असम में ताजा हमला, पानी मांगने के बहाने उग्रवादियों ने की फायरिंग, मरने वालों की संख्या 78 पहुंची

By Lalit Fulara | Last Updated: Thursday, December 25, 2014 - 14:45
असम में ताजा हमला, पानी मांगने के बहाने उग्रवादियों ने की फायरिंग, मरने वालों की संख्या 78 पहुंची

गुवाहाटी: असम के सोनितपुर और कोकराझार में एनडीएफबी उग्रवादी हमले में मरने वालों की संख्या 78  पहुंच गई है। राज्य में हालत तनावपूर्ण बने हुए हैं। रिपोर्टों का कहना है हजारों की संख्या में लोग अपने घरों को छोड़कर स्कूलों और चर्चों में पनाह ले रहे हैं। गौरतलब है कि इससे पहले बुधवार को उग्र आदिवासी प्रदर्शन में पुलिस फायरिंग में पांच लोगों की मौत  हो गई थी। आदिवासी अपने परिजनों की हत्या के विरोध में प्रदर्शन कर रहे थे। आदिवासियों ने बोडो कार्यकर्ताओं के घरों में आग लगा दी थी।

राइटर की रिपोर्ट के मुताबिक, असम में ताजा उग्रवादी हमले की बात कही जा रही है। एक ग्रामीण के मुताबित, उग्रवादियों ने पानी मांगा और उसके बाद फायरिंग शुरू कर दी। वहीं, हिंसा प्रभावित इलाकों में कर्फ्यू जारी है। सेना और पुलिस हालात पर काबू पाने की कोशिश में जुटी हुई है। बुधवार को गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने राज्य का दौरा किया था। उन्होंने इस नरसंहार को 'आतंकी' कार्य बताया और इससे सख्ती से निपटने की बात कही। गृहमंत्री ने हमले के लिए राज्य सरकार की लापरवाही को भी जिम्मेदार माना और कहा कि जानकारी मिलने के बाद भी राज्य सरकार हमलों को रोकने में नाकाम रही है।

उदलगुड़ी के पुलिस अधीक्षक बीर बिक्रम गोगोई का कहना है कि संदिग्ध एनडीएफबी (एस) उग्रवादियों ने मजबत थानांतर्गत लामाबारी में गोलीबारी की और कुछ घरों को जला दिया। एक पुलिस दल मौके पर पहुंचा और उग्रवादियों पर गोली चलाईं, तो वे मौके से भाग गए। उन्होंने कहा कि गोलीबारी में एक आदिवासी घायल हो गया। उसे तेजपुर मेडिकल कॉलेज अस्पताल में भर्ती कराया गया है। पुलिस ने कहा कि हमले के बाद नाराज आदिवासियों ने लामाबारी और उदलगुड़ी साप्ताहिक हाट में 60 से अधिक घरों को आग के हवाले कर दिया। लोगों के घर छोड़ने के चलते कोई घायल नहीं हुआ। उग्रवादियों ने मंगलवार रात से कोकराझार, चिरांग, सोनितपुर और उदलगुड़ी जिलों में सिलसिलेवार हमलों में कई आदिवासियों को मार दिया।

BJP supporters protest (PTI Photo)

 

ज़ी मीडिया ब्‍यूरो

116494177177165543003


comments powered by Disqus

© 1998-2015 Zee Media Corporation Ltd (An Essel Group Company), All rights reserved.