नगा समझौते पर संकटः असम, अरुणाचल, मणिपुर के सीएम ने कहा- एक इंच जमीन नहीं देंगे

Last Updated: Saturday, August 8, 2015 - 10:04
नगा समझौते पर संकटः असम, अरुणाचल, मणिपुर के सीएम ने कहा- एक इंच जमीन नहीं देंगे
File Photo

नई दिल्ली: ऐसा प्रतीत होता है कि नगा समझौते पर संकट के बादल मंडरा रहे हैं क्योंकि असम, अरूणाचल प्रदेश और मणिपुर के मुख्यमंत्रियों ने शुक्रवार को इस संबंध में उनसे संपर्क नहीं करने को लेकर केंद्र पर हमला बोला और घोषणा की कि वे अपनी एक इंच जमीन नहीं देंगे।

मणिपुर के मुख्यमंत्री ओ इबोबी सिंह ने संवाददाताओं से बातचीत करते हुए नरेंद्र मोदी सरकार पर हमला बोला और कहा कि अगर मणिपुर से एक इंच भी जमीन ली गई तो हम इसका पूरा विरोध करेंगे।

केंद्र और एनएससीएन-आईएम के बीच 3 अगस्त को समझौते पर हस्ताक्षर हुए थे। इसका मकसद पूर्वोत्तर राज्य में दशकों से जारी उग्रवाद को समाप्त करना है। एनएससीएन-आईएम की मुख्य मांग नगा आबादी वाले क्षेत्रों को मिलाकर ‘वृहद नगालिम’ बनाए जाने की रही है। हालांकि यह अभी स्पष्ट नहीं हो सका है कि इस मांग को स्वीकार किया गया है या नहीं। मसौदा समझौते के ब्यौरे और कार्यान्वयन योजना अभी जारी नहीं किए गए हैं।

नगालैंड के पड़ोसी मणिपुर, असम और अरुणाचल प्रदेश नगा आबादी वाले क्षेत्रों को एक किए जाने के खिलाफ हैं। असम के मुख्यमंत्री तरूण गोगोई ने नरेंद्र मोदी सरकार पर आरोप लगाया कि इस प्रकार के महत्वपूर्ण मुद्दे पर उनसे और अरूणाचल प्रदेश और मणिपुर में उनके समकक्षों से विचार विमर्श नहीं कर संसदीय लोकतंत्र और सहकारी संघवाद की भावना का ‘पूरी तरह से उल्लंघन’ किया गया है।

भाषा



comments powered by Disqus

© 1998-2015 Zee Media Corporation Ltd (An Essel Group Company), All rights reserved.