लक्ष्मीकांत पारसेकर बने गोवा के नए मुख्यमंत्री

By Gitika Verma | Last Updated: Saturday, November 8, 2014 - 17:06
लक्ष्मीकांत पारसेकर बने गोवा के नए मुख्यमंत्री

नई दिल्ली: लक्ष्मीकांत पारसेकर ने गोवा के नए मुख्यमंत्री पद की शपथ ली। मनोहर पर्रिकर ने मोदी सरकार में शामिल होने के लिए गोवा के मुख्यमंत्री पद से आज इस्तीफा दे दिया। ऐसे में गोवा का अगला मुख्यमंत्री कौन होगा इसको लेकर भाजपा संसदीय बोर्ड की आज बैठक हुई, बैठक में गोवा के नए सीएम पद को लेकर चर्चा हुई। उसके बाद गोवा भाजपा विधायक दल की बैठक नए मुख्यमंत्री के लिए लक्ष्मीकांत पारसेकर के नाम पर मुहर लग गई।

गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पार्रिकर ने आज अपने पद से इस्तीफा दे दिया और राज्य में अपना उत्तराधिकारी चुनने का मार्ग प्रशस्त कर दिया। पार्रिकर को केंद्र में रक्षा मंत्री का दायित्व सौंपे जाने के संकेत मिले हैं। पार्रिकर ने आर्चविशप से मुलाकात के बाद आज दोपहर को राजभवन में प्रदेश की राज्यपाल मृदुला सिन्हा को अपना इस्तीफा फैक्स कर दिया। पार्रिकर का दो पैराग्राफ का इस्तीफा पत्र अलटिन्हो स्थित उनके आधिकारिक आवास से फैक्स किया गया।

इस्तीफा फैक्स करने से कुछ ही मिनट पहले पार्रिकर ने कहा, नए मुख्यमंत्री का शपथग्रहण शाम चार बजे होगा। पार्रिकर के इस्तीफा देने के साथ राज्य मंत्रिमंडल भंग हो गया है जिसमें 12 मंत्री शामिल है। इनमें से दो महाराष्ट्रवादी गोमांतक पार्टी से हैं। नए मुख्यमंत्री के साथ नया मंत्रिमंडल शपथ लेगा।

राज्य में अपनी अध्यक्षता में आखिरी मंत्रिमंडल की बैठक के बाद पार्रिकर ने कल शाम संवाददाताओं से कहा था,  मेरे लिए राज्य को छोड़ना कठित था लेकिन राष्ट्र, राज्य से बडा होता है। 58 वर्षीय पार्रिकर ने मार्च 2012 में राज्य के मुख्यमंत्री पद की शपथ ली थी। उन्होंने राज्य में विधानसभा चुनाव में पार्टी को ऐतिहासिक जीत दिलाने में अहम भूमिका निभाई थी। पार्रिकर उस समय सुखिर्यों में आए जब उन्होंने पेट्रोल की कीमत 11 रुपए तक कम कर दी थी।

आईआईटी बम्बई के छात्र रहे पार्रिकर ने दो महत्वपूर्ण योजनाएं शुरू की जिसमें एक, घर में रहने वाली महिलाओं (हाउसवाइफ) के लिए मासिक आय योजना ‘गृह आधार’ और लड़कियों के विवाह के लिए वित्तीय मदद के रूप में एक लाख रुपए की ‘लाडली लक्ष्मी’ योजना शामिल है। पार्रिकर ने अवैध खनन कारोबार में अनियमितता के विषय को भी उठाया था।

भाजपा संसदीय बोर्ड की बैठक में भाजपा अध्यक्ष अमित शाह समेत अरूण जेटली, शिवराज सिंह चौहान, रामलाल, अनंत कुमार, नितिन गडकरी, जेपी नड्डा, थावरचंद गहलोत और वेंकैया नायडू शामिल हुए। लेकिन प्रधानमंत्री वाराणसी दौरे के चलते इस बैठक में शामिल नहीं हो पाए।

इस बीच केंद्रीय मंत्रिपरिषद का रविवार को विस्तार होगा और इसमें गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पार्रिकर सहित करीब 10 नए चेहरों को शामिल किए जाने की संभावना है। इस विस्तार में कुछ सहयोगियों को भी शामिल किया जा सकता है। संकेत हैं कि मोदी के तीन देशों की 10 दिवसीय यात्रा पर रवाना होने से दो दिन पहले मंत्रिपरिषद का विस्तार रविवार को दोपहर डेढ बजे के करीब हो सकता है। राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी भी भूटान की अपनी यात्रा से शनिवार को लौट आएंगे।

इस बीच खुद मनोहर पर्रिकर ने गुरुवार को अपने केंद्रीय कैबिनेट में शामिल होने की अटकलों पर मुहर लगा दी। उन्होंने कहा, बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने उनसे कहा था कि प्रधानमंत्री मोदी जो भी जिम्मेदारी दें उसे आप स्वीकार कर लें। हालांकि, उन्होंने इस बात की पुष्टि नहीं की कि उन्हें रक्षा मंत्रालय की जिम्मेदारी संभालने को कहा गया है।  
 
रविवार यानी 9 नवंबर को हाने वाले मोदी मंत्रिमंडल विस्तार में पर्रिकर को अरुण जेटली की जगह रक्षा मंत्रालय की जिम्मेदारी सौंपी जाएगी। मोदी के मंत्रिमंडल विस्तार में सबसे बड़ी खबर यही है कि पर्रिकर को रक्षा मंत्री की जिम्मेदारी सौंपी जाएगी। अब तक रक्षा मंत्रालय का अतिरिक्त प्रभार वित्त मंत्री अरुण जेटली के पास है।  

ज़ी मीडिया ब्‍यूरो



comments powered by Disqus

© 1998-2015 Zee Media Corporation Ltd (An Essel Group Company), All rights reserved.