सूखे से निपटने में ढील बरत रही UP सरकार : लक्ष्मीकांत वाजपेयी

Last Updated: Friday, October 16, 2015 - 09:01
सूखे से निपटने में ढील बरत रही UP सरकार : लक्ष्मीकांत वाजपेयी

मथुरा: भारतीय जनता पार्टी ने उत्तर प्रदेश सरकार पर आरोप लगाया है कि वह सूखे से निपटने में ढिलाई बरत रही है। इसके चलते प्रदेश के किसानों पर अब तिहरी मार पड़ने वाली है।  वे न चाहते हुए भी लगातार नुकसान झेलने को मजबूर हैं। पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष डॉ. लक्ष्मीकांत वाजपेयी ने संवाददाताओं से मुलाकात में कहा कि पिछले वर्ष सूखा पड़ने से खरीफ तथा रबी की फसल के समय अतिवृष्टि व ओलावृष्टि की मार खा चुके किसान अब एक बार फिर सूखे की मार झेलने को विवश हैं।

उन्होंने कहा कि इसके बावजूद यह सरकार हाथ पर हाथ धरे बैठे हैं। किसानों को गत वर्ष पड़े सूखे की राहत राशि का भुगतान अभी तक नहीं हुआ है। रबी की फसल के दौरान हुई बेमौसम बारिश और बेहिसाब ओलावृष्टि से बर्बाद हुए किसानों को फसल मुआवजे के चेक वितरण कार्य पूरा नहीं किया है। उन्होंने कहा कि इस वर्ष प्रदेश के केवल छह जिलों (मुजफ्फरनगर, शामली, संभल, बिजनौर, मुरादाबाद व लखीमपुर खीरी) में ही खेती योग्य वर्षा हुई है। बाकी सभी 69 जिले सूखे से प्रभावित हैं। इसलिए इन जनपदों में इस वर्ष भी किसान की कोई फसल ठीक प्रकार से नहीं हो पाएगी।

उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार ने अभी तक न तो गत वर्ष के सूखे की राहत राशि का ही सभी किसानों को भुगतान किया है और न ही अतिवृष्टि से बर्बाद हुई रबी की फसल का। ऊपर से किसान एक और सूखा झेलने को विवश हैं। उन्होंने कहा कि कई जनपदों के किसानों की शिकायत है कि उनको फसल मुआवजा नहीं मिला है। मुआवजा राशि के चेकों में गड़बड़ी की गई है। चेकों में अनियमितता की शिकायतें मिल रही हैं। नुकसान के अनुसार भरपाई नहीं की जा रही है।

भाषा



comments powered by Disqus

© 1998-2015 Zee Media Corporation Ltd (An Essel Group Company), All rights reserved.