'मन की बात' में बोले प्रधानमंत्री- 'खादी फॉर नेशन' बन गया फैशन

Last Updated: Sunday, September 20, 2015 - 12:06
'मन की बात' में बोले प्रधानमंत्री- 'खादी फॉर नेशन' बन गया फैशन

नई दिल्ली: आचार संहिता के उल्लंघन की दलीलों के साथ प्रतिबंध की मांग और चुनाव आयोग की हिदायतों के साथ आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 12वीं बार रेडियो के जरिये 'मन की बात' की। अपने संबोधन में प्रधानमंत्री ने अपनी अपीलों के असर पर लोगों से चर्चा की और नेताजी सुभाष चंद्र बोस के परिजनों का स्वागत करने के अवसर पर खुशी जताई।

ये प्रधानमंत्री के 'मन की बात' Live अपडेट

* मेरे प्यारे देशवासियों आप सबको नमस्कार, यह 12 अवसर है, मन की बात का एक साल बीत गया। मैं नहीं जानता आपने क्या पाया लेकिन मैंने मन की बात से एक साल में बहुत कुछ पाया। जनशक्ति पर मेरा अपार विश्वास है। पूर्वजों ने कहा, जानता में ईश्वरीय शक्ति है। मैं मन की बात में लोगों से सुझाव मांगता था। लाखों की तादाद में लोगों ने सुझाव दिये। इस कार्यक्रम के लिए मैं आकाशवाणी का अभिनंदन करता हूं। जानकारी नीचे ऊपर जानी चाहिए। मार्ग दर्शन ऊपर से नीचे जानी चाहिए। आकाशवाणी से जनता की बातें सरकार से सामने रखी। सेल्फी विद डॉउटर ने अद्भूत काम किया।

* सरकार की अपील के बाद 20 लाख परिवारों ने एलपीजी सब्सिडी छोड़ी। खादी फॉर नेशन, खादी फॉर फैशन हो गया। पिछले एक साल में खादी की बिक्री दोगुनी हुई। मन की बात में नए प्रयोग के बारे में सोचा। देश के 55 हजार लोगों ने फोन किये। लोगों नें फोन पर सुझाव और संदेश दिये। जनता के सुझाव और संदेश अहम हैं। 90 प्रतिशत में अधिक लोगों ने बहुत अच्छे सुझाव दिये। राजस्थान के अलवर के पवन अचार्य ने संदेश दिया। पवन ने दीवाली पर मिट्टी के दीये जलाने का सुझाव दिया। कुछ लोगों के संदेश मैंने सुने और कुछ पर मेरी टीम काम कर रही है।

* पीएम ने 1965 के युद्ध का जिक्र करते हुए कहा शौर्यांजलि ने इतिहास को जिंदा कर दिया। इतिहास बनाने लिए इतिहास की बारिकियों को समझना जरुरी है। एक छोटे बच्चे ने स्वच्छता के लिए अहम संदेश दिया। संसद में देश के स्वच्छता के लिए चर्चा हो रही है। महात्मा गांधी ने कहा, पहले स्वच्छता, आजादी बाद में। स्वच्छता अभियान को हर कीमत में आगे बढ़ाना है। महापुरुषों की विचारधारा का मुल्यांकन करना हमारा काम नहीं है। सभी महापुरुषों से हमें प्रेरणा लेनी चाहिए। इस साल में मई कोलकाता गया था। नेताजी के परिवार से मिला। नेताजी के परिवार के सभी सदस्यों को दिल्ली बुलाया हूं। खुशी है अक्टूबर में नेताजी के परिवार से मिलूंगा। भार्गवी ने मतदाता सूची में नाम रजिस्टर करने के लिए जागरुक करने को कहा। 

* वाराणसी में सोनम पटेल से मिला। सोनम पटेल को पूरी गीता याद है। सोनम 5 साल की उम्र सो बोलती है। संदीप ने मन की बात हर हफ्ते करने को कहा। फिलहाल एक महीने में एक बार ही मन की बात करूंगा।

गौरतलब है कि बिहार में विधानसभा चुनाव के लगी आचार संहिता का हवाला देते हुए आरजेडी-जेडीयू-कांग्रेस के महागठबंधन ने चुनाव आयोग से प्रधानमंत्री के कार्यक्रम पर रोक लगाने की मांग की थी। चुनाव आयोग ने मामले को संज्ञान में लेते हुए कार्यक्रम में बिहार का जिक्र किये बिना और बिहारवासियों को कोई लालच दिये बिना कार्यक्रम का प्रसारण करने की अनुमति दे दी।

आयोग ने यह भी कहा कि 'मन की बात' में ऐसा कुछ भी नहीं कहा जाना चाहिए जिसे वोटरों को दिया जा रहा लालच समझा जाए या बिहार विधानसभा चुनाव पर इसका कोई असर पड़े। चुनाव आयोग ने केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय की ओर से 15 सितंबर को इस मुद्दे पर मांगे गए स्पष्टीकरण पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए यह आदेश जारी किया। आयोग ने कहा कि आकाशवाणी और दूरदर्शन के विभिन्न चैनलों के जरिए इस कार्यक्रम के प्रसारण से पहले इसके प्रचार पर उसे कोई ऐतराज नहीं है।

हरियाणा, महाराष्ट्र और दिल्ली विधानसभा के चुनावों के दौरान भी इस कार्यक्रम का प्रसारण किया गया था। इस कार्यक्रम के 3 अक्टूबर 2014 के एपिसोड को लेकर कांग्रेस ने मोदी पर आचार संहिता का उल्लंघन करने का आरोप लगाया था। लेकिन चुनाव आयोग कांग्रेस के आरोप से सहमत नहीं हुआ था।

ज़ी मीडिया ब्‍यूरो



comments powered by Disqus

© 1998-2015 Zee Media Corporation Ltd (An Essel Group Company), All rights reserved.