30 कांग्रेसी नेताओं की हत्या का मास्टरमाइंड मुठभेड़ में ढेर

Last Updated: Sunday, September 20, 2015 - 09:26
30 कांग्रेसी नेताओं की हत्या का मास्टरमाइंड मुठभेड़ में ढेर
Representational image (Naxal Leader)

मलकानगिरि (ओडिशा): पूर्व केंद्रीय मंत्री वीसी शुक्ला सहित करीब 30 वरिष्ठ कांग्रेस नेताओं के 2013 में माओवादियों द्वारा किए गए नरसंहार का मुख्य षड्यंत्रकर्ता शनिवार को ओडिशा के मलकानगिरि जिले में जंगल में सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ में मारा गया।

सुनधरा 25 मई को शुक्ला, महेन्द्र कर्मा सहित विभिन्न शीर्ष कांग्रेस नेताओं की छत्तीसगढ़ में हत्या के पीछे मुख्य षड्यंत्रकर्ता था। उसे मलकानगिरी में उसके दो अंगरक्षकों के साथ मार गिराया गया।

मलकानगिरि के पुलिस अधीक्षक मित्रभानु महापात्र ने बताया कि एक गुप्त सूचना के आधार पर स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप (एसओजी) और जिला वोलेंटरी फोर्स (डीवीएफ) की एक टीम ने माथिली क्षेत्र के भेजागुडा जंगल में एक अभियान चलाया। वहां पर इस टीम का माओवादियों के एक समूह से आमना सामना हुआ।

उन्होंने बताया कि इसके बाद गोलीबारी हुई जिसमें दरभा (छत्तीसगढ़) माओवादी डिवीजन कमेटी का सचिव सुनधरा और उसके दो अंगरक्षक मारे गए और कई अन्य फरार हो गए। एक पिस्तौल, कुछ धारदार हथियार, वाकी टॉकी सेट, माओवादियों की पोशाकें और कुछ अन्य नक्सल सामग्री बरामद की गई।

माओवादियों के बीच बड़े रूतबे वाला सुनधरा ओडिशा के माथिली इलाके और छत्तीसगढ़ के दरभा क्षेत्र में कई अपराधों में कथित तौर पर संलिप्त था। उन्होंने बताया कि घटना के बाद माओवादियों को पकड़ने का अभियान तेज कर दिया गया है।

वर्ष 2013 में छत्तीसगढ राज्य विधानसभा चुनावों से पहले राज्य की दरबा घाटी में हुए माओवादी हमले में राज्य में कांग्रेस का लगभग पूरा नेतृत्व समाप्त हो गया था। इस हमले में नक्सल विरोधी अभियान सलवा जुडूम चलाने वाले पूर्व गृह मंत्री करमा भी मारे गये थे।

भाषा



comments powered by Disqus

© 1998-2015 Zee Media Corporation Ltd (An Essel Group Company), All rights reserved.