजे से वह कब छूमंतर हो गया पुलिस को हवा तक नहीं लगी। पुलिस डाल-डाल चलती है तो वह पात-पात। भूरा के आगे अब उत्तर प्रदेश के एडीजी भी नसीब के सहारे चल रहे हैं।

40 से ज्यादा आपराधिक मामले दर्ज हैं भूरा पर
चार राज्यों की पुलिस को दौड़ा-दौड़ाकर हैरान कर देने वाले इस शख्स पर 40 से ज्यादा आपराधिक मामले दर्ज हैं। पुलिस ने उसे पकड़ने के लिए 12 लाख का इनाम रखा हुआ है। लेकिन अब तक भूरा की कोई खबर किसी के पास नहीं है। 

किस्मत के भरोसे पुलिसिया कार्रवाई
दिल्ली, उत्तराखंड, हरियाणा और उत्तर प्रदेश की पुलिस अब भी खाली हाथ हैं, किस्मत के सहारे बैठी है। भूरा को लेकर रोज नई जानकारी मिलती है, सिर्फ भूरा की लोकेशन ही नहीं मिलती। एक ओर भूरा के फरार होने में उत्तराखंड के रूड़की जेल प्रशासन की लापरवाही सामने आती है, तो दूसरी ओर यूपी के एडीजी लॉ एंड ऑर्डर मुकुल गोयल के ताजा बयान पुलिस के अभियान पर सवाल उठाते हैं।

क्या पुलिस ने टेक दिए घुटने?
एडीजी के बयान से पुलिस टीमों की इच्छाशक्ति जाहिर है। ऐसे में सवाल उठते हैं कि क्या इतना बड़े पुलिस बल भूरा के सामने घुटने टेक चुका है, जो तकदीर की लकीर पीट रहा है।

'टेम्पो' में ले जा रहे थे पेशी पर!
हालांकि सवाल पुलिस और प्रशासन की ईमानदारी पर भी उठ रहे हैं। क्योंकि ढीली कार्रवाई के इतर यदि इतिहास की परतों को खंगाला जाए तो पता चलता है कि बागपत कोर्ट में पेशी के लिए भूरा को एक टेम्पो में ले जाया जा रहा था। नतीजा ये हुआ कि भूरा के साथी पुलिस टीम पर फायरिंग कर उसे आसानी से छुड़ा ले गए।

ज़ी मीडिया ब्‍यूरो

114076112497191514508


comments powered by Disqus

© 1998-2015 Zee Media Corporation Ltd (An Essel Group Company), All rights reserved.